नेता जी तुम्हें नमन

Read Time0Seconds

नेता जी सुभाषचंद्र बोस जयंती विशेष

है नमन तुम्हें नमन ,
नेता जी तुम्हें नमन।
माँ भारती के लाल को,
शत शत बार है नमन।

रग रग में देशभक्ति की,
रसधार है बहे।
सुभाष तेरी वीरता का,
कोई सार क्या कहे?

ना रास आई तुमको,
गुलामी देश की।
की कल्पना थी तुमने,
आज़ाद देश की।

जलियावाला कांड,
दहला गया तुम्हें।
जीने का नया लक्ष्य,
बता गया तुम्हें।

बस रक्त मुझे दे दो,
आज़ादी मैं दूंगा।
आज़ाद होगी माता,
मैं दम तभी लूंगा।

है डर नहीं मुझे किसी,
माई के लाल का।
है दूध पिया मैनें भी ,
अपनी मात का।

डाले जो नज़र बुरी,
निकालूँ आँख वो।
छुए जो माँ का आँचल,
मैं काटूँ हाथ वो।

जय हिन्द मेरा नारा है,
और हिन्द मेरी जान।
बहा के रक्त अपना ,
बचाऊँ इसकी शान।

आज़ाद हिंद फौज के,
हम जवान हैं।
माँ भारती की रक्षा को,
लुटाते जान हैं

फिरंगियों उनकी हम,
औकात बताएंगे।
दुश्मनों का चीर सीना,
अपना दम दिखाएंगे।

सुभाष क्या खूब थी,
तेरी हर अदा।
गाथा तुम्हारे शौर्य की,
रहेगी अमर सदा।

स्वरचित
सपना (स. अ.)
जनपद-औरैया

0 0

matruadmin

Next Post

प्रभु याद

Sat Jan 23 , 2021
हर दिन हमारा शुभ है जब तक रहे प्रभु याद प्रभु ही है पिता हमारे फिर क्यो करे फरियाद पालन पोषण करते प्रभु रखते हमारा ख्याल जन्म से पहले कर देते प्रभु भूख का इंतजाम हवा,पानी,अन्न,आश्रय दिया प्रभु ने हमे उपहार चाहिए ओर क्या हमको बस करे प्रभु से प्यार […]

Founder and CEO

Dr. Arpan Jain

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ इन्दौर (म.प्र.) से खबर हलचल न्यूज के सम्पादक हैं, और पत्रकार होने के साथ-साथ शायर और स्तंभकार भी हैं। श्री जैन ने आंचलिक पत्रकारों पर ‘मेरे आंचलिक पत्रकार’ एवं साझा काव्य संग्रह ‘मातृभाषा एक युगमंच’ आदि पुस्तक भी लिखी है। अविचल ने अपनी कविताओं के माध्यम से समाज में स्त्री की पीड़ा, परिवेश का साहस और व्यवस्थाओं के खिलाफ तंज़ को बखूबी उकेरा है। इन्होंने आलेखों में ज़्यादातर पत्रकारिता का आधार आंचलिक पत्रकारिता को ही ज़्यादा लिखा है। यह मध्यप्रदेश के धार जिले की कुक्षी तहसील में पले-बढ़े और इंदौर को अपना कर्म क्षेत्र बनाया है। बेचलर ऑफ इंजीनियरिंग (कम्प्यूटर साइंस) करने के बाद एमबीए और एम.जे.की डिग्री हासिल की एवं ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियों’ पर शोध किया है। कई पत्रकार संगठनों में राष्ट्रीय स्तर की ज़िम्मेदारियों से नवाज़े जा चुके अर्पण जैन ‘अविचल’ भारत के २१ राज्यों में अपनी टीम का संचालन कर रहे हैं। पत्रकारों के लिए बनाया गया भारत का पहला सोशल नेटवर्क और पत्रकारिता का विकीपीडिया (www.IndianReporters.com) भी जैन द्वारा ही संचालित किया जा रहा है।लेखक डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं तथा देश में हिन्दी भाषा के प्रचार हेतु हस्ताक्षर बदलो अभियान, भाषा समन्वय आदि का संचालन कर रहे हैं।