किसान सड़कों पर

0 0
Read Time1 Minute, 45 Second

कृषक चर्चा में
मास भर से
आन्दोलन धरना प्रदर्शन में
पहली बार नहीं
इससे पूर्व भी कई बार
आखिर क्यों
किसलिए ?
अब और तब
आ जाना पड़ जाता है
सड़क पर
कहलाता अन्नदाता
आधार निवाले का
पर, किन्तु ,परन्तु ,लेकिन-वेकिन
सब इसके हितैषी
बड़े-बड़े बोल बोलने वाले
तथाकथित अपना रास्ता भी
निकाल लेने वाले
जिनको कहते मध्यस्थ
व्यापार कर लेने वाले,
सम्मान-पुरस्कार पा चुके
देश-देशान्तर में
हर तरह के आयोगों,दलों,संगठनों के
माननीय सबके सब
इनके साथ
परिणाम ढाक के तीन पात
और
किसान सड़कों पर ।
आजादी के सात दशक बीते
समय कम नहीं
अनेक आए-गए
किसान के सपने रीते ,
कुछ कर सकने का अवसर मिला
लेकिन स्थिति ज्यों की त्यों ?
किसान सड़कों पर,
अभी नही तो कभी नहीं
मानकर
समाधान देना होगा
उत्तर देना होगा
उन सवालों का
जिनसे किसान सड़कों पर
आम जनता हो,व्यापारी,अधिकारी
राजनेता अथवा कर्मचारी
जबाब देही सबकी
आखिर किसान सड़कों पर,
अपने स्वार्थ को परार्थ में बदलने
हर तरह के लोभ से बाहर निकलने
देश के लिए समाज के लिए
समाज की रीढ़ कहे जाने वाले के लिए
समय को समझकर
ऐसा कर जाओ कि
किसान न आए
कभी सड़कों पर
जी हां कभी सड़कों पर ।

शशांक मिश्र भारती
बड़ागांव शाहजहांपुर

matruadmin

Next Post

भारतीय राजनीति के अजातशत्रु "अटल बिहारी वाजपेयी"

Thu Dec 24 , 2020
आज 25 दिसंबर को पूरे भारतवर्ष में जहाँ एक ओर क्रिसमस का त्यौहार मनाया जा रहा है वहीं दूसरी ओर भारतीयों के दिलों पर राज करने वाले राजनीति के अजातशत्रु अटल जी का जन्मदिन भी हर्षोल्लास से मनाया जा रहा है। सभी धर्मों से पहले राष्ट्रधर्म और राजधर्म को मानने […]

पसंदीदा साहित्य

संस्थापक एवं सम्पादक

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’

29 अप्रैल, 1989 को मध्य प्रदेश के सेंधवा में पिता श्री सुरेश जैन व माता श्रीमती शोभा जैन के घर अर्पण का जन्म हुआ। उनकी एक छोटी बहन नेहल हैं। अर्पण जैन मध्यप्रदेश के धार जिले की तहसील कुक्षी में पले-बढ़े। आरंभिक शिक्षा कुक्षी के वर्धमान जैन हाईस्कूल और शा. बा. उ. मा. विद्यालय कुक्षी में हासिल की, तथा इंदौर में जाकर राजीव गाँधी प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के अंतर्गत एसएटीएम महाविद्यालय से संगणक विज्ञान (कम्प्यूटर साइंस) में बेचलर ऑफ़ इंजीनियरिंग (बीई-कंप्यूटर साइंस) में स्नातक की पढ़ाई के साथ ही 11 जनवरी, 2010 को ‘सेन्स टेक्नोलॉजीस की शुरुआत की। अर्पण ने फ़ॉरेन ट्रेड में एमबीए किया तथा एम.जे. की पढ़ाई भी की। उसके बाद ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियाँ’ विषय पर अपना शोध कार्य करके पीएचडी की उपाधि प्राप्त की। उन्होंने सॉफ़्टवेयर के व्यापार के साथ ही ख़बर हलचल वेब मीडिया की स्थापना की। वर्ष 2015 में शिखा जैन जी से उनका विवाह हुआ। वे मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष भी हैं और हिन्दी ग्राम के संस्थापक भी हैं। डॉ. अर्पण जैन ने 11 लाख से अधिक लोगों के हस्ताक्षर हिन्दी में परिवर्तित करवाए, जिसके कारण वर्ल्ड बुक ऑफ़ रिकॉर्डस, लन्दन द्वारा विश्व कीर्तिमान प्रदान किया गया।