चाँद को भी आज आ जाएगा  फिर से रोना, मजहबी भेद में आज पृथक पड़ेगा निकलना। चाँद देख के रोजा खोले, कोई आपा सकीना। चाँद से करवा का व्रत, खोले कोई बहन मीना॥ चाँद को भी एक नभ में दो रुपों में पड़ेगा जीना, मीना हो या सकीना तप में […]

अनाथ बच्चों का कोई क्यूं नहीं होता,नाथ, उन रोते बच्चों के सिर पे रखने के लिए क्यूं कोई नहीं होता,हाथl हम हमेशा गर्व से बोलते हैं सबसे बड़ा है हमारा,धर्म, तो उन अनाथ बच्चों पे कोई धर्म, क्यूं नहीं करता,रहमl मूर्तियों को करोड़ों के कपड़े पहनाकर हम बढ़ाते हैं समाज […]

1

  कितने प्यारे हैं  ये जानवर, जिसे करते हैं प्यार उस पे देते ,जान वार। ये मनुष्यों को भी देते हैं  प्रेम से जीने का, शार, कोई मजहब नहीं है इनका और न कभी सियासी दांव-पेंच में करते एक-दूसरे पे ,प्रहार। कभी बलि, तो कभी कुर्बानी के नाम पे मारते […]

आज धन हो तो शिक्षा होती है, बिना धन के तो प्रतिभा भी रोती है। मुझे गर्व है मैं हिन्दुस्तान में रहती हूँ, फिर क्यूं मेरे देश में केवल अंग्रेजी ही सम्मान से जीती है। लाख योजना निकल के बन्द कागजों तक सीमित रह जाती है, इसलिए तो लाखों कला […]

बहू है तो वंश है, बहू में ही पलता तुम्हारा अंश है। बहू को पराया कहना एक वहम है, बहू ही हर गम सहकर बनाए रखती तुम्हारा अहम है.. क्यूं फिर उसको माना जाता केवल भ्रम है। बहू खुशी की लहर है, फिर क्यूं कहा जाता उसे दुखों का कहर […]

हर दिन नारी की इज्जत से ‘खेला’ जाता है, कभी शब्दों से तो,कभी हाथों से नारी को ‘मैला’ किया जाता है। अपमान के घूँट को पीना नारी का ‘फर्ज’ माना जाता है, मान तो पुरूषों के हिस्से में आता है.. नारी को तो आज भी एक ‘कर्ज’ माना जाता है। […]

संस्थापक एवं सम्पादक

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’

29 अप्रैल, 1989 को मध्य प्रदेश के सेंधवा में पिता श्री सुरेश जैन व माता श्रीमती शोभा जैन के घर अर्पण का जन्म हुआ। उनकी एक छोटी बहन नेहल हैं। अर्पण जैन मध्यप्रदेश के धार जिले की तहसील कुक्षी में पले-बढ़े। आरंभिक शिक्षा कुक्षी के वर्धमान जैन हाईस्कूल और शा. बा. उ. मा. विद्यालय कुक्षी में हासिल की, तथा इंदौर में जाकर राजीव गाँधी प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के अंतर्गत एसएटीएम महाविद्यालय से संगणक विज्ञान (कम्प्यूटर साइंस) में बेचलर ऑफ़ इंजीनियरिंग (बीई-कंप्यूटर साइंस) में स्नातक की पढ़ाई के साथ ही 11 जनवरी, 2010 को ‘सेन्स टेक्नोलॉजीस की शुरुआत की। अर्पण ने फ़ॉरेन ट्रेड में एमबीए किया तथा एम.जे. की पढ़ाई भी की। उसके बाद ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियाँ’ विषय पर अपना शोध कार्य करके पीएचडी की उपाधि प्राप्त की। उन्होंने सॉफ़्टवेयर के व्यापार के साथ ही ख़बर हलचल वेब मीडिया की स्थापना की। वर्ष 2015 में शिखा जैन जी से उनका विवाह हुआ। वे मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष भी हैं और हिन्दी ग्राम के संस्थापक भी हैं। डॉ. अर्पण जैन ने 11 लाख से अधिक लोगों के हस्ताक्षर हिन्दी में परिवर्तित करवाए, जिसके कारण वर्ल्ड बुक ऑफ़ रिकॉर्डस, लन्दन द्वारा विश्व कीर्तिमान प्रदान किया गया।