मेरे बाबा तो भोलेनाथ..

0 0
Read Time1 Minute, 39 Second
tarkesh ojha
tarkesh ojha

बाबा का संबोधन मेरे लिए अब भी
है उतना ही पवित्र और आकर्षक
जितना  था पहले
अपने बेटे और भोलेनाथ को
मैं अब भी बाबा पुकारता हूं
अंतरात्मा की गहराईयों से
क्योंकि दुनियावी बाबाओं के भयंकर प्रदूषण
से दूषित नहीं हुई दुनिया मेरे आस्था और विश्वास की
अद्भुत आत्मीय लगता है  मुझे अब भी
बाबा का संबोधन
बचपन में  केवल दो बाबा को जानता था मैं
एक बाबा यानि पिता के पिता
दूसरे बाबा यानी भोलेनाथ
स्वयं पिता बनने के बाद
पता नहीं क्यो
बेटे को भी बाबा  पुकारना मुझे अच्छा लगने लगा
हालांकि उम्र बढ़ने के साथ
बाबाओं की दुनिया दिनोंदिन नजर आने लगी
घिनौनी, जटिल और  रहस्यमय
लेकिन चाहे जितने बाबा पकड़े जाएं
घिनौने और सनसनीखेज अपराध में
बाबा का संबोधन मेरे लिए सदैव
बना रहेगा
उतना ही पवित्र और आकर्षक
हमेशा हमेशा …
जितना था पहले
क्योंकि मेरे बाबा तो भोलेनाथ …

#तारकेश कुमार ओझा

लेखक पश्चिम बंगाल के खड़गपुर में रहते हैं और वरिष्ठ पत्रकार हैं | तारकेश कुमार ओझा का निवास  भगवानपुर(खड़गपुर,जिला पश्चिम मेदिनीपुर) में है |

matruadmin

Average Rating

5 Star
0%
4 Star
0%
3 Star
0%
2 Star
0%
1 Star
0%

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

पावस के दिन

Fri Jul 13 , 2018
पावस के दिन आये। कारे- कारे कजरारे से,                      मेघ गगन पर छाये ।                      पावस के दिन आये।। चम-चम चपला चमक रही है, मेघ    उसाँसें     भरते      हैं […]

संस्थापक एवं सम्पादक

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’

29 अप्रैल, 1989 को मध्य प्रदेश के सेंधवा में पिता श्री सुरेश जैन व माता श्रीमती शोभा जैन के घर अर्पण का जन्म हुआ। उनकी एक छोटी बहन नेहल हैं। अर्पण जैन मध्यप्रदेश के धार जिले की तहसील कुक्षी में पले-बढ़े। आरंभिक शिक्षा कुक्षी के वर्धमान जैन हाईस्कूल और शा. बा. उ. मा. विद्यालय कुक्षी में हासिल की, तथा इंदौर में जाकर राजीव गाँधी प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के अंतर्गत एसएटीएम महाविद्यालय से संगणक विज्ञान (कम्प्यूटर साइंस) में बेचलर ऑफ़ इंजीनियरिंग (बीई-कंप्यूटर साइंस) में स्नातक की पढ़ाई के साथ ही 11 जनवरी, 2010 को ‘सेन्स टेक्नोलॉजीस की शुरुआत की। अर्पण ने फ़ॉरेन ट्रेड में एमबीए किया तथा एम.जे. की पढ़ाई भी की। उसके बाद ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियाँ’ विषय पर अपना शोध कार्य करके पीएचडी की उपाधि प्राप्त की। उन्होंने सॉफ़्टवेयर के व्यापार के साथ ही ख़बर हलचल वेब मीडिया की स्थापना की। वर्ष 2015 में शिखा जैन जी से उनका विवाह हुआ। वे मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष भी हैं और हिन्दी ग्राम के संस्थापक भी हैं। डॉ. अर्पण जैन ने 11 लाख से अधिक लोगों के हस्ताक्षर हिन्दी में परिवर्तित करवाए, जिसके कारण वर्ल्ड बुक ऑफ़ रिकॉर्डस, लन्दन द्वारा विश्व कीर्तिमान प्रदान किया गया।