लाल-लाल लट्टू नचाने वाला…..

2 0
Read Time4 Minute, 41 Second

वक्त के साथ जमाना बदला और बदल गए बच्चों के सारे खेल भी। गुल्ली डंडा, आँख मिचौली, लट्टू नचाने से होते हुए विडियो गेम को पार कर जानलेवा मोबाइल गेम तक आ गए हैं हम। न केवल खेलों का स्वरूप बदला है बल्कि समाज के स्वरूप में भी आमूल चूल परिवर्तन आया है। मनोरंजन, संगीत, कला और साहित्य सब बदले हैं। जिस साहित्य को समाज का आईना होना है वह भी समाज से नाता तोड़ता हुआ सा देखा जा सकता है। आँखों पर गांधारी वाली पट्टी बाँधे दिशाहीन दौड़ रहा है।

साहित्य की अन्य विधाओं को छोड़ भी दें तो कविता और उसको पढ़ते मुखर कवियों का असर फौरन पड़ता है समाज पर। महाकवि चंदबरदाई ने “चार बाँस चौबीस गज, अंगुल अष्ट प्रमाण, ता ऊपर सुल्तान है, अब न चूक चौहान,” ने पल भर में क्रूर परिस्थिति को अपने अनुकूलकर दिया। श्रृंगार के महाकवि बिहारी का दोहा, “नहिं पराग नहिं मधुर मधु, नहिं पराग इह काल, अली कली ही सौं बध्यो, आगे कौन हवाल,” ने राज्य की तकदीर बदल दी। गोस्वामी तुलसी दास के राम-भरत मिलाप प्रसंग के गायन ने शक्ति सिंह का हृदय बदल दिया। संत कबीर, महाकवि भूषण, रहीम, माखन लाल चतुर्वेदी, दिनकर, वंकिम चन्द्र चटर्जी, बिस्मिल, सुभद्रा कुमारी चौहान और श्यामनारायण पांडेय, रामनरेश, निराला जैसे कवि समाज में क्रांतिकारी परिवर्तन करने में सक्षम थे। अंग्रेजी हुकूमत के विरुद्ध क्रांति में ” इंकलाब-जिंदाबाद”, बंदे-मातरम”, “सर फरोशी की तमन्ना”, “लाल- लाल लट्टू” आदि कविताओं/नारों ने महत्वपूर्ण भूमिका निभाई।

आजादी से पूर्व कवियों का निर्विवाद सर्वप्रमुख कर्त्तव्य सत्ता के विरोध को प्रबल करके सत्ता को नास्ति ना बूँद करना था। 1947 में यह सफलता भी हाथ लगी और उसके बाद अपनी सरकार गठित करने का अधिकार मिला। लेकिन अधिकांश कवि शोषक सरकार और अपनी सरकार में भेद ही नहीं कर पाये। कदाचित इसमें सत्ता की अंग्रेजियत भी आड़े आई हो। तभी तो कोई शायर मजबूर होकर कहा होगा कि, “तब्दीलियाँ हो गई हैं कुछ इंकलाब से, कुछ नाम हट गए हैं पुरानी किताब से,” अर्थात् कवियों ने कुछ बड़ा परिवर्तन होते नहीं देखा। इसलिए कवि अपने पुराने काम में लगे रहे, संघर्ष करते रहे। कुछ चालीसा लिखने वाले सरकारी मेहमान खाने पर कब्जा जमाये रहे। इन सबके बावजूद भी कवियों को व्यापक दृष्टिकोण अपनाना चाहिए। सत्ता को सही मार्गदर्शन देना चाहिए। यह नहीं भूलना चाहिए कि अब कि सरकारें लोकतन्त्रात्मक प्रणाली से हमारे द्वारा चुनी जाती हैं। हम उसके अंश होते हैं। उनको सही राह दिखाना हमारा दायित्व है। गलत का विरोध और सही के समर्थन के लिए भी कवियों को सदैव लेखनी लेकर तैयार रहना चाहिए।

फिरंगी हुक्मरानों को चुनौती देते हुए किसी कवि ने कहा था कि, “लाल लाल लट्टू नचाने वाला कौन है, धरती माता सो गई, जगाने वाला कौन है।” इस कविता का इतना असर हुआ कि छोटे छोटे बच्चे भी लाल लाल लट्टू में अंग्रेजों की छवि देखकर उनको नचाते थे। अब समय बदल गया है। देश की आवश्यकताएँ और अपेक्षाएँ बदल गई हैं। इक्कीसवीं सदी का पाँचवाँ भाग बीत चुका है। कवि लोग “जय जवान, जय किसान, जय विज्ञान” को ध्यान में रखकर सोये देश को जगायें और विकास के पथ पर सरपट दौड़ने में मदद करें।

डॉ अवधेश कुमार अवध

matruadmin

Next Post

व्यस्कों के लिए शिक्षा

Wed Sep 30 , 2020
शशांक मिश्र भारती बड़ागांव शाहजहांपुर (उ0प्र0) Post Views: 48

पसंदीदा साहित्य

संस्थापक एवं सम्पादक

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’

29 अप्रैल, 1989 को मध्य प्रदेश के सेंधवा में पिता श्री सुरेश जैन व माता श्रीमती शोभा जैन के घर अर्पण का जन्म हुआ। उनकी एक छोटी बहन नेहल हैं। अर्पण जैन मध्यप्रदेश के धार जिले की तहसील कुक्षी में पले-बढ़े। आरंभिक शिक्षा कुक्षी के वर्धमान जैन हाईस्कूल और शा. बा. उ. मा. विद्यालय कुक्षी में हासिल की, तथा इंदौर में जाकर राजीव गाँधी प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के अंतर्गत एसएटीएम महाविद्यालय से संगणक विज्ञान (कम्प्यूटर साइंस) में बेचलर ऑफ़ इंजीनियरिंग (बीई-कंप्यूटर साइंस) में स्नातक की पढ़ाई के साथ ही 11 जनवरी, 2010 को ‘सेन्स टेक्नोलॉजीस की शुरुआत की। अर्पण ने फ़ॉरेन ट्रेड में एमबीए किया तथा एम.जे. की पढ़ाई भी की। उसके बाद ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियाँ’ विषय पर अपना शोध कार्य करके पीएचडी की उपाधि प्राप्त की। उन्होंने सॉफ़्टवेयर के व्यापार के साथ ही ख़बर हलचल वेब मीडिया की स्थापना की। वर्ष 2015 में शिखा जैन जी से उनका विवाह हुआ। वे मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष भी हैं और हिन्दी ग्राम के संस्थापक भी हैं। डॉ. अर्पण जैन ने 11 लाख से अधिक लोगों के हस्ताक्षर हिन्दी में परिवर्तित करवाए, जिसके कारण वर्ल्ड बुक ऑफ़ रिकॉर्डस, लन्दन द्वारा विश्व कीर्तिमान प्रदान किया गया।