वसंतकी

1
Read Time0Seconds
surekha agrawal
नायिका की  शिकायत
सुनो …
एक दिन यही लफ़्ज तुमने
 ही कहे थे मुझसे
अश्रु और मुस्कान
से यदि  घुलती रहोगी तुम फाल्गुन और सावन से
  एक दिन मिलवा दूंगा मै…!
याद है ना तुम्हें जब
मेरा चेहरा लिए अपने हाथों में
पूछे थे कई प्रश्न  तुमने मुझसे..!
हर वह प्रश्न के जवाब ढूँढने निकल
पड़ी थी मै मन के रास्ते और आज तक
भटक रही हूँ उन प्रश्नों के जवाब
पाने को…!
उत्तर मिलते है पर तस्सली नही
मिलती क्योंकि
तुम्हारे हर प्रश्न में छुपा है एक प्रश्न?..!
 एक गहन अनुभूति
एक गहन प्रतिक्रिया
तुम्हारे अन्तस् में छिपी
 वह रहस्मयी  प्रश्नावली…!
जानते हो तुम  मै भटकती
रहूंगी उसी परिधि में
जहाँ नही
होंगे तुम्हारे प्रश्नों के उत्तर..!
 हाँ जकड़ी रहूंगी मै तुम्हारे
फाग और सावन के अंतर्द्वन्द में…!
मै परिचित होती रहूंगी
तुम्हारे लफ्ज़ो के संसार में
 ढालते रहना फिर  मुझे तुम
  अपने फ़ाल्गुनी रंगीन
  परिहास  से अहसास में…!!!
नाम सुरेखा अग्रवाल
शिक्षा…स्नातक
शहर…..लखनऊ (उत्तरप्रदेश)
दो साझा संग्रह
कश्ती का चाँद
रूह की आवाज़
अंतरा से स्पंदन
अभिमत मासिक पत्रिका में कई
आलेख रचनाएँ,और लघुककथाएं प्रकाशित
नवप्रदेश, जंनसंदेश मैत्री ,नव एक्सप्रेस,अमर उजाला से रचनाएँ प्रकाशित।कई वेबसाइट्स पर आलेख ।
 लिखना मन को सुकूँ देता हैं और सृजन की शक्ति देता हैं।कलम समाज में एक बड़ा बदलाव का काम करती हैं।उद्देश्य हिंदी को  घर घर तक पहुँचाना।जय हिन्द,जय हिंद
0 0

matruadmin

One thought on “वसंतकी

  1. Mujhe bhi Shikayat hai Umra se ki q mujhe tumse pehle na milayaa
    Tumhara ek 2 Shabd Man ko chhu Jata hai.
    Jeewan ke sabhi pehlu Ko chhu jaati ho.
    Kabhi 2 lagtaa hai jaise mere Man ko padh liyaa tumne.
    Maa Saraswati ki Aseem Kripa hai Tum par.
    M Ur Big Fan.
    Blessings

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

मिथिला की सीता"

Mon Jul 30 , 2018
मिथिला की हर नारी सीता हर नारी में सीता मां मेरी मैथिली इस कारण…. माँ मेरी सीता जन्म कर्म का जोड़ यही माँ बन गई सीता… उसने जो जाना सीता जिसको उसने माना सीता हमें सीख में दे गई वो सीता पोथी रामायण की आदर से पकड़ाकर  बोली बेटी तुम […]

Founder and CEO

Dr. Arpan Jain

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ इन्दौर (म.प्र.) से खबर हलचल न्यूज के सम्पादक हैं, और पत्रकार होने के साथ-साथ शायर और स्तंभकार भी हैं। श्री जैन ने आंचलिक पत्रकारों पर ‘मेरे आंचलिक पत्रकार’ एवं साझा काव्य संग्रह ‘मातृभाषा एक युगमंच’ आदि पुस्तक भी लिखी है। अविचल ने अपनी कविताओं के माध्यम से समाज में स्त्री की पीड़ा, परिवेश का साहस और व्यवस्थाओं के खिलाफ तंज़ को बखूबी उकेरा है। इन्होंने आलेखों में ज़्यादातर पत्रकारिता का आधार आंचलिक पत्रकारिता को ही ज़्यादा लिखा है। यह मध्यप्रदेश के धार जिले की कुक्षी तहसील में पले-बढ़े और इंदौर को अपना कर्म क्षेत्र बनाया है। बेचलर ऑफ इंजीनियरिंग (कम्प्यूटर साइंस) करने के बाद एमबीए और एम.जे.की डिग्री हासिल की एवं ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियों’ पर शोध किया है। कई पत्रकार संगठनों में राष्ट्रीय स्तर की ज़िम्मेदारियों से नवाज़े जा चुके अर्पण जैन ‘अविचल’ भारत के २१ राज्यों में अपनी टीम का संचालन कर रहे हैं। पत्रकारों के लिए बनाया गया भारत का पहला सोशल नेटवर्क और पत्रकारिता का विकीपीडिया (www.IndianReporters.com) भी जैन द्वारा ही संचालित किया जा रहा है।लेखक डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं तथा देश में हिन्दी भाषा के प्रचार हेतु हस्ताक्षर बदलो अभियान, भाषा समन्वय आदि का संचालन कर रहे हैं।