आई प्यारी रात दीवाली

0 0
Read Time2 Minute, 42 Second
    rikhabchand
राजा सिद्धार्थ के घर जन्में, माता जिनकी त्रिशला रानी।
उस वीर प्रभु की याद दिलाने, आई प्यारी रात दीवाली।।
सज रहे है महल अटारी, ग्राम नगर और कुण्डलपुर नगरी।
चौबीस दीपों के थाल सजाकर, मंगल स्वागत की तैयारी।।
जैनम् जयति शासनम् की, जय -जयकार करते नर नारी।
उस वीर——–
जैनियों के घर अलख जगाती, बनकर के दीपों की रानी।
जगमग करती दीप ज्योति, नव प्रकाश नवआशा भरती।।
अहिंसा का जिसने पाठ पढ़ाया, धन्य हुआ जग का प्राणी।
उस वीर प्रभु ———-
तीर्थंकर महावीर का  संदेश यही है, अहिंसा परमो धर्म है।
मनुष्य जन्म से नहीं बनता है महान,महान बनाता कर्म है।।
‘जियो और जीने’ दो की दिव्य वाणी, मत भूलो रे प्राणी ।
उस वीर ———-
स्वाति नक्षत्र में कार्तिक अमावस्या, शुभ दिन हुआ चर्चित।
महावीर स्वामी का हुआ निर्वाण, जन-जन हुआ जग हर्षित।।
इस पावन दिन केवल, ज्ञानी बनें प्रथम गणधर गौतम स्वामी।
उस वीर——–
‘सपना’ श्रद्धा से दीप जलाकर कुण्डलपुर पावापुरी नगरी।
‘रिखब’ निर्वाण मोदक कर रहा है, प्रभु के चरणों में अर्पित।।
देव गुरू शास्त्र के चरणों में निशदिन जीवन हमारा समर्पित।
उस वीर——–
राजा सिद्धार्थ के घर जन्में, माता जिनकी त्रिशला रानी ।
उस वीर प्रभु की याद दिलाने, आई प्यारी रात दीवाली ।।
#रिखबचन्द राँका
परिचय: रिखबचन्द राँका का निवास जयपुर में हरी नगर स्थित न्यू सांगानेर मार्ग पर हैl आप लेखन में कल्पेश` उपनाम लगाते हैंl आपकी जन्मतिथि-१९ सितम्बर १९६९ तथा जन्म स्थान-अजमेर(राजस्थान) हैl एम.ए.(संस्कृत) और बी.एड.(हिन्दी,संस्कृत) तक शिक्षित श्री रांका पेशे से निजी स्कूल (जयपुर) में अध्यापक हैंl आपकी कुछ कविताओं का प्रकाशन हुआ हैl धार्मिक गीत व स्काउट गाइड गीत लेखन भी करते हैंl आपके लेखन का उद्देश्य-रुचि और हिन्दी को बढ़ावा देना हैl  

matruadmin

Average Rating

5 Star
0%
4 Star
0%
3 Star
0%
2 Star
0%
1 Star
0%

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

*मुस्कुराते चल*

Fri Nov 16 , 2018
अरे ओ मुसाफिर जरा सम्भल कर चल ठोकर लग जायेगी नजरे झुकाकर चल सर उठा कर चलने वाले हम भी खड़े हैं राह मे जरा नज़रे मिलाकर चल गुरूर में हीं एक दिन ज़िन्दगी  थम जायेगी ज़िन्दगी है दो पल की सबको निभा कर चल आज तेरे पास है कल […]

संस्थापक एवं सम्पादक

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’

29 अप्रैल, 1989 को मध्य प्रदेश के सेंधवा में पिता श्री सुरेश जैन व माता श्रीमती शोभा जैन के घर अर्पण का जन्म हुआ। उनकी एक छोटी बहन नेहल हैं। अर्पण जैन मध्यप्रदेश के धार जिले की तहसील कुक्षी में पले-बढ़े। आरंभिक शिक्षा कुक्षी के वर्धमान जैन हाईस्कूल और शा. बा. उ. मा. विद्यालय कुक्षी में हासिल की, तथा इंदौर में जाकर राजीव गाँधी प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के अंतर्गत एसएटीएम महाविद्यालय से संगणक विज्ञान (कम्प्यूटर साइंस) में बेचलर ऑफ़ इंजीनियरिंग (बीई-कंप्यूटर साइंस) में स्नातक की पढ़ाई के साथ ही 11 जनवरी, 2010 को ‘सेन्स टेक्नोलॉजीस की शुरुआत की। अर्पण ने फ़ॉरेन ट्रेड में एमबीए किया तथा एम.जे. की पढ़ाई भी की। उसके बाद ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियाँ’ विषय पर अपना शोध कार्य करके पीएचडी की उपाधि प्राप्त की। उन्होंने सॉफ़्टवेयर के व्यापार के साथ ही ख़बर हलचल वेब मीडिया की स्थापना की। वर्ष 2015 में शिखा जैन जी से उनका विवाह हुआ। वे मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष भी हैं और हिन्दी ग्राम के संस्थापक भी हैं। डॉ. अर्पण जैन ने 11 लाख से अधिक लोगों के हस्ताक्षर हिन्दी में परिवर्तित करवाए, जिसके कारण वर्ल्ड बुक ऑफ़ रिकॉर्डस, लन्दन द्वारा विश्व कीर्तिमान प्रदान किया गया।