वर्तमान परिदृश्य में देखें तो भारत के सबसे अधिक लोगों के बीच अभिव्यक्ति का,विचार प्रेषित करने का माध्यम हिन्दी भाषा ही है,पर वह सिमटती जा रही है। उसका क्षेत्र कम हो रहा है। आजादी के वक्त जहाँ हिन्दी सम्पूर्ण उत्तर भारत में लोकप्रिय थी और संविधान निर्माताओं ने लक्ष्य रखा […]

कल तुम चली जाओगी इस सहर से, मगर मेरे दिल के सहर में बसोगी सदा। हम दोनों एक दूसरे पर मरते थे कुछ इस तरह, दिल व धड़कन जुदा नहीं हो सकते जिस तरह। इस ज़माने को रास क्यों नहीं आई मोहब्बत हमारी, इश्क के आशियाने को इस जमाने ने […]

अभी-अभी कलम पकड़ूँ कोई कलाम पढूं या कलमा इबादत करूँ आदम की खुदा की बुत परस्ती करूँ गर्मी को सहलाऊँ या की शब्दों से पत्थर पिघलाऊँ। नंगे पांव चलूँ मीलों तक पानी भरने या मेघों पर आस लगाऊं अपने पाँवों के छाले देंखू या परिजन का दर्द थोड़ा-सा सहलाऊँ। अख़बारों […]

भारत में कई प्रकार का मौसम होता है,लेकिन `चरणपादुकीकरण` यानी `चप्पलीकरण` का कोई मौसम नहीं होता। यह पश्चिमी विक्षोभ की तरह कभी भी आ जाता है। बरसता है और चला जाता है। यह परम्परा राजा राम के समय से चली आ रही है। इसका जनक भरत को माना जाता है। […]

युग की है यही पुकार, फिर हो महावीर अवतारl जियो और जीने दो,गूँजे, हर घर,मंदिर,हर द्वार… युग की है यही पुकार, फिर हो महावीर अवतार…l सत्य,अहिंसा धर्म हो, मिट जाए अत्याचारl युग की यही पुकार, फिर हो महावीर अवतार…l हे वीर,अतिवीर,सन्मति, हे महावीर,हे वर्धमानl प्राणियों की सुनो पुकार, कर दो […]

क्षमा भाव मन में धारण,कर ले ओ भोले प्राणी, कर दे क्षमा तू सबको,खुश होगी जिंदगानी …. । नफरत के बीज बोए,काँटों से दिल लगाया, सोचा न एक पल भी,अपनों का दिल दुखाया। … मैं हाथ जोड़कर के,मानूं अपनी गलती, कर दे क्षमा तू  मुझको,खुश होती जिंदगानी.. क्षमा भाव मन […]

Founder and CEO

Dr. Arpan Jain

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ इन्दौर (म.प्र.) से खबर हलचल न्यूज के सम्पादक हैं, और पत्रकार होने के साथ-साथ शायर और स्तंभकार भी हैं। श्री जैन ने आंचलिक पत्रकारों पर ‘मेरे आंचलिक पत्रकार’ एवं साझा काव्य संग्रह ‘मातृभाषा एक युगमंच’ आदि पुस्तक भी लिखी है। अविचल ने अपनी कविताओं के माध्यम से समाज में स्त्री की पीड़ा, परिवेश का साहस और व्यवस्थाओं के खिलाफ तंज़ को बखूबी उकेरा है। इन्होंने आलेखों में ज़्यादातर पत्रकारिता का आधार आंचलिक पत्रकारिता को ही ज़्यादा लिखा है। यह मध्यप्रदेश के धार जिले की कुक्षी तहसील में पले-बढ़े और इंदौर को अपना कर्म क्षेत्र बनाया है। बेचलर ऑफ इंजीनियरिंग (कम्प्यूटर साइंस) करने के बाद एमबीए और एम.जे.की डिग्री हासिल की एवं ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियों’ पर शोध किया है। कई पत्रकार संगठनों में राष्ट्रीय स्तर की ज़िम्मेदारियों से नवाज़े जा चुके अर्पण जैन ‘अविचल’ भारत के २१ राज्यों में अपनी टीम का संचालन कर रहे हैं। पत्रकारों के लिए बनाया गया भारत का पहला सोशल नेटवर्क और पत्रकारिता का विकीपीडिया (www.IndianReporters.com) भी जैन द्वारा ही संचालित किया जा रहा है।लेखक डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं तथा देश में हिन्दी भाषा के प्रचार हेतु हस्ताक्षर बदलो अभियान, भाषा समन्वय आदि का संचालन कर रहे हैं।