नेह से बंधे धागे प्यार के न तुम संभाल सके न मैं । पूरी करते रहे सभी जिम्मेदारियाँ न पीछे तुम हटे ,न मैं। इक -इक कदम भी आते करीब तो मिट जाती दूरियाँ। एक होने को हमदम न आगे तुम बढ़े, न मैं । खाई थी कसमें फलक तक,साथ […]

1

मैं राष्ट्रभाषा मातृभाषा, हिंदी हिंदुस्तान की शान। बीते सात दशक आज़ादी अब तक क्यों न मिली पहचान ? दुनियाँ के सारे देशों को है निज भाषा पर अभिमान। सुनो पराई भाषा का तुम मुझे त्याग करते क्यों गान। उर्दू, आंग्ल, फ़ारसी सब को आत्मसात कर दिया है मान ।बीते…. मुझे […]

2

सरेराह कार में ऐ.सी.का मजा लेते हुए मैंने, कुछ मजबूरियों को नंगे पैर चिलचिलाती हुई धूप में, गिड़गिड़ाते हुए देखा! खिलौने ले लो ना मेडम ! आपका बच्चा बहुत खुश होगा। उनके पैरों के छाले मेरे सीने में जखम करते हैं । उनके पैरों में चप्पल भी नहीं हम ऐ.सी […]

1

जब से नशामुक्ति अभियान से जुड़ी, तब से ही काशीबाई को जानती हूँ। तीन बच्चे और शराबी पति, जो हर रोज़ अपनी तो अपनी,काशीबाई की मज़दूरी के पैसे भी ज़हर में डुबो देता। काशीबाई कभी केवल रोटी, कभी नमक-चावल खाकर तो कभी भूखी रहकर अपने दिन काट रही थी। आज […]

बेहद उदास असमर्थ-सी उन बेपरवाह उबड़-खाबड़ संकरे-चौड़े घुमावदार रास्तों से भागते-दौड़ते आगे ही आगे उन्नति के लिए सिर्फ अपने ही बिषय में सोचते उपेक्षित करते जाते उसमें भरते जाते जहरीली निशा निरर्थक और व्यर्थ समझ उसकी चमक सौंधी गंध खो रही है खो गई है वो मुस्कुराने की आस में […]

संतों की भी टूटती रही है समाधियां,  सत्ता के भी डोलते रहे हैं सिंहासन.. प्रेम की खनक से,  उन्माद की चमक से..  यही प्रेम……..जब  टेसू को छूकर  जंगलों से आता है,  गरम हवाओं पर तैरता हुआ  एक शीतल एहसास बनकर,  तो जीवंत हो उठती है,  प्रेम की सारी अधखुली कलियां.. […]

संस्थापक एवं सम्पादक

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’

29 अप्रैल, 1989 को मध्य प्रदेश के सेंधवा में पिता श्री सुरेश जैन व माता श्रीमती शोभा जैन के घर अर्पण का जन्म हुआ। उनकी एक छोटी बहन नेहल हैं। अर्पण जैन मध्यप्रदेश के धार जिले की तहसील कुक्षी में पले-बढ़े। आरंभिक शिक्षा कुक्षी के वर्धमान जैन हाईस्कूल और शा. बा. उ. मा. विद्यालय कुक्षी में हासिल की, तथा इंदौर में जाकर राजीव गाँधी प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के अंतर्गत एसएटीएम महाविद्यालय से संगणक विज्ञान (कम्प्यूटर साइंस) में बेचलर ऑफ़ इंजीनियरिंग (बीई-कंप्यूटर साइंस) में स्नातक की पढ़ाई के साथ ही 11 जनवरी, 2010 को ‘सेन्स टेक्नोलॉजीस की शुरुआत की। अर्पण ने फ़ॉरेन ट्रेड में एमबीए किया तथा एम.जे. की पढ़ाई भी की। उसके बाद ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियाँ’ विषय पर अपना शोध कार्य करके पीएचडी की उपाधि प्राप्त की। उन्होंने सॉफ़्टवेयर के व्यापार के साथ ही ख़बर हलचल वेब मीडिया की स्थापना की। वर्ष 2015 में शिखा जैन जी से उनका विवाह हुआ। वे मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष भी हैं और हिन्दी ग्राम के संस्थापक भी हैं। डॉ. अर्पण जैन ने 11 लाख से अधिक लोगों के हस्ताक्षर हिन्दी में परिवर्तित करवाए, जिसके कारण वर्ल्ड बुक ऑफ़ रिकॉर्डस, लन्दन द्वारा विश्व कीर्तिमान प्रदान किया गया।