रिकॉर्ड रजिस्टर

Read Time0Seconds

नील की खेती में कुछ गधे एक घोड़ी के साथ घुसकर खच्चरों की संख्या बढ़ाने की कोशिशों में फसल का सत्यानाश कर रहे थे। जिस सिपाही को वहाँ की देखभाल के लिए तैनात किया गया था उसे दफेदार के आदेश के बगैर अपनी मर्जी से कुछ करने पर मनाही थी। इसलिए उसने फौरन ये बात दफेदार को बता दी और अगला हुकुम मिलने की प्रतीक्षा करने लगा।

जिस सिपाही को वहाँ की देखभाल के लिए रखा गया था। उसकी ड्यूटी तो यही थी कि वो खेती की देखभाल करे पर वह अपनी मर्जी से कुछ न करे इस बात का भी पूरा ध्यान रखा गया था। ऐसा आदेश तब जारी किया गया था जब सिपाही ने खेत में घुस आई एक भैंस को अपनी ड्यूटी समझकर भगा दिया था और बाद में पता चला कि वो भैंस वहाँ के दरोगा की थी। तब इस बात को लेकर वहाँ के दफेदार और जमीदार को काफी फजीहत झेलनी पड़ी थी। इसके बाद वहाँ के सूरमा ने ऐसा आदेश जारी किया कि उससे पूछे बगैर एक तिनका भी इधर से उधर न किया जाय।

हाथ दफेदार के भी ऊपरी फरमान से बंधे थे। हर बात की रिपोर्ट उन्हें भी अपने सीनियर को देनी थी नहीं तो सर्विस के सालाना रिपोर्ट में कम पॉइंट आने का खतरा था। इसलिए दफेदार ने इस बात की रिपोर्ट जमीदार को लगाई। उसके बाद जमीदार ने ये बात दीवान को बताई। दीवान की बात अब इलाके के सूरमा तक पहुंचनी थी। लेकिन दीवान इतनी सी रिपोर्ट से संतुष्ट न थे इसलिए उन्होंने जमींदार को और ब्यौरे के साथ आने का आदेश दिया।

गधे हैं तो कितने गधे हैं? कितने गधे काले हैं कितने लाल हैं या कितने सफेद? वो घोड़ी के साथ हैं तो घोड़ी उन्हें कहाँ मिली? और मिली भी तो वो किस रास्ते से खेती में घुसे। उनमें से पालतू कितने हैं जंगली कितने हैं? और अगर वो पालतू हैं तो किसके हैं। जिसके भी हैं उनके बाप का नाम क्या है? वे किस गांव के हैं आदि आदि।

महीनों तक वे इधर उधर सिपाहियों को भेजकर पूरे आंकड़े इकट्ठा करवाते रहे। फिर पूरी तरह संतुष्ट होने के बाद सब कुछ टाइप करवाकर दीवान के सामने उपस्थित हो गये।

दीवान जी अब आये हुए आंकड़ों से तो संतुष्ट थे पर कागज में तमाम व्याकरणिक अशुद्धियां थीं जिसे उन्होंने अपने मुंशी के साथ मिलकर दो चार दिन में फाइनल कर लिया।

इस प्रकार गधों के घुस आने की रिपोर्ट अपना चैनल फॉलो करते हुए धीरे धीरे सूरमा तक पहुंच ही गई। लेकिन तब तक नील की खेती का सीजन समाप्त हो चुका था। खेत पूरे खाली हो चुके थे। अब खाली खेतों में घोड़े घूमें या गधे क्या फर्क पड़ता है।

इसलिए ऐसी रिपोर्ट सुनकर सूरमा पहले तो खूब हंसे फिर सिपाही और दफेदार को तलब किया।

”तुम्हें यही फालतू की रिपोर्ट देने के लिए वहाँ रखा गया है क्या?” सूरमा ने दफेदार के आते ही उसे डांटते हुए पूछा।

सूरमा के सामने जाते ही दफेदार की सिट्टी-पिट्टी वैसे ही गुम हो जाती थी। उसका बचा खुचा आदमित्व भी अब डांट खाकर गुम हो गया। अब वो सूरमा के सामने खड़ा अब शुद्ध सरकारी आदमी था। उसने अपने पैर के साथ साथ अब हाथ भी जोड़ लिया था और एक आभासी दुम भी बार बार हिला रहा था।

“सरकार मैंने आज ही चार्ज लिया है इसलिए मुझे इस बारे में कुछ नहीं पता लेकिन मेरे देख रेख में कभी ऐसी गलती नहीं होगी इस बात का मैं आपको भरोसा दिलाता हूँ।”

दफेदार की इजहारे मजबूरी और डरा हुआ चेहरा देखकर सूरमा को अंदर ही अंदर काफी खुशी महसूस हुई उसके बाद उन्होंने उसे जाने दिया।

दफेदार जितनी गालियां ऊपर से खाकर आया था उसका हजार गुना करके सिपाही को दिया फिर काफी सोच विचार के बाद ये फैसला लिया कि अब से खेत मे आये जानवरों का रिकार्ड रखने के लिए एक रजिस्टर खोला जाएगा। जिसको भरने की जवाबदारी वहाँ पर तैनात सिपाही की होगी और हर महीने उस रजिस्टर का इंस्पेक्सन हायर हेडक्वाटर से भी कराया जाएगा।

पाठकों को ये जानकर अपार खुशी होगी कि ये कहानी अंग्रेजों के जमाने की है। नील की खेती की जगह अब वोटों की खेती होने लगी। जमींदार, दफेदार आदि पदों के नाम भी बदल गये पर वो रजिस्टर अब तक भरा ही जा रहा है।

चित्रगुप्त

ग्राम जलालपुरपोस्ट कुरसहाजिला बहराइचउत्तर प्रदेश

0 0

matruadmin

Next Post

हिन्दुस्तानी को राष्ट्रभाषा का सम्मान देने वाले पहले राष्ट्राध्यक्ष: नेताजी सुभाषचंद्र बोस

Sat Jan 23 , 2021
ओड़िशा के कटक में 23 जनवरी 1897 को जन्मे, कटक और कलकत्ता में पले-बढ़े, पिता की इच्छापूर्ति के लिए मात्र 23 वर्ष की आयु में आईसीएस पास करने वाले किन्तु अंग्रेजों की चाकरी करने को तैयार न होने के कारण उससे त्यागपत्र देने वाले, आजादी के लिए लड़ते हुए ग्यारह […]

You May Like

Founder and CEO

Dr. Arpan Jain

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ इन्दौर (म.प्र.) से खबर हलचल न्यूज के सम्पादक हैं, और पत्रकार होने के साथ-साथ शायर और स्तंभकार भी हैं। श्री जैन ने आंचलिक पत्रकारों पर ‘मेरे आंचलिक पत्रकार’ एवं साझा काव्य संग्रह ‘मातृभाषा एक युगमंच’ आदि पुस्तक भी लिखी है। अविचल ने अपनी कविताओं के माध्यम से समाज में स्त्री की पीड़ा, परिवेश का साहस और व्यवस्थाओं के खिलाफ तंज़ को बखूबी उकेरा है। इन्होंने आलेखों में ज़्यादातर पत्रकारिता का आधार आंचलिक पत्रकारिता को ही ज़्यादा लिखा है। यह मध्यप्रदेश के धार जिले की कुक्षी तहसील में पले-बढ़े और इंदौर को अपना कर्म क्षेत्र बनाया है। बेचलर ऑफ इंजीनियरिंग (कम्प्यूटर साइंस) करने के बाद एमबीए और एम.जे.की डिग्री हासिल की एवं ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियों’ पर शोध किया है। कई पत्रकार संगठनों में राष्ट्रीय स्तर की ज़िम्मेदारियों से नवाज़े जा चुके अर्पण जैन ‘अविचल’ भारत के २१ राज्यों में अपनी टीम का संचालन कर रहे हैं। पत्रकारों के लिए बनाया गया भारत का पहला सोशल नेटवर्क और पत्रकारिता का विकीपीडिया (www.IndianReporters.com) भी जैन द्वारा ही संचालित किया जा रहा है।लेखक डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं तथा देश में हिन्दी भाषा के प्रचार हेतु हस्ताक्षर बदलो अभियान, भाषा समन्वय आदि का संचालन कर रहे हैं।