सुनो ईश्वर यही विनती, यही अरमान परमात्मा। मनुजता भाव मुझ में हों, बनूँ मानव सुजन आत्मा। . ✨✨✨ रहूँ पथ सत्य पर चलता, सदा आतम उजाले हो। करूँ इंसान की सेवा, इरादे भी निराले हो। . ✨✨✨ गरीबों को सतत ऊँचा, उठाकर मान दे देना। यतीमों की करो रक्षा, भले […]

मापनी मुक्त सम मात्रिक छंद है यह। १६,९ मात्रा पर यति अनिवार्य चरणांत २१२ दो चरण सम तुकांत,चार चरण का छंद {सुविधा हेतु चौपाई+नौ मात्रा(तुकांत२१२)} . शरद पूनम . 🌕 सागर मंथन अमरित पाकर,विषघट त्यागते। अमर हुये सब देव दिवाकर, शिव घट धारते। सूरज देता दिवस उजाला, ऊर्जा जानिये। चंद्र […]

. समाजी सोच बदलो तो, कुरीती छोड़ दो अब तो। जमाना चाँद पर पहुँचे, पढाई छोड़ मत अब तो। विकासी बात करते है, कथा भाषण भले देते। दहेजी रीत मौताणे, सुजानों छोड़ दो अब तो। ( मौताणा~मृत्यु भोज) . 🤱🤷‍♀ कहीं परिवार बर्बादी, कहीं घर खेत बिकते हैं कभी बेटी […]

सोरठा चौबीस मात्रिक छंद है। चार चरण होते हैं। दोहे से उलट – विषम चरण ११ मात्रिक और सम चरण १३ मात्रिक होते हैं। विषम चरण समतुकांत हो,चरणांत २१ गुरु लघु अनिवार्य है। सम चरणांत २१२ गुरु लघु गुरु हो। . 🤷‍♀ पटल करे सम्मान, नये सृजक आवें भले। १११ […]

शम्भु प्रिया हे उमा भवानी। छटा तुम्हारी शिवा सुहानी।। करवा चौथ मात व्रत मेरा। करती पूजन गौरी तेरा।।१ चंदा दर्श पिया सन करना। मात कामना मम मन धरना।। रहे अटल अहिवात हमारा। मिले सदा आशीष तुम्हारा।।२ पति जीवन हित जीवन अपना। परिजन सुख चाहत नित सपना।। रहे दीर्घ जीवी पति […]

चौथ व्रती बन पूजती, चंदा चौथ चकोर। आज सुहागिन सब करें,यह उपवास कठोर। यह उपवास कठोर , पूजती चंदा प्यारा। पिया जिए सौ साल, अमर अहिवात हमारा। कहे लाल कविराय, वारती जती सती बन। अमर रहे तू चाँद, पूजती चौथ व्रती बन। . 🌙🌙🌙🌙 नारि सुहागिन कर रही,पूजा जप तप […]

संस्थापक एवं सम्पादक

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’

29 अप्रैल, 1989 को मध्य प्रदेश के सेंधवा में पिता श्री सुरेश जैन व माता श्रीमती शोभा जैन के घर अर्पण का जन्म हुआ। उनकी एक छोटी बहन नेहल हैं। अर्पण जैन मध्यप्रदेश के धार जिले की तहसील कुक्षी में पले-बढ़े। आरंभिक शिक्षा कुक्षी के वर्धमान जैन हाईस्कूल और शा. बा. उ. मा. विद्यालय कुक्षी में हासिल की, तथा इंदौर में जाकर राजीव गाँधी प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के अंतर्गत एसएटीएम महाविद्यालय से संगणक विज्ञान (कम्प्यूटर साइंस) में बेचलर ऑफ़ इंजीनियरिंग (बीई-कंप्यूटर साइंस) में स्नातक की पढ़ाई के साथ ही 11 जनवरी, 2010 को ‘सेन्स टेक्नोलॉजीस की शुरुआत की। अर्पण ने फ़ॉरेन ट्रेड में एमबीए किया तथा एम.जे. की पढ़ाई भी की। उसके बाद ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियाँ’ विषय पर अपना शोध कार्य करके पीएचडी की उपाधि प्राप्त की। उन्होंने सॉफ़्टवेयर के व्यापार के साथ ही ख़बर हलचल वेब मीडिया की स्थापना की। वर्ष 2015 में शिखा जैन जी से उनका विवाह हुआ। वे मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष भी हैं और हिन्दी ग्राम के संस्थापक भी हैं। डॉ. अर्पण जैन ने 11 लाख से अधिक लोगों के हस्ताक्षर हिन्दी में परिवर्तित करवाए, जिसके कारण वर्ल्ड बुक ऑफ़ रिकॉर्डस, लन्दन द्वारा विश्व कीर्तिमान प्रदान किया गया।