भ्रम

1 0
Read Time1 Minute, 1 Second

दिन को यूं गुजारकर क्या करना,
किसी को सुधारकर क्या करना!

जो मान जाये बात तो बेहतर है,
दबाव किसी पर बनाकर क्या करना!

बहुत तो तरक्की कर ली है सबने,
दिन पुरानें याद दिलाकर क्या करना!

कुछ तो कमी है आज भी उनमें,
कमी उनकी निकालकर क्या करना!

धीरे धीरे हो जायेगे वे और काबिल,
सलाह मेरी उन्हें मानकर क्या करना!

फिर भी पूछेगे वे कुछ तो ‘ललित’ से,
भ्रम ये दिमाग से निकालकर क्या करना!

#ललित सिंह

परिचय :ललित सिंह रायबरेली (उत्तरप्रदेश) में रहते हैं l आप वर्तमान में बीएससी में पढ़ने के साथ ही लेखन भी कर रहे हैंl  आपको श्रृंगार विधा में लिखना अधिक पसंद है l स्थानीय पत्रिकाओं में आपकी कुछ रचना छपी है l 

matruadmin

Next Post

कोरोना से करो ना मनमानी

Wed Apr 8 , 2020
मंडरा रहा है अभी कोरोना मौत देखो हर शहर में.. जाने कौन, कब क्या हो जाये किसे किस पहर में… कोरोना आफत लेकर फैला रही विषाक्त गरल में…. रहा पवन में पल पल घुल देखो नई जहर में …. कोरोना क्या कम था जो अब आया ये हंता देखो…… रहे […]

संस्थापक एवं सम्पादक

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’

29 अप्रैल, 1989 को मध्य प्रदेश के सेंधवा में पिता श्री सुरेश जैन व माता श्रीमती शोभा जैन के घर अर्पण का जन्म हुआ। उनकी एक छोटी बहन नेहल हैं। अर्पण जैन मध्यप्रदेश के धार जिले की तहसील कुक्षी में पले-बढ़े। आरंभिक शिक्षा कुक्षी के वर्धमान जैन हाईस्कूल और शा. बा. उ. मा. विद्यालय कुक्षी में हासिल की, तथा इंदौर में जाकर राजीव गाँधी प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के अंतर्गत एसएटीएम महाविद्यालय से संगणक विज्ञान (कम्प्यूटर साइंस) में बेचलर ऑफ़ इंजीनियरिंग (बीई-कंप्यूटर साइंस) में स्नातक की पढ़ाई के साथ ही 11 जनवरी, 2010 को ‘सेन्स टेक्नोलॉजीस की शुरुआत की। अर्पण ने फ़ॉरेन ट्रेड में एमबीए किया तथा एम.जे. की पढ़ाई भी की। उसके बाद ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियाँ’ विषय पर अपना शोध कार्य करके पीएचडी की उपाधि प्राप्त की। उन्होंने सॉफ़्टवेयर के व्यापार के साथ ही ख़बर हलचल वेब मीडिया की स्थापना की। वर्ष 2015 में शिखा जैन जी से उनका विवाह हुआ। वे मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष भी हैं और हिन्दी ग्राम के संस्थापक भी हैं। डॉ. अर्पण जैन ने 11 लाख से अधिक लोगों के हस्ताक्षर हिन्दी में परिवर्तित करवाए, जिसके कारण वर्ल्ड बुक ऑफ़ रिकॉर्डस, लन्दन द्वारा विश्व कीर्तिमान प्रदान किया गया।