क्या परिवार की प्रगति का पर्याय बन गई हैं कामकाजी महिलाएं?

Read Time1Second
  महिला सशक्तिकरण का उद्देश्य ही उन्हें अपने पांव पर खड़ा करना है।उनके ब्रह्मचर्य काल से लेकर गृहस्थ जीवन तक के मनोबल को बढ़ाना है।वह शादी के बिना भी मां-बाप पर बोझ ना बने और अपना जीवनयापन अपनी इच्छा अनुसार स्वतंत्रतापूर्वक जी सके।उसे अबला से सबला बनाना मुख्य उद्देश्य के पर्याय हैं।
  मान्यता यह भी है कि गृहस्त खुशहाल जीवन के पीछे नारी शक्ति का हाथ होता है।बुद्धिजीवियों का तो यहां तक मानना है कि प्रत्येक पुरुष की सफलता एवं विफलता का श्रेय नारी शक्ति को ही जाता है।
  इसके अलावा नारी शक्ति को सशक्त करने का उद्देश्य यह भी है कि ईश्वर ना करें कि यदि शादीशुदा महिला के परिवारिक जीवन में,पति द्वारा धोखा देने के उपरांत या पति के अस्वस्थ होने की स्थिति में या पति को किसी भी कारण नौकरी से निकाल देने पर या अपने पति के मरणोपरांत अपने परिवार का दायित्व कंधों पर पड़ जाए।तो वह उक्त दायित्व का निर्वाह सफलतापूर्वक करते हुए अपने परिवार का भरणपोषण कर सके।
  ऐसे ही एक और एक ग्यारह होते हैं और वर्तमान आर्थिक चुनौतियों के चलते अकेले पति की कमाई से परिवार की प्रगति संभव ही नहीं है।प्रगति नहीं है, तो पति-पत्नी के सपने पूरे नहीं होते।जिससे परिवारिक जीवन खुशहाल नहीं हो सकता।जिसके परिणाम स्वरूप घरेलू हिंसा आरम्भ हो जाती है।रोज के झगड़े बढ़ जाते हैं।जो घर से निकल गली-मोहल्ले से होते हुए विवाह विच्छेद का विकराल रूप धारण कर लेते हैं।जिसका सब से अधिक दुष्प्रभाव निर्दोष बच्चों पर पड़ता है और उनका जीवन नर्क में परिवर्तित हो जाता है।
  किंतु यदि महिला पढ़ी-लिखी,बुद्धिमान,कुशल और सर्वसम्पन्न होगी, तब ऊपरोक्त कठिनाईयों से परिवार को बचाने में वह सक्षम होंगी।ऐसे में विपत्तियों एव चुनौतियों की क्या औकात कि वह नारी शक्ति के समक्ष ठहर पाएं?

#इंदु भूषण बाली

0 0

matruadmin

Next Post

जंगल की होली

Tue Mar 10 , 2020
जंगल के राजा शेर ने एक सभा बुलाई । प्रहलाद की भक्ति होली की बात बताई ।। हम सभी खेलेंगे कल होली लेकर अंगडाई । पर रखना यह ध्यान न हो झगड़े – लड़ाई ।। द्वेषता-नफरत से ही हमेशा मुशीबत आई । रहें जंगल में मंगल तो करों सबकी भलाई […]

Founder and CEO

Dr. Arpan Jain

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ इन्दौर (म.प्र.) से खबर हलचल न्यूज के सम्पादक हैं, और पत्रकार होने के साथ-साथ शायर और स्तंभकार भी हैं। श्री जैन ने आंचलिक पत्रकारों पर ‘मेरे आंचलिक पत्रकार’ एवं साझा काव्य संग्रह ‘मातृभाषा एक युगमंच’ आदि पुस्तक भी लिखी है। अविचल ने अपनी कविताओं के माध्यम से समाज में स्त्री की पीड़ा, परिवेश का साहस और व्यवस्थाओं के खिलाफ तंज़ को बखूबी उकेरा है। इन्होंने आलेखों में ज़्यादातर पत्रकारिता का आधार आंचलिक पत्रकारिता को ही ज़्यादा लिखा है। यह मध्यप्रदेश के धार जिले की कुक्षी तहसील में पले-बढ़े और इंदौर को अपना कर्म क्षेत्र बनाया है। बेचलर ऑफ इंजीनियरिंग (कम्प्यूटर साइंस) करने के बाद एमबीए और एम.जे.की डिग्री हासिल की एवं ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियों’ पर शोध किया है। कई पत्रकार संगठनों में राष्ट्रीय स्तर की ज़िम्मेदारियों से नवाज़े जा चुके अर्पण जैन ‘अविचल’ भारत के २१ राज्यों में अपनी टीम का संचालन कर रहे हैं। पत्रकारों के लिए बनाया गया भारत का पहला सोशल नेटवर्क और पत्रकारिता का विकीपीडिया (www.IndianReporters.com) भी जैन द्वारा ही संचालित किया जा रहा है।लेखक डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं तथा देश में हिन्दी भाषा के प्रचार हेतु हस्ताक्षर बदलो अभियान, भाषा समन्वय आदि का संचालन कर रहे हैं।