एक ख़त पुराने दोस्तों के नाम

Read Time0Seconds

क्या करे तुम्हारे घर आकर हम,
अब तो याद नहीं करते हमे तुम।

हम सदा आते थे,जब कभी बुलाते थे तुम,
अब बुलाना छोड़ दिया,अब आए क्यो हम।

याद करते रहते है हम ये जानते हो तुम,
हिचकियां आती रहती है ये जानते है हम।

ये मेरा घर नहीं है,तुम्हारा है ये अब घर,
बुलाने की क्या जरूरत है आ जाओ तुम।

दिल से हक दिया तुमने,इसलिए जताते हम,
अगर मिलता नहीं ये हक,क्यो जताते तुम्हे हम।

हम तो खिलखिलाते है,पर खिलखिलाते नहीं तुम,
अगर एक बार खिलखिला दो मुस्करा देगे हम।।

आर के रस्तोगी
गुरुग्राम

0 0

matruadmin

Next Post

महादेवी ने राखी बांधी सूर्यकांत निराला चालीसा

Sun Aug 2 , 2020
शारद सुत को नमन करुं, कीना जग परकाश। सूर अनामी गीतिका, परिमल तुलसीदास। अणिमा बेला अर्चना, चमेली अरु सरोज। गीत कुंज आराधना, सूरकांत की खोज।। हिन्दी कविता छंद निराला। सूर्यकांत भाषा मतवाला।।1 बंग भूमि महिषादल भाई । मेंदनपुर मंडल कहलाई।।2 पंडित राम सहाय तिवारी। राज सिपाही अल्प पगारी।3 इक्किस फरवरी […]

Founder and CEO

Dr. Arpan Jain

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ इन्दौर (म.प्र.) से खबर हलचल न्यूज के सम्पादक हैं, और पत्रकार होने के साथ-साथ शायर और स्तंभकार भी हैं। श्री जैन ने आंचलिक पत्रकारों पर ‘मेरे आंचलिक पत्रकार’ एवं साझा काव्य संग्रह ‘मातृभाषा एक युगमंच’ आदि पुस्तक भी लिखी है। अविचल ने अपनी कविताओं के माध्यम से समाज में स्त्री की पीड़ा, परिवेश का साहस और व्यवस्थाओं के खिलाफ तंज़ को बखूबी उकेरा है। इन्होंने आलेखों में ज़्यादातर पत्रकारिता का आधार आंचलिक पत्रकारिता को ही ज़्यादा लिखा है। यह मध्यप्रदेश के धार जिले की कुक्षी तहसील में पले-बढ़े और इंदौर को अपना कर्म क्षेत्र बनाया है। बेचलर ऑफ इंजीनियरिंग (कम्प्यूटर साइंस) करने के बाद एमबीए और एम.जे.की डिग्री हासिल की एवं ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियों’ पर शोध किया है। कई पत्रकार संगठनों में राष्ट्रीय स्तर की ज़िम्मेदारियों से नवाज़े जा चुके अर्पण जैन ‘अविचल’ भारत के २१ राज्यों में अपनी टीम का संचालन कर रहे हैं। पत्रकारों के लिए बनाया गया भारत का पहला सोशल नेटवर्क और पत्रकारिता का विकीपीडिया (www.IndianReporters.com) भी जैन द्वारा ही संचालित किया जा रहा है।लेखक डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं तथा देश में हिन्दी भाषा के प्रचार हेतु हस्ताक्षर बदलो अभियान, भाषा समन्वय आदि का संचालन कर रहे हैं।