बङ़ा दिल-छोटे लोग

Read Time1Second

कमला बेन कल से तुम घर आ जाना , वहीं खाना बना देना ….अब तो लॉकडाउन में छूट है आराम से आ सकती हो पारस बाबू ने हाथ धोते हुए कहा।

आपको यहाँ आने में कोई तकलीफ नहीं हो तो यही आते रहिये ….हमारे यहाँ तो सात लोगों का खाना बनता ही है। आपके लिए कुछ भी अलग से नहीं पकाना पङ़ता ।आपके यहाँ आने पर अकेले आपका खाना बनाना होता है। काम कम होता है और समय ज्यादा लगता है कहते हुए कमला ने सोंफ का डिब्बा पारस बाबू की ओर बढ़ा दिया।

दो महिने से तुम्हारे यहाँ खाना खाने आ रहा हूँ कमला बेन, अब तो पूरा परिवार अपना सा लगने लगा है पर कब तक….अब तुम आना शुरु कर दो …वहीं बना दिया करो।

ये तो आपका बङ़पन्न है पारस भाई, जो इतना मान दे रहें है….वर्ना लोग तो हम छोटे लोगों के घर का पानी भी नहीं पीते ….कमला बेन ने पीङ़ा पगे स्वर में कहा।

छोटे लोग नहीं, हमारी सोच होती है कमला बेन।मैं तो अहसासमंद हूँ तुम्हारे परिवार का, जिसने मुझे सिर्फ रोटी ही नहीं दी…. मान, सम्मान ,आदर, और इतना मीठा व्यवहार दिया कि मैं जिंदगी भर कर्जदार रहूँगा….कहते हुए पारस बाबू अपनी गीली आँखों को पोंछते हुए बाहर निकल गये।

वे रास्ते भर सोचते रहे…. लॉकडाउन के बाद खाना बनाने वाली कमला बेन ने फोन पर कहा था – पारस भाई ,मैं खाना बनाने नहीं आ पाऊँगी पर मुझे आपकी चिन्ता है। भाभी के जाने के बाद पिछले पाँच सालों से आपका खाना बना रही हूँ….पर अब….।

मैं समझ रहा हूँ कमला बेन, देखता हूँ ….कुछ न कुछ बंदोबस्त हो ही जाएगा कहते हुए पारस भाई के शब्दों से लाचारी साफ-साफ टपक रही थी।

बंदोबस्त कुछ नहीं होगा इस समय पर…. आप मेरी बात मानिए हर रोज सुबह मेरे यहाँ खाना खाने आ जाइए मेरा घर सिर्फ दो किलोमीटर दूर है, आप पैदल भी आ सकते है , पुलिस रोके तो अपनी मजबूरी बता देना….कमला बेन ने जोर देकर मनुहार सहित उससे कहा।

लेकिन…..पारस बाबू अचकचाये।

लेकिन-वेकिन कुछ नहीं…. मैं कल से आपकी राह देखूँगी …..बिना जबाब की प्रतिक्षा किये कमला बेन ने फोन रख दिया।

पारस बाबू ने बहुत सोचा पर कोई ओर रास्ता नहीं था सो उन्होंने कमला बेन के घर जाना शुरु कर दिया ।तब से अब तक रोज वे खाना खाने उसके यहाँ जा रहे थे। शुरू-शुरू में संकोच रहा पर कमला बेन और उसके परिवार का आदर पाकर वे अभिभूत हो गये। सुबह का खाना वहीं खा लेते और शाम का पैक करवाकर ले आते।

धीरे-धीरे वे उस घर के सदस्यों के साथ भी घूल मिल गये वे….थोङ़े दिन बाद तो उस घर की जमने वाली ताश और कैरम की महफिल में भी शामिल होने लगे वे….। नितांत अकेले थे वे…. सो घर पर पहूँचने की भी कोई जल्दी रहती थी उन्हें। कई बार सुबह के गये शाम का खाना खाकर ही लौटते थे वे।अम्मा, कमला बेन , उसका पति माघव,, बच्चे सबका अपनत्व उनको भीतर तक भीगो जाता था।

अब लॉकडाउन खुल गया है। कमला बेन खाना बनाने आ पाएगी पर उनका लॉकडाउन तो अब शुरु हुआ है। कितने अच्छे है बङ़े दिल के ये छोटे लोग ….सोचते हुए पारस बाबू की फिर आँखें भर आई।

डॉ पूनम गुजरानी
सूरत

0 0

matruadmin

Next Post

गर्मी से जंगल मे तबाही

Fri Jun 12 , 2020
गर्मी आई,गर्मी आई , जंगल मे है मची तबाही। शेरनी रानी,बिल्ली ताई,लू के आगे हैं गबरायी।। सूरज दादा,क्या गुस्सा है,अग्नि बहुत है क्यों बरसाई। गर्म लू के थपेड़ों ने जंगल के हर कोने है आग लगाई।। राजा शेर है घबराया , उपाय कोई समझ नही आया। सेनापति हाथी आया उसने […]

Founder and CEO

Dr. Arpan Jain

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ इन्दौर (म.प्र.) से खबर हलचल न्यूज के सम्पादक हैं, और पत्रकार होने के साथ-साथ शायर और स्तंभकार भी हैं। श्री जैन ने आंचलिक पत्रकारों पर ‘मेरे आंचलिक पत्रकार’ एवं साझा काव्य संग्रह ‘मातृभाषा एक युगमंच’ आदि पुस्तक भी लिखी है। अविचल ने अपनी कविताओं के माध्यम से समाज में स्त्री की पीड़ा, परिवेश का साहस और व्यवस्थाओं के खिलाफ तंज़ को बखूबी उकेरा है। इन्होंने आलेखों में ज़्यादातर पत्रकारिता का आधार आंचलिक पत्रकारिता को ही ज़्यादा लिखा है। यह मध्यप्रदेश के धार जिले की कुक्षी तहसील में पले-बढ़े और इंदौर को अपना कर्म क्षेत्र बनाया है। बेचलर ऑफ इंजीनियरिंग (कम्प्यूटर साइंस) करने के बाद एमबीए और एम.जे.की डिग्री हासिल की एवं ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियों’ पर शोध किया है। कई पत्रकार संगठनों में राष्ट्रीय स्तर की ज़िम्मेदारियों से नवाज़े जा चुके अर्पण जैन ‘अविचल’ भारत के २१ राज्यों में अपनी टीम का संचालन कर रहे हैं। पत्रकारों के लिए बनाया गया भारत का पहला सोशल नेटवर्क और पत्रकारिता का विकीपीडिया (www.IndianReporters.com) भी जैन द्वारा ही संचालित किया जा रहा है।लेखक डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं तथा देश में हिन्दी भाषा के प्रचार हेतु हस्ताक्षर बदलो अभियान, भाषा समन्वय आदि का संचालन कर रहे हैं।