यादें जीवन की

0 0
Read Time3 Minute, 59 Second

इतनी-सी क्या देर हो गई तुझे ,
तुम्हें आए कितना दिन हुआ ,
ऐसे कोई थोड़े जाता है भला क्या ,
ये जिंदगी कोई खेल थोड़े है ,

चौतीस यैवन देख चुके तुम ,
क्या इतना ही ज्यादा हो गई ,
इस छोटी-सी जिंदगी मे ,
जीवन क्यों मजबूर हूई ,

अभी सारा जीवन बाकी था ,
शुरुआत तो अब हुई थी ,
दूसरे की हौसला देने वाले ,
स्वयं क्यूँ तू हार गए तुम ,

इस नश्वर दुनिया मे तुम ,
मौत को क्यूँ दोस्त बना लिए तुम ,
अभी और अधियारा आता भी ,
इतनें मे क्यूँ हार गए तुम ,

जीने का सलीका सिखाने वाले ,
स्वयं सलीका भुल गए तुम ,
युवा जीवन के पायदान पे चढ़ते ,
दुनिया से क्यूँ रूठ गए तुम ,

सबके चेहरे पे हँसी लाने वाले ,
स्वयं डिप्रेशन मे चले गए तुम ,
इस बेखुदी दुनिया मे ,
जीवन से हार गए तुम !
रुपेश कुमार
सीवान (बिहार)
पिता – श्री भीष्म प्रसाद
माता – बिंदा देवी
शिक्षा – स्नाकोतर भौतिकी,बी.एड(फिजिकल सांइस),ए.डी.सी.ए(कम्प्यूटर),इसाई धर्म(डिप्लोमा)
वर्तमान-प्रतियोगिता परीक्षा की तैयारी !
प्रकाशित पुस्तक ~
“मेरी कलम रो रही है”(एकल संग्रह ईबुक-2018)
आठ साझा संग्रह, एक अंग्रेजी मे !
विभिन्न राष्ट्रिय पत्र-पत्रिकाओ मे सैकड़ो से अधिक कविता,कहानी,गजल प्रकाशित,लेख !
राष्ट्रीय साहित्यिक संस्थानों से सैकड़ो से अधिक सम्मान प्राप्त यथा ~
“भारती ज्योति”(राष्ट्रीय राजभाषा पीठ, प्रयागराज-2010)
“साहित्य अभ्युदय सम्मान”(साहित्य संगम संस्थान, इंदौर-2018)
“फणीश्वरनाथ रेणू आंचलिक साहित्य सम्मान”(राष्ट्रीय आंचलिक साहित्य संस्थान, हरियाणा-2018)
“साहित्य साधक सम्मान”(ऑल इंडिया हिंदी उर्दू एकता ट्रस्ट(रजिं),गाजियाबाद-2020),
“जनचेतना अक्षर सम्मान”(विश्व जनचेतना ट्रस्ट भारत, बीसलपुर-2020),
“लीटरेरी कॉर्नल”(स्टोरी मिरर इंडिया, मुंबई-2020)
“केसरी सिंह बारहठ सम्मान-2019″(राजल वेलफेयर एंड डवलपमेंट संस्थान, जोधपुर)
“भारती भूषण”(राष्ट्रीय राजभाषा पीठ, प्रयागराज-2014)
“काव्य सरस्वती”(अखिल भारतीय हिंदी साहित्य परिषद, कप्तानगंज-2010)
“साहित्य शिल्पी सम्मान” (साहित्य द्वार संस्था, बस्ती-2020)
“सहयोग साहित्य सम्मान” (सोनल साहित्यिक समूह, बाड़मेर, राजस्थान- 2020)
“श्रेस्ठ सृजन सम्मान”(राष्ट्रीय कवि चौपाल, राजस्थान-2020),
“बेस्ट हिंदी राईटर ऑफ़ द ईयर” (राजल वेलफेयर एंड डेवलपमेंट संस्थान, जोधपुर-2020)
“राष्ट्र गौरव कलम सम्मान”(अर्णव कलश एसोसिएशन, हरियाणा-2020)
“श्रीमती फुलवती देवी साहित्य सम्मान”(मीन साहित्य संस्कृति मंच, हरियाणा -2020)
“साहित्य साधक सम्मान”(अखिल भारतीय साहित्यिकी मंच, सहरसा-2020) इत्यादि!
सदस्य ~ भारतीय ज्ञानपीठ (आजीवन सदस्य)

matruadmin

Next Post

राजा दाहिर सेन बलिदान दिवस 16 जून

Mon Jun 15 , 2020
राजा दाहिर सेन सिंधु देश राज्य करने वाले अंतिम हिंदू राजा हुए जिनकी वीरता और पराक्रम से भारत भूमि कई दशकों तक सुरक्षित रही। सन 663 से 712 ईसवी तक राजा दाहिर ने सफल शासन किया। इनसे पहले सिंध के राजा चंद्रसेन बौद्ध बन गए थे। बौद्ध भिक्षुओं के प्रति […]

संस्थापक एवं सम्पादक

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’

29 अप्रैल, 1989 को मध्य प्रदेश के सेंधवा में पिता श्री सुरेश जैन व माता श्रीमती शोभा जैन के घर अर्पण का जन्म हुआ। उनकी एक छोटी बहन नेहल हैं। अर्पण जैन मध्यप्रदेश के धार जिले की तहसील कुक्षी में पले-बढ़े। आरंभिक शिक्षा कुक्षी के वर्धमान जैन हाईस्कूल और शा. बा. उ. मा. विद्यालय कुक्षी में हासिल की, तथा इंदौर में जाकर राजीव गाँधी प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के अंतर्गत एसएटीएम महाविद्यालय से संगणक विज्ञान (कम्प्यूटर साइंस) में बेचलर ऑफ़ इंजीनियरिंग (बीई-कंप्यूटर साइंस) में स्नातक की पढ़ाई के साथ ही 11 जनवरी, 2010 को ‘सेन्स टेक्नोलॉजीस की शुरुआत की। अर्पण ने फ़ॉरेन ट्रेड में एमबीए किया तथा एम.जे. की पढ़ाई भी की। उसके बाद ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियाँ’ विषय पर अपना शोध कार्य करके पीएचडी की उपाधि प्राप्त की। उन्होंने सॉफ़्टवेयर के व्यापार के साथ ही ख़बर हलचल वेब मीडिया की स्थापना की। वर्ष 2015 में शिखा जैन जी से उनका विवाह हुआ। वे मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष भी हैं और हिन्दी ग्राम के संस्थापक भी हैं। डॉ. अर्पण जैन ने 11 लाख से अधिक लोगों के हस्ताक्षर हिन्दी में परिवर्तित करवाए, जिसके कारण वर्ल्ड बुक ऑफ़ रिकॉर्डस, लन्दन द्वारा विश्व कीर्तिमान प्रदान किया गया।