बयाँ होगा किस्सा

Read Time4Seconds

सिसक के गिन रही है गिनतियाँ ज़ुबाँ
आएगा वक़्त और बयाँ होगा किस्सा
कि सड़कों पे दौड़ रही है बच्चियाँ
तख्तियां लेकर चल रहे है बच्चे
यहाँ औरतें सम्भाले हुए है मोर्चा
कि वक्त आने पे बयाँ होगा किस्सा
लगा दिया जाता है तोहमत यहाँ पर
गद्दारी का तमगा भी बँट रहा है मुफ़्त
कि छीन लो लबो से भले आज़ादी तुम
कि वक़्त आने पर बयाँ होगा किस्सा
दौर-ए- हाजरा जैसी गुज़री थी पहले भी
कि कोई मूसा होगा जरूर यहाँ पर
जो देगा मात फ़िरौन के लश्कर को
तारीख़ खुद को दोहराती है खुद से
सिसक कर गिन रही है गिनतियाँ ज़ुबाँ
आएगा वक्त और बयाँ होगा किस्सा

#आकिब जावेद

परिचय : 

नाम-. मो.आकिब जावेदसाहित्यिक उपनाम-आकिबवर्तमान पता-बाँदा उत्तर प्रदेशराज्य-उत्तर प्रदेशशहर-बाँदाशिक्षा-BCA,MA,BTCकार्यक्षेत्र-शिक्षक,सामाजिक कार्यकर्ता,ब्लॉगर,कवि,लेखकविधा -कविता,श्रंगार रस,मुक्तक,ग़ज़ल,हाइकु, लघु कहानीलेखन का उद्देश्य-समाज में अपनी बात को रचनाओं के माध्यम से रखना

1 0

matruadmin

Next Post

फिसल गयी जिंदगी…

Mon Feb 24 , 2020
समय की रेत पर फिसल गयी जिंदगी। देखते ही देखते में ढल गयी जिंदगी।। करवटें बदल-बदल सोया निशदिन, अंत में करवट बदल गयी जिंदगी।। दुल्हन जस सजाकर रखा था इसे, हाथों से यूं ही निकल गयी जिंदगी।। हवा से बचा कर रखा था सुरक्षित , रखे-रखे बर्फ जस गल गयी […]

Founder and CEO

Dr. Arpan Jain

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ इन्दौर (म.प्र.) से खबर हलचल न्यूज के सम्पादक हैं, और पत्रकार होने के साथ-साथ शायर और स्तंभकार भी हैं। श्री जैन ने आंचलिक पत्रकारों पर ‘मेरे आंचलिक पत्रकार’ एवं साझा काव्य संग्रह ‘मातृभाषा एक युगमंच’ आदि पुस्तक भी लिखी है। अविचल ने अपनी कविताओं के माध्यम से समाज में स्त्री की पीड़ा, परिवेश का साहस और व्यवस्थाओं के खिलाफ तंज़ को बखूबी उकेरा है। इन्होंने आलेखों में ज़्यादातर पत्रकारिता का आधार आंचलिक पत्रकारिता को ही ज़्यादा लिखा है। यह मध्यप्रदेश के धार जिले की कुक्षी तहसील में पले-बढ़े और इंदौर को अपना कर्म क्षेत्र बनाया है। बेचलर ऑफ इंजीनियरिंग (कम्प्यूटर साइंस) करने के बाद एमबीए और एम.जे.की डिग्री हासिल की एवं ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियों’ पर शोध किया है। कई पत्रकार संगठनों में राष्ट्रीय स्तर की ज़िम्मेदारियों से नवाज़े जा चुके अर्पण जैन ‘अविचल’ भारत के २१ राज्यों में अपनी टीम का संचालन कर रहे हैं। पत्रकारों के लिए बनाया गया भारत का पहला सोशल नेटवर्क और पत्रकारिता का विकीपीडिया (www.IndianReporters.com) भी जैन द्वारा ही संचालित किया जा रहा है।लेखक डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं तथा देश में हिन्दी भाषा के प्रचार हेतु हस्ताक्षर बदलो अभियान, भाषा समन्वय आदि का संचालन कर रहे हैं।