साँसे दे दूंगा

0 0
Read Time51 Second

दिल करता है मेरा,
जिंदगी तुझे दे दू।
जिंदगी की सारी
खुशी तुझे दे दू।
दे दे अगर तू मुझे,
भरोसा अपने दिलका।
यकीन करले तू मेरा,
दे दूंगा अपनी साँसे।।

दिया है अब तक साथ,
आगे भी उम्मीद रखता हूँ।
तेरे जैसे दोस्त को,
अपने दिलमें रखता हूँ।
और यकीनन दिलसे
तुम्हें प्यार मैं करता हूँ।
इसलिए हमसफर अपना
तुम्हें बनाना चाहता हूँ।।

दिल की धड़कन में
तुम ही तुम बसते हो।
मेरी हर सांसो में अब
तुम ही तुम धड़कते हो।
मैं कैसे कहूँ तुम से
मेरी साँसे तुम हो।
नहीं दिखोगें जिस दिन
वो मेरा आखरी दिन होगा।।

जय जिनेंद्र देव
संजय जैन मुंबई

matruadmin

Next Post

गणतंत्र

Mon Jan 25 , 2021
दुनिया करती है उस राष्ट्र का सम्मान जिसके पास होता है अपना संविधान जनता में समाहित होती है जब सत्ता तब किसी देश का गणतंत्र है बनता भारत भी हुआ था तब पूर्ण स्वतंत्र मनाया था इसने जब दिवस गणतंत्र स्वतंत्रता से भी अधिक करनी पड़ी थी प्रतीक्षा भेदभाव भुलाकर […]

संस्थापक एवं सम्पादक

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’

29 अप्रैल, 1989 को मध्य प्रदेश के सेंधवा में पिता श्री सुरेश जैन व माता श्रीमती शोभा जैन के घर अर्पण का जन्म हुआ। उनकी एक छोटी बहन नेहल हैं। अर्पण जैन मध्यप्रदेश के धार जिले की तहसील कुक्षी में पले-बढ़े। आरंभिक शिक्षा कुक्षी के वर्धमान जैन हाईस्कूल और शा. बा. उ. मा. विद्यालय कुक्षी में हासिल की, तथा इंदौर में जाकर राजीव गाँधी प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के अंतर्गत एसएटीएम महाविद्यालय से संगणक विज्ञान (कम्प्यूटर साइंस) में बेचलर ऑफ़ इंजीनियरिंग (बीई-कंप्यूटर साइंस) में स्नातक की पढ़ाई के साथ ही 11 जनवरी, 2010 को ‘सेन्स टेक्नोलॉजीस की शुरुआत की। अर्पण ने फ़ॉरेन ट्रेड में एमबीए किया तथा एम.जे. की पढ़ाई भी की। उसके बाद ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियाँ’ विषय पर अपना शोध कार्य करके पीएचडी की उपाधि प्राप्त की। उन्होंने सॉफ़्टवेयर के व्यापार के साथ ही ख़बर हलचल वेब मीडिया की स्थापना की। वर्ष 2015 में शिखा जैन जी से उनका विवाह हुआ। वे मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष भी हैं और हिन्दी ग्राम के संस्थापक भी हैं। डॉ. अर्पण जैन ने 11 लाख से अधिक लोगों के हस्ताक्षर हिन्दी में परिवर्तित करवाए, जिसके कारण वर्ल्ड बुक ऑफ़ रिकॉर्डस, लन्दन द्वारा विश्व कीर्तिमान प्रदान किया गया।