सोशल मीडिया: हज़ारों की फ्रेंड लिस्ट और अकेलापन

4 0
Read Time4 Minute, 38 Second


कुछ वक़्त पहले मै रायपुर से भोपाल आ रही थी तो ट्रेन में साथ की सीट पर बैठे लोग अपने अपने फ़ोन या लैपटॉप पे व्यस्त थे। में भी कुछ पढ़ने में व्यस्त थी क्योकि पेपर नज़दीक थे। सफर के कुछ पांच से छह घंटे ऐसे ही बीते। तभी अचानक एक सज्जन मोबाइल का एक मैसेज देखकर परेशान होने लगे। ये देखकर एक सज्जन ने पूछा कि अचानक क्या परेशानी हो गई ?तब उन्होंने बताया कि उनका बीस साल के बेटे को अस्पताल में एडमिट किया है क्योकि वह कई दिनों से डिप्रेशन में है। उन्होंने आगे बताया कि वो हमेशा सोशल मीडिया से जुड़ा रहता था,उसके फेस बुक में भी हज़ार से ज़्यादा दोस्त हैं पर समझ नहीं आ रहा कि फिर भी वो डिप्रेशन में कैसे हो सकता है?यह सब सुनकर वहां पर चर्चा का ऐसा दौर शुरू हुआ मानो विश्व के सभी ज्ञानी लोग वही बैठे हैं और प्रत्येक के श्रीमुख से ज्ञान कि अविरल धारा बह रही है। किसी का कहना था कि आजकल कि दोस्ती में वो पुराने ज़माने की दोस्ती जैसी बात नहीं है तो कोई कह रहा था कि आज कल कोई एक दूसरे से  बात नहीं करता,सब बस फ़ोन पर ही लगे रहते है। इतना सुनते ही मुझे हसी आ गई और मैं बरबस ही बोल पड़ी कि थोड़ी देर पहले तक हम सब भी यही कर रहे    थे। कुछ देर इस बात पर चर्चा हुई और फिर सब शांत हो गए।  

आज जब ये घटना याद आई तो इससे जुडी कई बातें समझ आई। जैसे फेसबुक पर हज़ारो कि फ्रेंड लिस्ट मगर फिर भी बात करने के लिए कोई सच्चा दोस्त नहीं है,परिवार और घर दोनों छोटे हो गए हैं मगर फिर भी हर व्यक्ति अपने लिए एक कोना ढूंढ ही लेता है,और जिनके माकन बड़े हैं उनमे रहने वाले लोग गिने चुने हैं,हज़ारो मील दूर बैठे लोगो से सोशल मीडिया से जुड़े रहना पसंद है हमें मगर हमारे बाजू में बैठे इंसान से बात नहीं करना चाहते हम। हर किसी को बस सेल्फी चाहिए,फैमिली फोटो पर ध्यान ही नहीं जाता आज किसी का। भीड़ में भी अकेलेपन से जूझ रहे हैं हम। और संवेदनहीन तो इतने हो गए है कि आज कि इस महामारी के दौर में जब मौत का तांडव मचा हुआ है तब भी हम में से कुछ लोग ज़िन्दगी और मौत दोनों का व्यापर कर रहे हैं। कोई ब्लैक में इंजेक्शन बेच रहा हैं तो कोई किसी शव को शमशान घाट तक ले जाने के हज़ारो रुपये मांग रहा है। सारी ज़िन्दगी जातपात के नाम पर दूसरो को प्रताड़ित करने वालो के किसी अपने को न जाने किसकी चिता के साथ जलाया गया हो ! क्योकि शमशान घाट में तो जैसे शवों का मेला लगा हुआ है। होम आइसोलेशन का दर्द झेलने और सुनने के बाद भी अकेलेपन का दंश क्या होता है ये न जाने कितने लोग समझे हैं ? 

ज़रूरत अकेलापन क्या हैं और क्यों हैं ये दोनों बातें समझने की  है। क्या है ,ये तो वक़्त हर किसी को बता ही देगा  मगर क्यों है ,अगर ये हम वक़्त रहते नहीं समझे तो हमारे वाली पीढ़ियों को रिश्तो का अर्थ बताने के लिए हमारे पास कुछ न होगा। न अपने होंगे न अपनापन ,न दोस्त होंगे न दोस्ती। अगर कुछ होगा ,तो बस अकेलापन और सोशल मीडिया पर दोस्तों की लम्बी लिस्ट।

#श्वेता अपशंकर पारसे
इन्दौर, मध्यप्रदेश

#परिचय-
नाम- श्वेता अपशंकर पारसे,
शिक्षा- M.A. Public Administration
संप्रति- शिक्षिका
स्थान- इन्दौर, मध्यप्रदेश

matruadmin

Next Post

मातृभाषा के प्रयासों से जुड़ेंगे एक लाख से अधिक हिन्दी प्रेमी

Sat Jan 29 , 2022
एक शहर-ग्यारह घर अभियान का शंखनाद इन्दौर। भारत के एक हज़ार शहरों में हिन्दीभाषियों के विस्तार की परिकल्पना तैयार कर मातृभाषा उन्नयन संस्थान ने एक शहर-ग्यारह घर अभियान का शंखनाद किया। इस वर्ष सितम्बर माह में आने वाले हिन्दी दिवस तक संस्थान देशभर के लाखों हिन्दीप्रेमियों को एकजुट कर हिन्दी […]

संस्थापक एवं सम्पादक

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’

29 अप्रैल, 1989 को मध्य प्रदेश के सेंधवा में पिता श्री सुरेश जैन व माता श्रीमती शोभा जैन के घर अर्पण का जन्म हुआ। उनकी एक छोटी बहन नेहल हैं। अर्पण जैन मध्यप्रदेश के धार जिले की तहसील कुक्षी में पले-बढ़े। आरंभिक शिक्षा कुक्षी के वर्धमान जैन हाईस्कूल और शा. बा. उ. मा. विद्यालय कुक्षी में हासिल की, तथा इंदौर में जाकर राजीव गाँधी प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के अंतर्गत एसएटीएम महाविद्यालय से संगणक विज्ञान (कम्प्यूटर साइंस) में बेचलर ऑफ़ इंजीनियरिंग (बीई-कंप्यूटर साइंस) में स्नातक की पढ़ाई के साथ ही 11 जनवरी, 2010 को ‘सेन्स टेक्नोलॉजीस की शुरुआत की। अर्पण ने फ़ॉरेन ट्रेड में एमबीए किया तथा एम.जे. की पढ़ाई भी की। उसके बाद ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियाँ’ विषय पर अपना शोध कार्य करके पीएचडी की उपाधि प्राप्त की। उन्होंने सॉफ़्टवेयर के व्यापार के साथ ही ख़बर हलचल वेब मीडिया की स्थापना की। वर्ष 2015 में शिखा जैन जी से उनका विवाह हुआ। वे मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष भी हैं और हिन्दी ग्राम के संस्थापक भी हैं। डॉ. अर्पण जैन ने 11 लाख से अधिक लोगों के हस्ताक्षर हिन्दी में परिवर्तित करवाए, जिसके कारण वर्ल्ड बुक ऑफ़ रिकॉर्डस, लन्दन द्वारा विश्व कीर्तिमान प्रदान किया गया।