गांधी नगर महानगर के सामाजिक कार्य कर नशा मुक्ति अभियान प्रणेता ब्रेस्ट कैंसर अवेर्नेस प्रोग्राम आयोजक तथा हिन्दी गुजराती कवि लेखक अनुवादक और इंडियन लायंस गांधी नगर स्वर्णिम क्लब के सदस्य श्री भूत पूर्व ऑफिस सुपरिटेंडेंट जिला शिक्षा अधिकारी माध्यमिक ऑफिस अहमदाबाद के डॉ गुलाब चंद पटेल द्वारा आज दिनांक […]

वर्ल्ड बुक ऑफ रिकॉर्ड्स में दर्ज हुआ कीर्तिमान इंदौर। हिन्दी के प्रचार-प्रसार एवं हिंदी को राष्ट्रभाषा बनाने के लिए प्रतिबद्ध मातृभाषा उन्नयन संस्थान द्वारा 11 लाख से अधिक लोगों के हस्ताक्षर हिंदी में बदलवाएं इस लिए संस्थान को 2020 की 11 जनवरी को वर्ल्ड बुक ऑफ रिकॉर्ड्स, लंदन द्वारा वरिष्ठ […]

बच्चों द्वारा एक्जीवेशन का प्रदर्शन एक पृथक पहल ||रायगढ़|| तहसील तमनार के अन्तर्गत आने वाला ग्राम पंचायत कसडोल के शासन द्वारा मान्यता प्राप्त स्वशासी शैक्षणिक संस्था , अंग्रेजी माध्यम का उड्स वैली स्कूल में 26 जनवरी गणतंत्र दिवस बड़े हर्षोल्लास पूर्वक मनाया गया । स्कूली स्टाप , अध्ययनरत छात्र – […]

इंदौर। शनिवार को भोपाल में संस्कृति विभाग द्वारा आयोजित कवि प्रदीप सम्मान समारोह में वर्ष 2018 के लिए अशोक चक्रधर का चयन करते हुए एक कार्यक्रम आयोजित किया जिसमें प्रचार सामग्रियों एवं विज्ञापनों से भी कवि प्रदीप का फोटो तक गायब रहा इसके साथ ही लखीमपुर के कवि आशीष अनल […]

आगरा | यूथ हॉस्टल सभागार, संजय पैलेस (आगरा) में विश्व शांति मानव सेवा समिति द्वारा प्रथम वर्षगांठ व पत्रिका ‘ शांति पथ ’ (प्रवेशांक) का विमोचन कार्यक्रम आयोजित किया गया । जिसमें सर्वप्रथम माँ सरस्वती के सम्मुख श्री नवीन जैन आगरा शहर महापौर), डॉ0 अमी आधार निडर, डॉ0 शशि पाल […]

आगरा | यूथ हॉस्टल (आगरा) के सभागार में बृजलोक साहित्य, कला, संस्कृति अकादमी व विश्वशांति मानव सेवा समिति के संयुक्त बैनर तले एक सम्मान समारोह का आयोजन किया गया | जिसमें साहित्य, कला, समाज सेवा, पत्रकारिता जगत की प्रतिष्ठित विभूतियों को सम्मानित किया गया | कार्यक्रम में जनपद के महापौर […]

Founder and CEO

Dr. Arpan Jain

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ इन्दौर (म.प्र.) से खबर हलचल न्यूज के सम्पादक हैं, और पत्रकार होने के साथ-साथ शायर और स्तंभकार भी हैं। श्री जैन ने आंचलिक पत्रकारों पर ‘मेरे आंचलिक पत्रकार’ एवं साझा काव्य संग्रह ‘मातृभाषा एक युगमंच’ आदि पुस्तक भी लिखी है। अविचल ने अपनी कविताओं के माध्यम से समाज में स्त्री की पीड़ा, परिवेश का साहस और व्यवस्थाओं के खिलाफ तंज़ को बखूबी उकेरा है। इन्होंने आलेखों में ज़्यादातर पत्रकारिता का आधार आंचलिक पत्रकारिता को ही ज़्यादा लिखा है। यह मध्यप्रदेश के धार जिले की कुक्षी तहसील में पले-बढ़े और इंदौर को अपना कर्म क्षेत्र बनाया है। बेचलर ऑफ इंजीनियरिंग (कम्प्यूटर साइंस) करने के बाद एमबीए और एम.जे.की डिग्री हासिल की एवं ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियों’ पर शोध किया है। कई पत्रकार संगठनों में राष्ट्रीय स्तर की ज़िम्मेदारियों से नवाज़े जा चुके अर्पण जैन ‘अविचल’ भारत के २१ राज्यों में अपनी टीम का संचालन कर रहे हैं। पत्रकारों के लिए बनाया गया भारत का पहला सोशल नेटवर्क और पत्रकारिता का विकीपीडिया (www.IndianReporters.com) भी जैन द्वारा ही संचालित किया जा रहा है।लेखक डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं तथा देश में हिन्दी भाषा के प्रचार हेतु हस्ताक्षर बदलो अभियान, भाषा समन्वय आदि का संचालन कर रहे हैं।