हाथों की लकीरें

2
Read Time1Second

namita

हाथ से छूकर,
महसूस किया..
कितना खुरदुरापन है,
इन हाथों में।

वो नजाकतें वो कोमलता,
ना जाने कहां खो गई..
मां सिर्फ
फौलाद बन कर रह गई।

याद है मुझे,
वो नाजों-सी कंचन काया..
जो छूते ही मैली होती थी
मां कह लिपट जाता था..
पर वो प्रफुल्लित रहती थी।

नाजुक-सी मां,
पिता के जाने के बाद..
पत्थर-सी कठोर हो गई,
अब वो केवल मां है
सिर्फ मां बन कर रह गई।

बेरहम जमाने में,
हमारा छाता बनी मां..
सब सह लेती थी,
पर हमें कुछ न होने देती थी।

राहें जब कुछ अनुकूल हुई,
मां को नजदीक से देखा..
तब एक कौंध अन्तरमन को,
चीरती चली गई..
मां,उस मां से कितनी अलग थी,
जो पिता की छत्र छाया में
अमरबेल-सी झूमती थी,
सुसंस्कृत पत्नी के गर्व में
हिंडोले पर झूलती थी।

हाथों की लकीरें धोखा दे गई,
और वो नाजुक नारी..
ज्वालाओं में जल-जलकर,
पाषाणधारी हो गई।।

             #नमिता दुबे

परिचय : लेखन के क्षेत्र में नमिता दुबे अब नया नाम नहीं है। समाजशास्त्र में एमए करने वाली नमिता दुबे हाउस वाईफ के साथ ही सौन्दर्य विशेषज्ञ भी हैं। कॉलेज की पढ़ाई के दौरान लिखना शुरु किया था,जो निरंतर जारी है। दैनिक समाचार पत्रों में रचनाएं नियमित रुप से छपती रही हैं। पति के हैदराबाद में शिफ्ट होने के बाद पुनः लिखना शुरु किया है। हैदराबाद के कुछ समूहों और साहित्य समिति में कविता पाठ भी करती हैं। काव्य के साथ लेख और कहानी भी लिखती हैं। फिलहाल आप हैदराबाद में रहती हैं।

0 0

matruadmin

2 thoughts on “हाथों की लकीरें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

अपनी प्रेम कहानी...

Sat Mar 18 , 2017
प्रियतम अपनी प्रेम कहानी, लगती है कोई प्रीत पुरानी। जनम-जनम की चाहत अपनी, मैं हूँ तेरी प्रेम दिवानी। तू मेरे मैं तेरे दिल में, मिलकर हमने प्रीत निभानी। संग में साजन तुम जो रहते, लगती फिर है शाम सुहानी। भूलूँ चाहे सारे जहाँ को, नही तुम्हारी प्रीत भुलानी। हँसते-हँसते जीवन […]

Founder and CEO

Dr. Arpan Jain

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ इन्दौर (म.प्र.) से खबर हलचल न्यूज के सम्पादक हैं, और पत्रकार होने के साथ-साथ शायर और स्तंभकार भी हैं। श्री जैन ने आंचलिक पत्रकारों पर ‘मेरे आंचलिक पत्रकार’ एवं साझा काव्य संग्रह ‘मातृभाषा एक युगमंच’ आदि पुस्तक भी लिखी है। अविचल ने अपनी कविताओं के माध्यम से समाज में स्त्री की पीड़ा, परिवेश का साहस और व्यवस्थाओं के खिलाफ तंज़ को बखूबी उकेरा है। इन्होंने आलेखों में ज़्यादातर पत्रकारिता का आधार आंचलिक पत्रकारिता को ही ज़्यादा लिखा है। यह मध्यप्रदेश के धार जिले की कुक्षी तहसील में पले-बढ़े और इंदौर को अपना कर्म क्षेत्र बनाया है। बेचलर ऑफ इंजीनियरिंग (कम्प्यूटर साइंस) करने के बाद एमबीए और एम.जे.की डिग्री हासिल की एवं ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियों’ पर शोध किया है। कई पत्रकार संगठनों में राष्ट्रीय स्तर की ज़िम्मेदारियों से नवाज़े जा चुके अर्पण जैन ‘अविचल’ भारत के २१ राज्यों में अपनी टीम का संचालन कर रहे हैं। पत्रकारों के लिए बनाया गया भारत का पहला सोशल नेटवर्क और पत्रकारिता का विकीपीडिया (www.IndianReporters.com) भी जैन द्वारा ही संचालित किया जा रहा है।लेखक डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं तथा देश में हिन्दी भाषा के प्रचार हेतु हस्ताक्षर बदलो अभियान, भाषा समन्वय आदि का संचालन कर रहे हैं।