सूची, अनुसूची और साहित्य अकादमी के पुरस्कार !

3 0
Read Time4 Minute, 51 Second

साहित्य अकादमी के पुरस्कार पाने की होड़ एक और संविधान की अष्टम अनुसूची में स्थान पाने की होड़ का रूप ले रही है तो दूसरी ओर कुछ बोलियाँ साहित्य अकादमी की मान्यता के आधार पर अष्टम अनुसूची में स्थान पाना चाहती हैं। इस प्रकार संघ की राजभाषा हिंदी सहित भविष्य में अन्य भारतीय भाषाओं को विघटन की ओर ले जाती दिखती हैं।

अनेक बोलियों के साहित्यकारों का कहना है कि अष्टम अनुसूची में न होने से उन बोलियों में लिखे जानेवाले श्रेष्ठ साहित्य की कोई पूछ नहीं, उन्हें कोई सम्मान नहीं मिलता। एकदम सही बात है। इसका विश्लेषण जरूरी है। यदि हम 2011 के जनगणना के आंकड़ों को भी लें तो हम पाते हैं कि हिंदी क्षेत्र की कई बोलियों को बोलने वालों की संख्या करोड़ों में है, उनमें कुछ उन्नत साहित्य भी रचा जा रहा है। लेकिन उसे पूछनेवाला कोई नहीं है। जो अष्टम अनुसूची में होगा, कैसा भी साहित्य हो, उसे पुरस्कार मिलेगा। भले ही उसके बोलने वालों की संख्या कितनी ही कम क्यों न हो, कैसा ही साहित्य हो। जो अष्टम अनुसूची में नहीं होगा उसे पुरस्कार नहीं मिलेगा, भले ही उसके बोलने वालों की संख्या बहुत ज्यादा क्यों न हो, श्रेष्ठ साहित्य ही क्यों न हो। 2011 की जनगणना के अनुसार बोडो 0.12%, मणिपुरी 0.15 %, कोकणी 0.19 %, डोंगरी 0.21%, सिंधी 0.23%, नेपाली 0.24%, कश्मीरी 0.56%, संथाली 0.61% ये सब 1% से काफी कम है। जबकि हिंदी और इसकी बोलियों सहित हिंदी भाषी 43.6 प्रतिशत उसके लिए भी एक ही पुरस्कार, बोली साहित्य की कोई पूछ नहीं। यानी अष्टम अनुसूची में आने पर पुरस्कार का रास्ता खुल जाता है। ऐसे में असंतोष तो होगा ही। अष्टम अनुसूची में आने की लड़ाई तो होगी ही, स्वभाविक है।

एक बहुत बड़े झगड़े की जड़ हैं साहित्य अकादमी के पुरस्कार। जो श्रेष्ठ साहित्य से अधिक महत्व संविधान की अष्टम अनुसूची और अपने द्वारा बनाई गई बोली-भाषाओं की सूची को देती है। आश्चर्य की बात यह कि अनेक बोलियों, उपबोलियों में निहित श्रेष्ठ साहित्य को प्रतियोगिता से बाहर रखा जाता है और चुपके से अंग्रेजी को गोद में बैठा लिया जाता है। साहित्य अकादमी को इन तमाम बिंदुओं पर गहन विचार मंथन करना चाहिए ताकि सूचियों और अनसूचियों के जाल में श्रेष्ठ साहित्य की उपेक्षा या सतही साहित्य को पुरस्कृत न किया जाए। इसके लिए साहित्य अकादमी जैसे पुरस्कारों को अष्टम अनुसूची या अन्य किसी सूची से पूरी तरह अलग कर दिया जाना चाहिए। साहित्य अकादमी जितने भी पुरस्कार देना चाहती है वह दे, किसी अनुसूची को ध्यान में रखकर नहीं, बल्कि श्रेष्ठ साहित्य को ध्यान में रखकर। फिर वह श्रेष्ठ साहित्य देश की किसी भी भाषा, बोली, या उप बोली में ही क्यों न हो। साहित्य का पुरस्कार श्रेष्ठता के कारण मिले, न कि किसी भाषा बोली के किसी सूची में होने के चलते। बड़ी से बड़ी भाषा बोली में यदि श्रेष्ठ साहित्य नहीं लिखा गया तो पुरस्कार नहीं मिलना चाहिए, अगर किसी छोटी से छोटी बोली या उपबोली आदि में भी श्रेष्ठ साहित्य है तो उसे सम्मान मिलना चाहिए। यही न्याय संगत है, यही होना चाहिए। संस्कृति मंत्रालय को भी इस पर विचार करना चाहिए।

डॉ. एम.एल. गुप्ता ‘आदित्य’

निदेशक, वैश्विक हिंदी सम्मेलन

matruadmin

Next Post

बलिया बवाल कई सवाल!

Sun Oct 18 , 2020
वाह रे सियासत सत्ता की छांव में सब कुछ संभव है सत्ता की हनक के नीचे बड़े-बड़े अधिकारी मूक-दर्शक मात्र बनकर रह जाते हैं। यह एक ऐसा सत्य है जोकि जग जाहिर है। समय-समय पर ऐसा सदैव ही देखा गया है। कभी वही प्रशासन बहुत ही तेज तर्रार रूप रेखा […]

संस्थापक एवं सम्पादक

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’

29 अप्रैल, 1989 को मध्य प्रदेश के सेंधवा में पिता श्री सुरेश जैन व माता श्रीमती शोभा जैन के घर अर्पण का जन्म हुआ। उनकी एक छोटी बहन नेहल हैं। अर्पण जैन मध्यप्रदेश के धार जिले की तहसील कुक्षी में पले-बढ़े। आरंभिक शिक्षा कुक्षी के वर्धमान जैन हाईस्कूल और शा. बा. उ. मा. विद्यालय कुक्षी में हासिल की, तथा इंदौर में जाकर राजीव गाँधी प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के अंतर्गत एसएटीएम महाविद्यालय से संगणक विज्ञान (कम्प्यूटर साइंस) में बेचलर ऑफ़ इंजीनियरिंग (बीई-कंप्यूटर साइंस) में स्नातक की पढ़ाई के साथ ही 11 जनवरी, 2010 को ‘सेन्स टेक्नोलॉजीस की शुरुआत की। अर्पण ने फ़ॉरेन ट्रेड में एमबीए किया तथा एम.जे. की पढ़ाई भी की। उसके बाद ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियाँ’ विषय पर अपना शोध कार्य करके पीएचडी की उपाधि प्राप्त की। उन्होंने सॉफ़्टवेयर के व्यापार के साथ ही ख़बर हलचल वेब मीडिया की स्थापना की। वर्ष 2015 में शिखा जैन जी से उनका विवाह हुआ। वे मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष भी हैं और हिन्दी ग्राम के संस्थापक भी हैं। डॉ. अर्पण जैन ने 11 लाख से अधिक लोगों के हस्ताक्षर हिन्दी में परिवर्तित करवाए, जिसके कारण वर्ल्ड बुक ऑफ़ रिकॉर्डस, लन्दन द्वारा विश्व कीर्तिमान प्रदान किया गया।