पहचान

Read Time0Seconds
rishabh
भूख की पीड़ा को सहता गया,
कर्म के मर्म को स्पर्श करता गया,
मैं  हूँ `किसान`..
अन्नदाता की पदवी को ढोता गया,
क्षुधित बेटी को पुचकारता गया,
मैं हूँ `किसान`l
आधुनिकीरण की बलि चढ़ता गया,
जमीन में सीमेंट के जंगल बोता गया,
मैं हूँ `किसान`..
दामाद को खरीदता गया,
बेटे को बेचता गया,
मैं हूँ `किसान`l
दवाइयों के कर्ज से दबता गया,
यूरिया की कतार में मरता गया,
मैं हूँ `किसान`..
खुद को प्यासा रखता गया,
जलाभिषेक करता गया,
मैं हूँ `किसान`l
विकास की दौड़ में छलाता गया,
`किसान` से `मजदूर` बनता गया,
मैं  हूँ ………???
                                                                            #ऋषभ एस.स्थापक
 
परिचय : छिंदवाड़ा (मध्यप्रदेश)निवासी ऋषभ एस. स्थापक विभिन्न विषयों पर शौक से कलम चलाते हैं। आप कलेक्टर कार्यालय के महिला एवं बाल विकास विभाग (छिंदवाड़ा)में कार्यरत हैं । 22वर्ष आपकी आयु है।
0 0

matruadmin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

The Promo of Your Business by Writing a Case Review

Sat May 20 , 2017
The Promo of Your Business by Writing a Case Review Producing scenario studies are usually utilized in promotion for any business. You could hire a author for this in special services or make everything on your own. Post Views: 123

Founder and CEO

Dr. Arpan Jain

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ इन्दौर (म.प्र.) से खबर हलचल न्यूज के सम्पादक हैं, और पत्रकार होने के साथ-साथ शायर और स्तंभकार भी हैं। श्री जैन ने आंचलिक पत्रकारों पर ‘मेरे आंचलिक पत्रकार’ एवं साझा काव्य संग्रह ‘मातृभाषा एक युगमंच’ आदि पुस्तक भी लिखी है। अविचल ने अपनी कविताओं के माध्यम से समाज में स्त्री की पीड़ा, परिवेश का साहस और व्यवस्थाओं के खिलाफ तंज़ को बखूबी उकेरा है। इन्होंने आलेखों में ज़्यादातर पत्रकारिता का आधार आंचलिक पत्रकारिता को ही ज़्यादा लिखा है। यह मध्यप्रदेश के धार जिले की कुक्षी तहसील में पले-बढ़े और इंदौर को अपना कर्म क्षेत्र बनाया है। बेचलर ऑफ इंजीनियरिंग (कम्प्यूटर साइंस) करने के बाद एमबीए और एम.जे.की डिग्री हासिल की एवं ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियों’ पर शोध किया है। कई पत्रकार संगठनों में राष्ट्रीय स्तर की ज़िम्मेदारियों से नवाज़े जा चुके अर्पण जैन ‘अविचल’ भारत के २१ राज्यों में अपनी टीम का संचालन कर रहे हैं। पत्रकारों के लिए बनाया गया भारत का पहला सोशल नेटवर्क और पत्रकारिता का विकीपीडिया (www.IndianReporters.com) भी जैन द्वारा ही संचालित किया जा रहा है।लेखक डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं तथा देश में हिन्दी भाषा के प्रचार हेतु हस्ताक्षर बदलो अभियान, भाषा समन्वय आदि का संचालन कर रहे हैं।