कलयुग के भगवान

0 0
Read Time4 Minute, 5 Second
       गुप्ता जी काफी समय से लॉक डाउन के कारण अपनी दुकान नहीं खोल पा रहे थे।लेकिन वह इस बात से खुश था कि लॉक डाउन के समय को उन्होंने और उनके परिवार ने बड़े अच्छी तरीके से निभाया।

      कोरोना से लड़ने के लिए पुलिसवालों और सभी सफाई कर्मचारी एवं डॉक्टर और नर्सिंग स्टाफ के द्वारा किए जाने वाले कार्यों से वे बहुत खुश थे।उनके घर के पास एक बार जब चार-पांच पुलिस वाले बाइक से आए तो सभी पड़ोस के लोग उनके ऊपर फूल फेंक रहे थे।सचमुच कलयुग में ये सभी के लिए भगवान की तरह काम कर रहे थे।

      गुप्ता जी और उनका परिवार भी सबके बीच खड़ा होकर उनके लिए ताली बजा रहा था और फूलों की वर्षा कर रहा था।लगभग 60 दिनों बाद सरकार के आदेश के बाद सभी दुकानों को सप्ताह में तीन दिन खोलने का आदेश दे दिया।

      गुप्ता जी को इस बात की खुशी थी कि कम से कम सप्ताह में 3 दिन दुकान खोलने के आदेश से अब काम धीरे-धीरे सही हो जाएगा।दुकान खोलने के बाद ग्राहकों के स्वागत के लिए उन्होंने सभी तरीके की कोरोना से बचने की सामग्री दुकान पर उपलब्ध कर ली।सोशल डिस्टनसिंग के लिए भी मार्क लगा दिए थे।

      जो भी व्यक्ति दुकान में आएगा वो सैनिटाइजर से अपने हाथ धोकर ही दुकान में आएगा।सारी तैयारी करने के बाद गुप्ता जी ने अपनी दुकान में खड़े होकर ग्राहकों का इंतजार करना शुरू किया।लेकिन इक्का दुक्का लोग ही पूरे दिन में आये।उनके काम में अब पहले जैसी तेजी नहीं थी।लेकिन एक उम्मीद थी कि कुछ दिनों में सब ठीक हो जाएगा।

     गुप्ता जी की दुकान में बहुत ही कम लोग आ रहे थे।आज दुकान खुलने की तीसरा दिन था।अचानक आठ -दस ग्राहक एक साथ दुकान के अंदर आ गए।वो सब अचानक ही अंदर आ गए थे।सभी लोग बिना लाइन में लगे दुकान में घुस गए और दो ने तो मास्क भी नही लगाएं हुए थे।

      अभी गुप्ता जी को उन्हें एक दूसरे से दूर रहने के लिए कहने का मौका भी नहीं लगा था कि तभी कुछ पुलिस वाले भी दुकान के अंदर आ गए और दुकान में अधिक भीड़ देखकर गुप्ता जी को जबरदस्त डॉट लगा दी।

       गुप्ता जी उन्हें समझाते रहे कि सब लोग अचानक एक साथ दुकान में आ गए।लेकिन पुलिसकर्मियों ने उनकी एक भी बात ना मानी और गुप्ता जी के नाम से चालान काट दिया।इस बात से गुप्ता जी बहुत दुखी हुए।इतना तो कमाया भी नही था।जिससे ज्यादा तो चालान ही कट गया।

      जिन पुलिस वालों को अभी कुछ समय पहले ही वह भगवान मानकर उनके लिए फूल बरसा रहा था और ताली बजा रहा था।वह धीरे-धीरे अपने वास्तविक रूप में आ गए थे।गुप्ता जी उनके हाथ जोड़ते रहे।लेकिन उनकी सारी कोशिशों के बावजूद वो सभी भगवान रूपी पुलिसकर्मी उन्हें चालान थमा कर वहाँ से चलते बने।गुप्ता जी अपने आप को ठगा सा महसूस कर रहे थे।

नीरज त्यागी
ग़ाज़ियाबाद ( उत्तर प्रदेश )

matruadmin

Next Post

बर्बादी की राह है

Thu Jun 4 , 2020
न दिल धड़कता है, न सांसे चलती है। ये कमवक्त मोहब्बत भी, क्या बला होती है। जो न जीने देती है, न ही मरने देती है। चलते फिरते इन्सान को, एक लाश बना देती है।। मोहब्बत के चक्कर में, न जाने कितने लूट गये। और कितने खुदा को, पहले ही […]

संस्थापक एवं सम्पादक

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’

29 अप्रैल, 1989 को मध्य प्रदेश के सेंधवा में पिता श्री सुरेश जैन व माता श्रीमती शोभा जैन के घर अर्पण का जन्म हुआ। उनकी एक छोटी बहन नेहल हैं। अर्पण जैन मध्यप्रदेश के धार जिले की तहसील कुक्षी में पले-बढ़े। आरंभिक शिक्षा कुक्षी के वर्धमान जैन हाईस्कूल और शा. बा. उ. मा. विद्यालय कुक्षी में हासिल की, तथा इंदौर में जाकर राजीव गाँधी प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के अंतर्गत एसएटीएम महाविद्यालय से संगणक विज्ञान (कम्प्यूटर साइंस) में बेचलर ऑफ़ इंजीनियरिंग (बीई-कंप्यूटर साइंस) में स्नातक की पढ़ाई के साथ ही 11 जनवरी, 2010 को ‘सेन्स टेक्नोलॉजीस की शुरुआत की। अर्पण ने फ़ॉरेन ट्रेड में एमबीए किया तथा एम.जे. की पढ़ाई भी की। उसके बाद ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियाँ’ विषय पर अपना शोध कार्य करके पीएचडी की उपाधि प्राप्त की। उन्होंने सॉफ़्टवेयर के व्यापार के साथ ही ख़बर हलचल वेब मीडिया की स्थापना की। वर्ष 2015 में शिखा जैन जी से उनका विवाह हुआ। वे मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष भी हैं और हिन्दी ग्राम के संस्थापक भी हैं। डॉ. अर्पण जैन ने 11 लाख से अधिक लोगों के हस्ताक्षर हिन्दी में परिवर्तित करवाए, जिसके कारण वर्ल्ड बुक ऑफ़ रिकॉर्डस, लन्दन द्वारा विश्व कीर्तिमान प्रदान किया गया।