Advertisements
megha yogi
बू अराजकता की फैली,मंद क्यों करते नहीं हो;
सच गलत का खुद ही अंतर द्वंद क्यों करते नहीं हो!!
लुट रही जब बेटियों की आबरू हर इक गली में;
जम गया क्या रक्त,भारत बंद क्यों करते नहीं हो!!
जो जला दे दिल में ज्वाला,गूँज से कप जाये अंबर;
आज उठ कर ऐसा सुरभित छंद क्यों करते नहीं हो!!
निम्न होती मानसिकता औ मनुजता खो गई है;
ऐ युवा खुद को विवेकानंद क्यों करते नहीं हो!!
हिंदु मुस्लिम राजनीति,धर्म पर नारे लगाते;
काम इनसे आके बाहर चंद क्यों करते नहीं हो!!
द्वेष ईर्ष्या छल कपट का अब दिलों पर राज “मेघा”;
गैर की खुशियों में भी आनंद क्यों करते नहीं हो!!
#मेघा योगी
परिचय:
नाम-मेघा योगी 
साहित्यिक उपनाम-मेघा 
वर्तमान पता- गुना 
राज्य-मध्य प्रदेश 
शहर-गुना 
शिक्षा-Bsc biotechnology PGDCA 
कार्यक्षेत्र-विद्यार्थी 
विधा -गीत,गजल,मुक्तक,छंद,लेख,लघुकथा,कहानीआदि
मोबाइल/व्हाट्स ऐप – 
प्रकाशन-देश की ईपत्रिकाओं सहित विभिन्न पत्रिकाओं एवं अखबारों में समय समय पर रचनाओं का प्रकाशन,साझा गजल संग्रह गुंजन 
सम्मान-अंतरा शब्द शक्ति सम्मान 
ब्लॉग-
अन्य उपलब्धियाँ-
लेखन का उद्देश्य -माँ हिंदी की सेवा कर आत्मसंतुष्टि को प्राप्त करना 
 

About the author

(Visited 116 times, 1 visits today)
Please follow and like us:
0
http://matrubhashaa.com/wp-content/uploads/2018/04/megha-yogi.pnghttp://matrubhashaa.com/wp-content/uploads/2018/04/megha-yogi-150x150.pngArpan JainUncategorizedकाव्यभाषाmegha,yogiबू अराजकता की फैली,मंद क्यों करते नहीं हो; सच गलत का खुद ही अंतर द्वंद क्यों करते नहीं हो!! लुट रही जब बेटियों की आबरू हर इक गली में; जम गया क्या रक्त,भारत बंद क्यों करते नहीं हो!! जो जला दे दिल में ज्वाला,गूँज से कप जाये अंबर; आज उठ कर ऐसा सुरभित छंद...Vaicharik mahakumbh
Custom Text