अब कहाँ बसंतीलाल…?

Read Time5Seconds

सोफे पर अधलेटा होकर सोहनलाल द्विवेदी जी की यह पंक्तियां गुनगुना रहा था-
आया वसंत आया वसंत
छाई जग में शोभा अनंत
सरसों खेतों में उठी फूल
बौरें आमों में उठी झूल
बेलों में फूले नये फूले
पल में पतझड़ का हुआ अंत
आया वसंत आया वसंत।
मेरी यह गुनगुनाहट पड़ोसी का बच्चा, जो कि मेरे घर में खेल रहा था, सुनकर खेलते- खेलते रुक गया और दरवाजे की ओर देखने लगा। जब मेरा गुनगुनाना रुका तो पूछने लगा- “बसंत अंकल तो आए ही नहीं ?” मैं जोर से हंस पड़ा। वह मासूम बच्चा सोच रहा था कोई बसंत नाम का व्यक्ति आया है जिसे देखकर मैं गुनगुना रहा था उसे क्या समझता, बहुत छोटा था। जबकि अब तो बड़ों-बड़ों को मालूम नहीं पड़ता कि बसंत आ गया है! महानगरों और महानगर बनते शहरों की तो छोड़िए अब तो कस्बाई शहरों में भी बसंत ढूंढना पड़ता है। योगेश्वर कृष्ण ने गीता में कहा है कि- “मैं ऋतुओं में बसंत हूं।” कामदेव पुत्र बसंत के आगमन पर पेड़ों में नए पत्ते आने लगते हैं, तरह-तरह के फूल खिलने लगते हैं, कोयल मधुर गाना गाती है, और सुवासित सुगंध फैल जाती है, प्रकृति झूमने लगती हैं, भंवरे गुनगुनाते हैं, तितलियां लहराती है आम बौरा जाते हैं इत्यादि बहुत सी प्राकृतिक सुंदरता का वर्णन अनादिकाल से कवियों ने अपने काव्य में बसंत के लिए किया है और आज भी सिर्फ कवि ही एक ऐसा प्राणी होता है जिसे बसंत आता हुआ दिखाई दे जाता है…! वरना किसे फुर्सत है यह सब देखने की…?
बस साहब कवियों की इस तरह लिखी हुई कविताएं पढ़-पढ़ कर हमने भी सोचा कि चलकर किसी पार्क में बसंत के दर्शन कर लिए जाएं, क्योंकि शहरों में तो ऊंची-ऊंची अट्टालिकाओं, बेतहाशा धुआं उगलते वाहनों की भीड़ में बसंत दिखाई दे सकता है तो वह कोई पार्क ही हो सकता है। यह सोचकर एक उद्यान का रुख हमने किया और वहां जाकर प्रकृति का रुदन देख कर मन विचलित हो गया। सुभाषित मधुर-मधुर बयार की कल्पना उद्यान के मुख्य द्वार पर ही धराशाई हो गई, जब संडास मारती बदबू का सामना हुआ। भीतर प्रवेश करने पर इसका कारण भी ज्ञात हो गया दो दिन पहले वहां एक स्थानीय नेता ने अपने पुत्र के विवाह का रिसेप्शन किया था, जिसके अवशेष यत्र-तत्र बिखरे पड़े थे। एक कोने में बची हुई जूठन पड़े-पड़े सड़ रही थी, जिसकी बदबू पूरे उद्यान सहित आसपास तक फैल चुकी थी। भौरों की गुंजन की जगह मक्खियों की भनभनाहट, तितलियों की जगह लाइट के कीड़े फड़फड़ा रहे थे। बसंत की ऐसी दुर्दशा देखकर हम तो उल्टे पांव लौट आए। हम सोच रहे थे काश हमें कोई कवि मिल जाए तो उसे इस बसंत के साक्षात्कार करवा दें…! हम सोचते हैं कि वसंत ऋतु वह ऋतु होती है जो संत को भी वश में कर लेती है, इसीलिए इसको बसंत कहा जाता है। परंतु ऐसा आलम देखकर तो स्वयं कामदेव का भी पलायन करने का मन हो जाए…! यह सब देखकर तो श्रद्धेय गोपालदास नीरज की पंक्तियों को पलटकर गाने को मन करता है-
बौराई अंबुवा की डाली
गदराई गेहूं की बाली
सरसों खड़ी बजाय ताली
झूम रहे जल पात
रायन की बात न करना
आज बसंत की रात
गमन की बात न करना।
आज से कुछ साल पहले जबकि भौतिकवाद का शिकंजा नहीं था एक आम आदमी भी प्रकृति से जुड़ा रहता था उसके जीवन के सुख-दुख क्रिया-कलापों में प्राकृतिक परिवर्तनों का प्रभाव परिलक्षित होता था। बसंत पंचमी को संतान उत्पन्न हो तो नाम बसंतीलाल या बसंता बाई या बसंती होता था, कुछ बाद में बसंतीलाल से बसंत भी हुए पर अब ना बसंतीलाल मिलेंगे ना बसंती अलबत्ता बसंत पंचमी को किसी ऐसे ही उद्यान में किसी शादी के रिसेप्शन में लोग गंदगी फैलाने अवश्य इखठ्ठा होंगे। या अंतरजाल के माध्यम से बसंत पंचमी की शुभकामनाओं का आदान-प्रदान कर बसंत उत्सव मनाते दिखेंगे। लेकिन कोई थोड़ा सा भी कवि हो गया है तो बसंत पंचमी को कहीं ना कहीं काव्य गोष्ठी में बसंत पर लिखी अपनी कविता अवश्य सुनाएगा!! आखिर वह सरस्वती पुत्र है… अपनी माता का जन्मोत्सव वह नहीं बनाएगा तो कौन मनाएगा..?

  • कमलेश व्यास ‘कमल’

कमलेश व्यास ‘कमल’
उज्जैन(म.प्र.)

0 0

matruadmin

Next Post

अच्छा

Tue Jan 28 , 2020
सदा अच्छा ही सोचना सदा अच्छा ही बोलना सदा अच्छा ही देखना सदा अच्छा ही करना बनाते है हमको अच्छा जवान,बूढा या फिर बच्चा मन का जो है सच्चा वही तो है सबसे अच्छा गलत कुछ भी करो नही दिल किसी का दुखाओ नही परमात्म याद में रहो सदा अहंकार […]

Founder and CEO

Dr. Arpan Jain

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ इन्दौर (म.प्र.) से खबर हलचल न्यूज के सम्पादक हैं, और पत्रकार होने के साथ-साथ शायर और स्तंभकार भी हैं। श्री जैन ने आंचलिक पत्रकारों पर ‘मेरे आंचलिक पत्रकार’ एवं साझा काव्य संग्रह ‘मातृभाषा एक युगमंच’ आदि पुस्तक भी लिखी है। अविचल ने अपनी कविताओं के माध्यम से समाज में स्त्री की पीड़ा, परिवेश का साहस और व्यवस्थाओं के खिलाफ तंज़ को बखूबी उकेरा है। इन्होंने आलेखों में ज़्यादातर पत्रकारिता का आधार आंचलिक पत्रकारिता को ही ज़्यादा लिखा है। यह मध्यप्रदेश के धार जिले की कुक्षी तहसील में पले-बढ़े और इंदौर को अपना कर्म क्षेत्र बनाया है। बेचलर ऑफ इंजीनियरिंग (कम्प्यूटर साइंस) करने के बाद एमबीए और एम.जे.की डिग्री हासिल की एवं ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियों’ पर शोध किया है। कई पत्रकार संगठनों में राष्ट्रीय स्तर की ज़िम्मेदारियों से नवाज़े जा चुके अर्पण जैन ‘अविचल’ भारत के २१ राज्यों में अपनी टीम का संचालन कर रहे हैं। पत्रकारों के लिए बनाया गया भारत का पहला सोशल नेटवर्क और पत्रकारिता का विकीपीडिया (www.IndianReporters.com) भी जैन द्वारा ही संचालित किया जा रहा है।लेखक डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं तथा देश में हिन्दी भाषा के प्रचार हेतु हस्ताक्षर बदलो अभियान, भाषा समन्वय आदि का संचालन कर रहे हैं।