सरसवाही स्कूल में सरस्वती पूजन संपन्न

Read Time0Seconds

शास.पूर्व माध्यमिक विद्यालय सरसवाही जनपद मानपुर में बसंत पंचमी पर्व पर माँ वीणावादिनी की विधि पूर्वक पूजन सम्पन्न हुई,जिसमें विद्यालय परिवार के अलावा आसपास के विद्यालय के शिक्षकों व ग्राम के वरिष्ठ नागरिक अभिभावक सम्मिलित हुये, बच्चों के उत्साह वर्धन के लिए सांस्कृतिक कार्यक्रम करवाये गये जिसमें बच्चों नें बढ़ चढ़ कर हिस्सा लिये,प्रतिभागियों को इनाम भी प्रदान किए गये विद्यालय परिवार ने इस कार्यक्रम में सम्मिलित मनीषियों की उपस्थित को धन्यवाद दिया,सबको प्रसाद वितरण किया गया।

नीर ने छात्र गजेन्द्र सिंह को आदर्श विद्यार्थी सम्मान से सम्मानित किया

सम्मानित कर्ता नवीन कुमार भट्ट “नीर” ग्राम मझगवाँ पो.सरसवाही द्वारा बताया गया कि शास.हायर सेकेन्डरी स्कूल सरसवाही में अध्यनरत छात्र गजेन्द्र सिंह पिता रामरतन सिंह निवासी बरतराई ने माध्यमिक शिक्षा मण्डल मध्यप्रदेश द्वारा आयोजित वर्ष 2019 की हाई स्कूल परीक्षा में 93.4 प्रतिशत अंक अर्जित किया।छात्र ने अपने अथक परिश्रम,शिक्षाप्रेम,संकल्पित कर्मठता,लग्नशील से बहुमुखी क्षेत्र का नाम अपनी प्रतिभा से गौरवान्वित किया है छात्र को सम्मान बतौर कलम,डायरी,डिक्सनरी व आदर्श विद्यार्थी सम्मान से सम्मानित किया गया है ज्ञातव्य हो की यह सम्मान इस वर्ष से शुभारंभ किया गया है यह सम्मान सरसवाही स्कूल में हाई स्कूल परीक्षा में सबसे अधिक अंक लाने वाले छात्र को सम्मानित किया जायेगा जो कि यह सम्मान गणतंत्र पर्व पर किया जायेगा,छात्र को आदर्श विद्यार्थी सम्मान से सम्मानित कर मैं गौरवान्वित हूँ,की ऐसे ही आगे बढ़ते रहें,

नवीन कुमार भट्ट नीर

0 0

matruadmin

Next Post

आधुनिक हिन्दी की दिशा तय करने वाले योद्धा : राजा शिवप्रसाद ‘सितारेहिन्द’

Wed Feb 5 , 2020
राजा शिवप्रसाद ‘सितारेहिन्द’ ( जन्म 3 फरवरी 1823) को इतिहास में खलनायक की तरह चित्रित किया गया है, किन्तु, जिस समय देवनागरी लिपि में लिखी जाने वाली हिन्दी संकट काल से गुजर रही थी, राजा शिवप्रसाद उसके समर्थन और उत्थान का ब्रत लेकर साहित्य क्षेत्र में आए। उन्होंने हिन्दी, उर्दू, […]

Founder and CEO

Dr. Arpan Jain

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ इन्दौर (म.प्र.) से खबर हलचल न्यूज के सम्पादक हैं, और पत्रकार होने के साथ-साथ शायर और स्तंभकार भी हैं। श्री जैन ने आंचलिक पत्रकारों पर ‘मेरे आंचलिक पत्रकार’ एवं साझा काव्य संग्रह ‘मातृभाषा एक युगमंच’ आदि पुस्तक भी लिखी है। अविचल ने अपनी कविताओं के माध्यम से समाज में स्त्री की पीड़ा, परिवेश का साहस और व्यवस्थाओं के खिलाफ तंज़ को बखूबी उकेरा है। इन्होंने आलेखों में ज़्यादातर पत्रकारिता का आधार आंचलिक पत्रकारिता को ही ज़्यादा लिखा है। यह मध्यप्रदेश के धार जिले की कुक्षी तहसील में पले-बढ़े और इंदौर को अपना कर्म क्षेत्र बनाया है। बेचलर ऑफ इंजीनियरिंग (कम्प्यूटर साइंस) करने के बाद एमबीए और एम.जे.की डिग्री हासिल की एवं ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियों’ पर शोध किया है। कई पत्रकार संगठनों में राष्ट्रीय स्तर की ज़िम्मेदारियों से नवाज़े जा चुके अर्पण जैन ‘अविचल’ भारत के २१ राज्यों में अपनी टीम का संचालन कर रहे हैं। पत्रकारों के लिए बनाया गया भारत का पहला सोशल नेटवर्क और पत्रकारिता का विकीपीडिया (www.IndianReporters.com) भी जैन द्वारा ही संचालित किया जा रहा है।लेखक डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं तथा देश में हिन्दी भाषा के प्रचार हेतु हस्ताक्षर बदलो अभियान, भाषा समन्वय आदि का संचालन कर रहे हैं।