उच्चतम न्यायालय ने घोषणा की न्यायालय के निर्णय भारत की छह भाषाओं में

Read Time0Seconds

unnamed

बंधुओं माननीय उच्चतम न्यायालय ने घोषणा की है कि अब न्यायालय के निर्णय भारत की छह भाषाओं में दी जाने की व्यवस्था की जाएगी । लेकिन गहराई से देखें तो यह केवल हिन्दी प्रेमियों को भरमाने वाली बात है … छह क्या आजकल तो गूगल पर दो मिनट में दो सौ छप्पन भाषाओं में अनुवाद की सुविधा उपलब्धल है, वह भी एकदम फ्री में । जजों को तो अनुवाद करना नहीं है । जबकि भाषा आंदोलनकारियों की मांग है कि न्यायालयों में अपील, बहस व निर्णय हिंदी एवं उच्च न्यायालयों में वहाँ की राजभाषा में भी हो । यद्यपि संविधान के अनुच्छेद 348 के अनुसार (खण्ड 1 के उपखंड क के अंतर्गत) उच्च न्यायालय में हिन्दी या संबंधित राज्यों की भाषा में कार्यवाही हो सकती है, परंतु निर्णय व डिग्री आदि अंग्रेजी के ही मान्य होंगे । जब तक संविधान का अनुच्छेद 348(1a) में संशोधन न कर दिया जाए, जिसमें उच्च एवं उच्चतम न्यायालयों की भाषा केवल अंग्रेजी में ही करने की व्यवस्था है, तब तक न्यायालय हिंदी के संबंध में ऐसे ही झुनझुना पकडाते रहेंगे और हम हिंदी प्रेमी सबकुछ जानते हुए भी उसे यूं ही बजाते हुए अपना मन बहलाते रहेंगे … हिन्दी को देना हो तो संवैधानिक मान्यता देकर उच्च न्यायालयों में हिन्दी व राज्य की भाषा व उच्चतम न्यायालय में हिन्दी को लागू करो । …. डॉ. राजेश्वर उनियाल, मुंबई

मैं इस निर्णय को इस रूप में ले रहा हूं कि चाहे अनचाहे सर्वोच्च न्यायालय ने न्यायपालिका में भारतीय भाषाओं के महत्त्व को स्वीकार किया गया है। हालांकि में बंधुवर डॉ उनियाल के कथन से भी सहमत हूं कि जनता के दबाव के चलते अभी तो झनझुना ही थमाया गया है। अच्छी बात यह है कि न्यायपालिका में जनभाषा के लिए जनता का दबाव बन रहा है और न्यायपालिका इसे महसूस भी कर रही है।हालांकि इस उद्देश्य के लिए अभी तो इसके लिए लंबी लड़ाई लड़नी होगी।
डॉ. मोतीलाल गुप्ता “आदित्य’

0 0

matruadmin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

सच

Sun Jul 7 , 2019
सदा सच के साथ चलिए सच के रास्ते को ही पकड़िए यह मार्ग कठिन जरूर है बाधाएं भी इसमें भरपूर है समय इसमें अधिक लगता है इसपर चलना लोगो को खटकता है पर, आप हिम्मत नही हारिए बस,सत्य का ध्वज उठाए रखिए बेखोफ उसे लहराए रखिए सुखद सफलता  मिल जाएगी […]

Founder and CEO

Dr. Arpan Jain

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ इन्दौर (म.प्र.) से खबर हलचल न्यूज के सम्पादक हैं, और पत्रकार होने के साथ-साथ शायर और स्तंभकार भी हैं। श्री जैन ने आंचलिक पत्रकारों पर ‘मेरे आंचलिक पत्रकार’ एवं साझा काव्य संग्रह ‘मातृभाषा एक युगमंच’ आदि पुस्तक भी लिखी है। अविचल ने अपनी कविताओं के माध्यम से समाज में स्त्री की पीड़ा, परिवेश का साहस और व्यवस्थाओं के खिलाफ तंज़ को बखूबी उकेरा है। इन्होंने आलेखों में ज़्यादातर पत्रकारिता का आधार आंचलिक पत्रकारिता को ही ज़्यादा लिखा है। यह मध्यप्रदेश के धार जिले की कुक्षी तहसील में पले-बढ़े और इंदौर को अपना कर्म क्षेत्र बनाया है। बेचलर ऑफ इंजीनियरिंग (कम्प्यूटर साइंस) करने के बाद एमबीए और एम.जे.की डिग्री हासिल की एवं ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियों’ पर शोध किया है। कई पत्रकार संगठनों में राष्ट्रीय स्तर की ज़िम्मेदारियों से नवाज़े जा चुके अर्पण जैन ‘अविचल’ भारत के २१ राज्यों में अपनी टीम का संचालन कर रहे हैं। पत्रकारों के लिए बनाया गया भारत का पहला सोशल नेटवर्क और पत्रकारिता का विकीपीडिया (www.IndianReporters.com) भी जैन द्वारा ही संचालित किया जा रहा है।लेखक डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं तथा देश में हिन्दी भाषा के प्रचार हेतु हस्ताक्षर बदलो अभियान, भाषा समन्वय आदि का संचालन कर रहे हैं।