दिल्ली। वर्ष 2020 में मातृभाषा उन्नयन संस्थान द्वारा सी आर सैनी पब्लिक स्कूल, नांगलोई, दिल्ली से पूजा सैनी एवं अनिता रानी, पराग ज्योति पब्लिक स्कूल, दिल्ली से चंद्रमणि चौधरी व जे.एम इंटरनेशनल स्कूल, द्वारका से शीतल मारवाह एवं अनुराधा को मातृभाषा संस्थान की दिल्ली प्रदेश संयोजिका भावना शर्मा द्वारा विद्या […]

नई दिल्ली। दिसम्बर 18, 2020। विश्व हिंदू परिषद ने आज कहा है कि बजरंग दल के विषय में वॉल स्ट्रीट जर्नल की मिथ्या रिपोर्ट के आधार पर राहुल गांधी ने जिस प्रकार फेसबुक की आड़ में बजरंग दल को बदनाम करने का षड्यंत्र रचा उससे उनकी मानसिकता की कलई खुल […]

साहित्यकार अनिता मंदिलवार सपना अंबिकापुर सरगुजा छतीसगढ़ को पद्म विभूषण नंदलाल बोस नेशनल गोल्डन आर्टिस्ट अवार्ड 2020* से स्वदेश संस्थान के सौजन्य से सम्मानित किया गया । यह अवार्ड उत्कृष्ट रचना के लिए प्रदान किया गया है । अनिता मंदिलवार सपना की इसके पहले लगभग दो सौ साझा संग्रह और […]

अखिल भारतीय गुरुकुल एवं गौ शाला अनुसंधान संस्थान के द्वारा गांधीनगर के सामाजिक कार्यकर एवं हिंदी गुजराती कवि लेखक अनुवादक और इंडियन लायंस गांधी नगर स्वर्णिम क्लब के उपाध्यक्ष तथा महात्मा गांधी साहित्य मंच गांधीनगर के अध्यक्ष श्री डॉ गुलाब चंद पटेल को गुजरात के अध्यक्ष पद पर नियुक्‍त किया […]

साहित्य संगम संस्थान नई दिल्ली द्वारा 13 दिसंबर 2020 रविवार को नव निर्मित गुजरात इकाई का उद्घाटन समारोह किया गया , इसी शुभ अवसर पर आ. कुमार रोहित रोज़ जी का भी वर्षगांठ बड़ी धूमधाम से मनाया गया , उद्घाटन समारोह में अध्यक्ष महोदय आ . राजवीर सिंह मंत्र जी […]

इंदौर। अन्तरराष्ट्रीय मानव अधिकार आयोग, युनाइटेड ऑर्गनाइजेशन, चेक गणराज्य एवं मातृभाषा उन्नयन संस्थान के साझा प्रयासों से विश्व मानव अधिकार दिवस (10 दिसम्बर, 2020) के उपलक्ष्य में साहित्य-सेवियों की कविताओं को संरक्षित कर ‘मानव अधिकार संरक्षण परिशिष्ट’ तैयार किया गया। मातृभाषा.कॉम से जुड़े देश के विभिन्न राज्यों के साहित्यकारों ने […]

Founder and CEO

Dr. Arpan Jain

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ इन्दौर (म.प्र.) से खबर हलचल न्यूज के सम्पादक हैं, और पत्रकार होने के साथ-साथ शायर और स्तंभकार भी हैं। श्री जैन ने आंचलिक पत्रकारों पर ‘मेरे आंचलिक पत्रकार’ एवं साझा काव्य संग्रह ‘मातृभाषा एक युगमंच’ आदि पुस्तक भी लिखी है। अविचल ने अपनी कविताओं के माध्यम से समाज में स्त्री की पीड़ा, परिवेश का साहस और व्यवस्थाओं के खिलाफ तंज़ को बखूबी उकेरा है। इन्होंने आलेखों में ज़्यादातर पत्रकारिता का आधार आंचलिक पत्रकारिता को ही ज़्यादा लिखा है। यह मध्यप्रदेश के धार जिले की कुक्षी तहसील में पले-बढ़े और इंदौर को अपना कर्म क्षेत्र बनाया है। बेचलर ऑफ इंजीनियरिंग (कम्प्यूटर साइंस) करने के बाद एमबीए और एम.जे.की डिग्री हासिल की एवं ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियों’ पर शोध किया है। कई पत्रकार संगठनों में राष्ट्रीय स्तर की ज़िम्मेदारियों से नवाज़े जा चुके अर्पण जैन ‘अविचल’ भारत के २१ राज्यों में अपनी टीम का संचालन कर रहे हैं। पत्रकारों के लिए बनाया गया भारत का पहला सोशल नेटवर्क और पत्रकारिता का विकीपीडिया (www.IndianReporters.com) भी जैन द्वारा ही संचालित किया जा रहा है।लेखक डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं तथा देश में हिन्दी भाषा के प्रचार हेतु हस्ताक्षर बदलो अभियान, भाषा समन्वय आदि का संचालन कर रहे हैं।