विचार कभी मर नहीं सकते

0 0
Read Time3 Minute, 6 Second
salil saroj
आज तुम मुझे
नकार दोगे
अपनी आत्म-संतुष्टि की भूख में
गिरा दोगे
मुझे
मेरे शीर्ष से
जो मुझे प्राप्त हुआ है
मेरे अथक प्रयत्न से
और
तुम चोरी कर लोगे
मेरे सारे पुरूस्कार
जो मेरे हाथ की लकीरों ने नहीं
न ही मेरे माथे की तासीर ने दी है
बल्कि
जो मैंने हासिल किए हैं
अपनी कूबत से
अपने सामर्थ्य से
तुम्हारे अहंकार से लड़कर
और
सड़ी-गली तंत्रों से भिड़कर
पर
क्या करोगे
मेरे विचारों का
जो इन हवाओं में घुल गई हैं
पानी की तरह मिटटी में फ़ैल गई हैं
जो बिखर गई हैं
नभ में बादल बनकर
जो अंगार बनकर तप रहा है
अग्नि में
और जो अटल,अविचलित हैं
नई नस्ल की वाणी में
जो प्राण बनकर बैठ गया है
जीव-जन्तु हर प्राणी में
विश्वास करो
तुम थक जाओगे
विचारों को मारते मारते
विचारों की तह तक पहुँचते पहुँचते
विचारों की गंभीरता समझते समझते
और
विचारों की शक्ति मापते मापते
क्योंकि
तुम्हें पता ही नहीं है कि
विचार कभी मर नहीं सकते
हाँ
कुछ देर को दब सकते हैं
तुम्हारे बम,तोप और तानाशाही से
पर
ये फिर उठ खड़े होंगे
किसी दिन
जीसस की तरह
और
तुम्हें माफ़ कर देंगे
तुम्हारी बेबसी
और
लाचारी के किए
क्योंकि
तुम
कभी विचार से जुड़ नहीं पाए
अपनी कोई राय
विकसित नहीं कर पाए
तुम कर पाए
सिर्फ
चोरी
या
बनकर रहे परजीवी
सारी उम्र
जो दूसरों की विचारों पर
तब तक ही टिक सका
जब तक की
वो बाज़ार में बिक सका
#सलिल सरोज

परिचय

नई दिल्ली
शिक्षा: आरंभिक शिक्षा सैनिक स्कूल, तिलैया, कोडरमा,झारखंड से। जी.डी. कॉलेज,बेगूसराय, बिहार (इग्नू)से अंग्रेजी में बी.ए(2007),जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय , नई दिल्ली से रूसी भाषा में बी.ए(2011),  जीजस एन्ड मेरीकॉलेज,चाणक्यपुरी(इग्नू)से समाजशास्त्र में एम.ए(2015)।

प्रयास: Remember Complete Dictionary का सह-अनुवादन,Splendid World Infermatica Study का सह-सम्पादन, स्थानीय पत्रिका”कोशिश” का संपादन एवं प्रकाशन, “मित्र-मधुर”पत्रिका में कविताओं का चुनाव।सम्प्रति: सामाजिक मुद्दों पर स्वतंत्र विचार एवं ज्वलन्त विषयों पर पैनी नज़र। सोशल मीडिया पर साहित्यिक धरोहर को जीवित रखने की अनवरत कोशिश।

matruadmin

Average Rating

5 Star
0%
4 Star
0%
3 Star
0%
2 Star
0%
1 Star
0%

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

माँ गंगा की पीड़ा

Fri Sep 28 , 2018
बहती मेरी कल-कल धारा श्वेत रंग मे रंगी हुई सी है पवित्रता समेटे हुऐ फिर भी देखो ठगी हुई सी ……………………… करते है,पवित्रता की बाते मुझको ‘गंगा माँ’ कहते है खाते है सौगन्ध मेरी गर्व से सीना फुलाते है …………………….. मै तो आई थी पत्थरों से सर अपना टकराकर राह […]

संस्थापक एवं सम्पादक

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’

29 अप्रैल, 1989 को मध्य प्रदेश के सेंधवा में पिता श्री सुरेश जैन व माता श्रीमती शोभा जैन के घर अर्पण का जन्म हुआ। उनकी एक छोटी बहन नेहल हैं। अर्पण जैन मध्यप्रदेश के धार जिले की तहसील कुक्षी में पले-बढ़े। आरंभिक शिक्षा कुक्षी के वर्धमान जैन हाईस्कूल और शा. बा. उ. मा. विद्यालय कुक्षी में हासिल की, तथा इंदौर में जाकर राजीव गाँधी प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के अंतर्गत एसएटीएम महाविद्यालय से संगणक विज्ञान (कम्प्यूटर साइंस) में बेचलर ऑफ़ इंजीनियरिंग (बीई-कंप्यूटर साइंस) में स्नातक की पढ़ाई के साथ ही 11 जनवरी, 2010 को ‘सेन्स टेक्नोलॉजीस की शुरुआत की। अर्पण ने फ़ॉरेन ट्रेड में एमबीए किया तथा एम.जे. की पढ़ाई भी की। उसके बाद ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियाँ’ विषय पर अपना शोध कार्य करके पीएचडी की उपाधि प्राप्त की। उन्होंने सॉफ़्टवेयर के व्यापार के साथ ही ख़बर हलचल वेब मीडिया की स्थापना की। वर्ष 2015 में शिखा जैन जी से उनका विवाह हुआ। वे मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष भी हैं और हिन्दी ग्राम के संस्थापक भी हैं। डॉ. अर्पण जैन ने 11 लाख से अधिक लोगों के हस्ताक्षर हिन्दी में परिवर्तित करवाए, जिसके कारण वर्ल्ड बुक ऑफ़ रिकॉर्डस, लन्दन द्वारा विश्व कीर्तिमान प्रदान किया गया।