मां के रूप

0 0
Read Time51 Second

जगमग सजे हे माँ के दुवार
मां के महिमा हावय अपरंपार।

जगतजननी दाई के जोत ह जलत हे
अन्तस् के परेम ह श्रद्धा म दिखत हे।

जग म महान हे माँ के ममता
कोरा म जेकर जिनगी ह पलत हे।।

अपन दाई म जगदम्बा ल देखा
मन्दिर तुंहर घर म हे
रूप हे अनोखा।

जेन घर म दाई ददा के सम्मान ह होथे
सच माना संगी ओ घर म भगवान होथे।

दाई के हिरदय म समुन्दर समाय हे,
लइका के उन्नति म सरवस गंवाय हे।

चीर के करेजा तोर जिनगी सँवारिस हे
अपन दाई के पूजा करबे
देवी मुस्काइस हे।

#अविनाश तिवारी

जांजगीर चाम्पा(छत्तीसगढ़)

matruadmin

Average Rating

5 Star
0%
4 Star
0%
3 Star
0%
2 Star
0%
1 Star
0%

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

दिनकर

Mon Sep 30 , 2019
. ✨✨१✨✨ दिनकर दिनकर से हुए,हिन्दी हिन्द प्रकाश। तेज सूर जैसा रहा, तुलसी सा आभास।। . ✨✨२✨✨ जन्म सिमरिया में लिये, सबसे बड़े प्रदेश। सूरज सम फैला किरण, छाए भारत देश।। . ✨✨३✨✨ भूषण सा साहित्य ध्रुव, प्रेमचंद्र सा धीर। आजादी के हित लड़े,दिनकर कलम कबीर।। . ✨✨४✨✨ भारत के […]

संस्थापक एवं सम्पादक

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’

29 अप्रैल, 1989 को मध्य प्रदेश के सेंधवा में पिता श्री सुरेश जैन व माता श्रीमती शोभा जैन के घर अर्पण का जन्म हुआ। उनकी एक छोटी बहन नेहल हैं। अर्पण जैन मध्यप्रदेश के धार जिले की तहसील कुक्षी में पले-बढ़े। आरंभिक शिक्षा कुक्षी के वर्धमान जैन हाईस्कूल और शा. बा. उ. मा. विद्यालय कुक्षी में हासिल की, तथा इंदौर में जाकर राजीव गाँधी प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के अंतर्गत एसएटीएम महाविद्यालय से संगणक विज्ञान (कम्प्यूटर साइंस) में बेचलर ऑफ़ इंजीनियरिंग (बीई-कंप्यूटर साइंस) में स्नातक की पढ़ाई के साथ ही 11 जनवरी, 2010 को ‘सेन्स टेक्नोलॉजीस की शुरुआत की। अर्पण ने फ़ॉरेन ट्रेड में एमबीए किया तथा एम.जे. की पढ़ाई भी की। उसके बाद ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियाँ’ विषय पर अपना शोध कार्य करके पीएचडी की उपाधि प्राप्त की। उन्होंने सॉफ़्टवेयर के व्यापार के साथ ही ख़बर हलचल वेब मीडिया की स्थापना की। वर्ष 2015 में शिखा जैन जी से उनका विवाह हुआ। वे मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष भी हैं और हिन्दी ग्राम के संस्थापक भी हैं। डॉ. अर्पण जैन ने 11 लाख से अधिक लोगों के हस्ताक्षर हिन्दी में परिवर्तित करवाए, जिसके कारण वर्ल्ड बुक ऑफ़ रिकॉर्डस, लन्दन द्वारा विश्व कीर्तिमान प्रदान किया गया।