विपक्ष की हार फिर भाजपा सरकार।

Read Time3Seconds

भारी सियासी उठापटक के बाद महाराष्ट्र एवं हरियाणा का मतदान समाप्त हो गया सभी पार्टियों ने अपने-अपने राजनीतिक समीकरणों को बखूबी बैठाया। अनेकों प्रकार के आरोप-प्रत्यारोप का भी खूब दौर चला। पक्ष एवं विपक्ष दोनों ओर से जनता को अपने पाले में करने हेतु अनेकों प्रकार की विधि का प्रयोग किया गया। सत्ता पक्ष जहाँ अपनी सरकार के द्वारा किए हुए कार्यों को गिनाता रहा वहीं विपक्ष सत्ता पक्ष के द्वारा किए गए हुए कार्यों में खामियाँ निकालता हुआ आलोचना करता हुआ दिखाई दे रहा था। सत्ता पक्ष जहाँ अपनी चुस्त-दुरूस्त कानून व्यवस्था का हवाला देते हुए जनता से पुनः अपने पक्ष में वोट करने की अपील करता रहा वहीं विपक्षी दल सरकार की कानून व्यवस्था पर सवाल दागते हुए उस पर उँगलियाँ उठाते रहे। आरोपों का दौर चलता रहा और चुनावी समीकरण बनते बिगड़ते रहे। सभी पार्टियों के नेता अपना-अपना सियासी बाँण छोड़ते रहे। हरियाणा एवं महाराष्ट्र की जनता नेताओं के द्वारा छोड़े गए हुए प्रत्येक बाँणों को बखूबी धरातल पर रखकर आँकलन करती रही। यदि शब्दों को बदलकर कहा जाए तो शायद गलत नहीं होगा कि नेता अपना कार्य करते रहे और जनता अपना कार्य करती रही। सभी पार्टियों के नेता हो हल्ला करते रहे और जनता शान्ति से समय की प्रतीक्षा करती रही कि जब समय आ जाएगा तो हम उचित जवाब देंगे।
अतः उचित समय आने के बाद जनता ने अपनी चुप्पी को तोड़ते हुए मतों को आधार बनाते हुए शान्त शब्दों में जवाब देते हुए ई.वी.एम के अन्दर सभी उम्मीदवारों के भाग्य को कैद कर दिय़ा। तमाम उम्मीदवारों ने जनता के बीच अपने पसीने बहाए परन्तु, मतदान के बाद जो भी खबरें जनता के बीच चर्चाओं के माध्यम से उभरकर सामने आ रही हैं वह खास करके विपक्ष की चिंता और बढ़ा देने वाली हैं। क्योंकि, तमाम दावों के बावजूद भी जनता ने लगभग विपक्ष को फिर एक बार नकार दिया और भाजपा के पक्ष में पुनः मतदान कर दिया ऐसी खबरें जनता के बीच से आ रही हैं कि महाराष्ट्र एवं हरियाणा में फिर से भाजपा की सरकार बनना तय माना जा रहा है। एक्जिट पोल की अगर बात करें तो एक्जिट पोल के भी आँकड़े यही दर्शा रहे हैं। कि महाराष्ट्र में बीजेपी-शिवसेना गठबंधन को 211 सीटों के साथ स्पष्ट बहुमत मिलता दिख रहा है। वहीं, हरियाणा में भी भाजपा फिर से सत्ता की ओर बढ़ती हुई दिखाई दे रही है। यह अलग बात है कि जीत का अंतर बहुत अधिक न हो परन्तु भाजपा फिर से एक बार हरियाणा में बड़ी पार्टी बनकर सत्ता में वापस आ रही है। कांग्रेस की बात करें तो महाराष्ट्र में कांग्रेस-एन.सी.पी गठबंधन को कोई खास बहुमत मिलती नहीं दिखाई दे रही है। महाराष्ट्र से इतर यदि हरियाणा के विधान सभा चुनाव पर नज़र डालते हैं तो कांग्रेस को केवल 20 से 25 सीटों से संतोष करना पड़ा सकता है। यदि एग्जिट पोल की बात करें तो सभी एक्जिट पोल्स में महाराष्ट्र में भाजपा-शिवसेना स्पष्ट बहुमत हासिल करती हुई नजर आ रही है। कांग्रेस की असफलता का कारण उसका जमीनी स्तर पर मजबूत संगठन न होना तथा पार्टी के अन्दर आपस में ही गुटबाजी एवं रस्सा कसी होना। कांग्रेस के घटते हुए जनाधार की मुख्य वजह है। क्योंकि, कांग्रेस का संगठन जमीनी स्तर पर मजबूत नहीं है। बदलते हुए राजनीति के दौर में अब देश की जनता उसी को अपना नेता मानती है जिसका संगठन जमीनी स्तर पर मजबूती के साथ अपने पैर जमाए हुए जनता के बीच सदैव खड़ा रहे। यदि शब्दों को बदलकर कहा जाए तो शायद गलत नहीं होगा कि अब राजनीति पार्ट टाईम वाली नहीं, अब राजनीति का रूप, रंग और ढ़ंग सभी कुछ बदल चुका है। अब राजनीति के क्षेत्र में दिन-रात कार्य करना पड़ता है। जनता के सुख-दुख में कंधे से कंधा मिलाकर चलना होता है। छोटे से छोटा समारोह अथवा शोकसभा में संगठन से जुड़े हुए व्यक्तियों को पहुँचना अनिवार्य होता है। यदि ऐसा नहीं हुआ तो जनता तुरंत अपना नया मसीहा खोज लेती है। और दूसरी पार्टी के कार्यकर्ता के साथ जुड़ जाती है।
अतः राजनीति अब कोई खेल नहीं रह गया। यदि शब्दों को बदलकर कहा जाए तो शायद गलत नहीं होगा कि आज के समय में देश की राजनीति का रूप एक युद्ध के समान हो चला है। जिसमें पूरे दम-खम के साथ मेहनत करनी पड़ती है। शून्य स्तर पर बहुत ही मजबूती के साथ कार्य करना पड़ता है। मतदाताओं पर अंतिम समय तक अपना ध्यान केंद्रित करना पड़ता है। तब जाकर सत्ता का स्वाद चखने को प्राप्त होता है।
राजनीति विश्लेषक।
(सज्जाद हैदर)

0 0

matruadmin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

रोशनी बन जगमगाओ

Wed Oct 23 , 2019
प्यार का दीपक ज़लाओ इस अंधेरे मे , रुप का जलवा दिखाओ इस अंधेरे मे , दिलो का मिलना दिवाली का ये पैगाम , दुरिया दिल का मीटाओ इस अंधेरे मे ! अजननी है भटक न ज़ाए कही मंजिल , रास्ता उसको सुझाओ इस अंधेरे मे , ज़िन्दगी का सफर […]

Founder and CEO

Dr. Arpan Jain

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ इन्दौर (म.प्र.) से खबर हलचल न्यूज के सम्पादक हैं, और पत्रकार होने के साथ-साथ शायर और स्तंभकार भी हैं। श्री जैन ने आंचलिक पत्रकारों पर ‘मेरे आंचलिक पत्रकार’ एवं साझा काव्य संग्रह ‘मातृभाषा एक युगमंच’ आदि पुस्तक भी लिखी है। अविचल ने अपनी कविताओं के माध्यम से समाज में स्त्री की पीड़ा, परिवेश का साहस और व्यवस्थाओं के खिलाफ तंज़ को बखूबी उकेरा है। इन्होंने आलेखों में ज़्यादातर पत्रकारिता का आधार आंचलिक पत्रकारिता को ही ज़्यादा लिखा है। यह मध्यप्रदेश के धार जिले की कुक्षी तहसील में पले-बढ़े और इंदौर को अपना कर्म क्षेत्र बनाया है। बेचलर ऑफ इंजीनियरिंग (कम्प्यूटर साइंस) करने के बाद एमबीए और एम.जे.की डिग्री हासिल की एवं ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियों’ पर शोध किया है। कई पत्रकार संगठनों में राष्ट्रीय स्तर की ज़िम्मेदारियों से नवाज़े जा चुके अर्पण जैन ‘अविचल’ भारत के २१ राज्यों में अपनी टीम का संचालन कर रहे हैं। पत्रकारों के लिए बनाया गया भारत का पहला सोशल नेटवर्क और पत्रकारिता का विकीपीडिया (www.IndianReporters.com) भी जैन द्वारा ही संचालित किया जा रहा है।लेखक डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं तथा देश में हिन्दी भाषा के प्रचार हेतु हस्ताक्षर बदलो अभियान, भाषा समन्वय आदि का संचालन कर रहे हैं।