अजारक्त बस्ती

0 0
Read Time6 Minute, 6 Second

 

shil

कक्षा में रक्त के विभिन्न समूहों की चर्चा चल रह रही थी। गीता मैडम श्याम पट्ट पर रक्त की बूँदों के चित्र बनाकर ‘रक्त समूह’ के नाम लिख रही थीं। तभी सविता ने कुछ कहने के लिए हाथ उठाया और खड़ी हो गई।

`मैडम, मेरे पडौ़स में रहने वाले रोहन को कई बार अस्पताल जाना पड़ता है,खून चढ़वाने।`

हालांकि विषयांतर हुआ था,फिर भी मैडम ने सविता की जिज्ञासा शांत करने के लिए कहा-`हाँ इस बीमारी को `थैलेसीमिया’ कहते हैं। विश्व में बहुत से देशों में लोगों को यह बीमारी होती है। जरूरत के अनुसार समय-समय पर उन्हें रक्त चढ़ाया जाता है।`

तभी सीमा ने कुछ कहा,जो बहुत ही आश्चर्यजनक था।

`मैडम, मेरे दादा जी वैद्य हैं। उन्होंने मुझे बताया कि इसके बारे में आज से पाँच हज़ार वर्ष पहले महर्षि चरक ने ‘चरक संहिता’ में भी उल्लेख किया था,जो इस बीमारी का इलाज है।

मैडम को इस बात की जानकारी नहीं थी। उन्होंने तुरंत मोबाइल पर गूगल पर जानकारी देखी। बात सही थी।

गीता मैडम ने बताया-`बकरे के ख़ून में रक्त कणों की मात्रा अधिक होती है। संरचना जटिल होने के कारण रक्त कण आसानी से टूटते नहीं। बकरे के रक्त को ‘अजारक्त बस्ती’ कहा जाता है। इसे एनिमा के जरिए रोगी की बड़ी आंत तक पहुँचाया जाता है। जहाँ रक्तकणों को अवशोषित कर लिया जाता हैl भारत पहला देश है,जिसने इस इलाज में पहल की है। भारत में बहुत से बच्चों पर यह प्रयोग सफल रहा है।`

सभी लड़कियों ने आश्चर्यमिश्रित नज़रों से इस जानकारी का जरिया बनने के लिए सीमा को बधाई दी,पर मंजुला से न रहा गयाl उसने खड़े हो कर कहा-`मैडम हमारे देश की पुरानी खोजों तथा सूत्रों पर विदेशी कंपनियाँ अपना एकाधिकार जमाकर अपने नाम से पेटेंट करवा लेती हैंl क्या इस प्रक्रिया में भी ऐसा होने की संभावना है?

`होना तो नहीं चाहिएl ‘साँच को आँच क्या?’ ‘प्रत्यक्ष को प्रमाण क्या?’ इस प्रयोग के परिणाम तो दुनिया देख ही रही है.` गीता मैडम ने कहाl

और फ़िर छुट्टी की घंटी बज गईl सभी लड़कियाँ मेडिकल साइंस की इस उपलब्धि से अपने देश के लिए गौरवान्वित महसूस कर रहीं थींl  उनमें चिकित्सक बनकर सेवा करने की भावना जाग्रत हो चुकी थीl

  #शील निगम

परिचय : शील निगम  का जन्म आगरा (उ.प्र.)में १९५२ में हुआ हैl शिक्षा बीए और बीएड हैl आप कवयित्री ही नहीं,वरन पटकथा लेखिका भी हैंl मुंबई में १५ वर्ष प्रधानाचार्या तथा १० वर्ष तक हिन्दी अध्यापन कराया है l विद्यार्थी जीवन में अनेक नाटकों,लोकनृत्यों तथा साहित्यिक प्रतियोगिताओं में पुरस्कृत हुई हैंl दूरदर्शन पर काव्य-गोष्ठियों में भाग लेकर संचालन भी किया है,तथा साक्षात्कारों का प्रसारण भी हुआ हैl आकाशवाणी के मुंबई केन्द्र से रेडियो तथा ज़ी टीवी पर कहानियों का प्रसारण (परंपरा का अंत,तोहफा प्यार का और चुटकी भर सिन्दूर आदि) हुआ हैl देश-विदेश में हिन्दी के पत्र-पत्रिकाओं,पुस्तकों तथा ई-पत्रिकाओं में भी विभिन्न विषयों पर आलेख,कविताएं तथा कहानियाँ प्रकाशित हैंl विशेष रूप से इंग्लैण्ड,ऑस्ट्रेलिया तथा नीदरलैन्ड की पत्रिका में बहुत-सी कविताओं का  प्रकाशन हुआ हैl  आपकी कई कई कविताएँ पुरस्कृत हुई हैंl शील जी ने बच्चों  के लिए नृत्य- नाटिकाओं का लेखन,निर्देशन तथा मंचन भी किया हैl हिन्दी से अंग्रेज़ी तथा अंग्रेज़ी से हिन्दी अनुवाद कार्य भी आपने किया हैl हिन्दी से अंग्रेज़ी में एक फिल्म का भी अनुवाद कर चुकी हैं तो उपन्यास तथा मराठी फिल्म ‘स्पंदन’ का भी अनुवाद किया हैl हिन्दी से संबंधित बहुत से कार्यक्रमों में सहभागिता की हैl विशेष रूप से लंदन,मैनचेस्टर और बर्मिंघम में आयोजित काव्यगोष्ठियों में काव्य पाठ किया हैl  

आपको लेखनी के लिए बाबा साहब आम्बेडकर नेशनल अवार्ड(दिल्ली),हिन्दी गौरव सम्मान(लंदन),प्रतिभा सम्मान(बीकानेर)और सिद्धार्थ तथागत कला साहित्य सम्मान(सिद्धार्थ नगर) ख़ास तौर पर मिला हैl आपका निवास वर्तमान में अंधेरी(पश्चिम)मुंबई में हैl आपके साझा संकलन-अनवरत,आमने सामने,१४ काव्य रश्मियाँ,प्रेमाभिव्यक्ति,सिर्फ़ तुम और मुम्बई के कवि निकले हैंl 

matruadmin

Average Rating

5 Star
0%
4 Star
0%
3 Star
0%
2 Star
0%
1 Star
0%

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

माँ का आँचल

Tue Jun 6 , 2017
माँ तेरे आँचल में वो क्या जादू है, धूप में छाया ये कैसे देता है। ठण्ड से जब भी हुआ वेकाबू मैं, गर्मी ये मखमल-सी कैसे देता है। जी करता है लिपटकर जानूं तो, खुशबू ये आँचल की कैसे देता है। माँ तेरा आँचल है कल्प वृक्ष-सा, शीतल हवा,वो छाँव […]

पसंदीदा साहित्य

संस्थापक एवं सम्पादक

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’

29 अप्रैल, 1989 को मध्य प्रदेश के सेंधवा में पिता श्री सुरेश जैन व माता श्रीमती शोभा जैन के घर अर्पण का जन्म हुआ। उनकी एक छोटी बहन नेहल हैं। अर्पण जैन मध्यप्रदेश के धार जिले की तहसील कुक्षी में पले-बढ़े। आरंभिक शिक्षा कुक्षी के वर्धमान जैन हाईस्कूल और शा. बा. उ. मा. विद्यालय कुक्षी में हासिल की, तथा इंदौर में जाकर राजीव गाँधी प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के अंतर्गत एसएटीएम महाविद्यालय से संगणक विज्ञान (कम्प्यूटर साइंस) में बेचलर ऑफ़ इंजीनियरिंग (बीई-कंप्यूटर साइंस) में स्नातक की पढ़ाई के साथ ही 11 जनवरी, 2010 को ‘सेन्स टेक्नोलॉजीस की शुरुआत की। अर्पण ने फ़ॉरेन ट्रेड में एमबीए किया तथा एम.जे. की पढ़ाई भी की। उसके बाद ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियाँ’ विषय पर अपना शोध कार्य करके पीएचडी की उपाधि प्राप्त की। उन्होंने सॉफ़्टवेयर के व्यापार के साथ ही ख़बर हलचल वेब मीडिया की स्थापना की। वर्ष 2015 में शिखा जैन जी से उनका विवाह हुआ। वे मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष भी हैं और हिन्दी ग्राम के संस्थापक भी हैं। डॉ. अर्पण जैन ने 11 लाख से अधिक लोगों के हस्ताक्षर हिन्दी में परिवर्तित करवाए, जिसके कारण वर्ल्ड बुक ऑफ़ रिकॉर्डस, लन्दन द्वारा विश्व कीर्तिमान प्रदान किया गया।