बनें गुरू तब मीत

0 0
Read Time2 Minute, 26 Second


~ १ ~
द्रोण सरीखे गुरु बनो,भली निभाओ रीत।
नहीं अँगूठा माँगना, एकलव्य से मीत।।
~ २ ~
एकलव्य की बात से, धूमिल द्रोण समाज।
कारण जो भी थे रहे, बहस न करिए आज।।
~ ३ ~
परशुराम से गुरु बनो, विद्यावान प्रचंड।
कीर्ति सदा भू पर रहे, हरिसन तजे घमंड।।
~ ४ ~
गुरु चाणक्य समान ही,कर शासक निर्माण।
अमर बनो स्व राष्ट्रहित, कर काया निर्वाण।।
~ ५ ~
वालमीकि से धीर हो, सिय पाए विश्राम।
लव कुश घोड़ा रोक दें, करें प्रशंसा राम।।
~ ६ ~
दास कबीरा की तरह, बनना गुरु बेलाग।
ज्ञानी अक्खड़ भाव से, नई जगा दे आग।।
~ ७ ~
गुरु नानक सा संगठन, सत्य पंथ आचार।
देश धरा हित त्याग में, करना नहीं विचार।।
~ ८ ~
तुलसी जैसी लेखनी, कालिदास सा ज्ञान।
सूरदास सा समर्पण, तब कर ले गुरु मान।।
~ ९ ~
मीरा और रैदास सी, अविचल भक्ति सुजान।
गुरु वशिष्ठ से भाग्य लिख,होना गुरू महान।।
~ १० ~
तिलक गोखले सा हृदय,रखना आप हमेश।
देश हितैषी कर्म हो, बनो गुरू परमेश।।
~ ११ ~
रामदेव सा योग कर, तानसेन से गीत।
शर्मा बाबू लाल कहि, बने गुरू तब मीत।।

नाम–बाबू लाल शर्मा 
साहित्यिक उपनाम- बौहरा
जन्म स्थान – सिकन्दरा, दौसा(राज.)
वर्तमान पता- सिकन्दरा, दौसा (राज.)
राज्य- राजस्थान
शिक्षा-M.A, B.ED.
कार्यक्षेत्र- व.अध्यापक,राजकीय सेवा
सामाजिक क्षेत्र- बेटी बचाओ ..बेटी पढाओ अभियान,सामाजिक सुधार
लेखन विधा -कविता, कहानी,उपन्यास,दोहे
सम्मान-शिक्षा एवं साक्षरता के क्षेत्र मे पुरस्कृत
अन्य उपलब्धियाँ- स्वैच्छिक.. बेटी बचाओ.. बेटी पढाओ अभियान
लेखन का उद्देश्य-विद्यार्थी-बेटियों के हितार्थ,हिन्दी सेवा एवं स्वान्तः सुखायः 

matruadmin

Average Rating

5 Star
0%
4 Star
0%
3 Star
0%
2 Star
0%
1 Star
0%

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

हस्ते-खेलते,गुदगुदाते-- सफलता और असफलता कि उम्दा कहानी- छिछोरे

Fri Sep 6 , 2019
छिछोरे हस्ते-खेलते,गुदगुदाते– सफलता और असफलता कि उम्दा कहानी छिछोरे निर्देशक नीतेश तिवारी अदाकार सुशांत राजपूत, शृद्धा कपूर, वरूण शर्मा, प्रतीक बब्बर, ताहिर राज भसीन, नवीन पोलीशेट्टी, सहर्ष कुमार, संगीत प्रीतम, समीरूद्दिन प्रस्तावना आपने कालेज लाइफ पर कई फिल्मों का तुल्फ लिया है, जैसे मेरे अपने, जो जीता वही सिकन्दर, थ्री […]

संस्थापक एवं सम्पादक

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’

29 अप्रैल, 1989 को मध्य प्रदेश के सेंधवा में पिता श्री सुरेश जैन व माता श्रीमती शोभा जैन के घर अर्पण का जन्म हुआ। उनकी एक छोटी बहन नेहल हैं। अर्पण जैन मध्यप्रदेश के धार जिले की तहसील कुक्षी में पले-बढ़े। आरंभिक शिक्षा कुक्षी के वर्धमान जैन हाईस्कूल और शा. बा. उ. मा. विद्यालय कुक्षी में हासिल की, तथा इंदौर में जाकर राजीव गाँधी प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के अंतर्गत एसएटीएम महाविद्यालय से संगणक विज्ञान (कम्प्यूटर साइंस) में बेचलर ऑफ़ इंजीनियरिंग (बीई-कंप्यूटर साइंस) में स्नातक की पढ़ाई के साथ ही 11 जनवरी, 2010 को ‘सेन्स टेक्नोलॉजीस की शुरुआत की। अर्पण ने फ़ॉरेन ट्रेड में एमबीए किया तथा एम.जे. की पढ़ाई भी की। उसके बाद ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियाँ’ विषय पर अपना शोध कार्य करके पीएचडी की उपाधि प्राप्त की। उन्होंने सॉफ़्टवेयर के व्यापार के साथ ही ख़बर हलचल वेब मीडिया की स्थापना की। वर्ष 2015 में शिखा जैन जी से उनका विवाह हुआ। वे मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष भी हैं और हिन्दी ग्राम के संस्थापक भी हैं। डॉ. अर्पण जैन ने 11 लाख से अधिक लोगों के हस्ताक्षर हिन्दी में परिवर्तित करवाए, जिसके कारण वर्ल्ड बुक ऑफ़ रिकॉर्डस, लन्दन द्वारा विश्व कीर्तिमान प्रदान किया गया।