व्यंगिका – कल कल धुआँ

Read Time3Seconds

कभी आश्चर्य होता है, किस तरह से हमारे मनीषियों, ऋषियों,
दिव्य विभूतियों ने,चारों युगों के, गुण धर्मानुसार नामकरण किए।

शायद उन्हें पता था, कि चौथा युग होगा ऐसा कलयुग, जहां के कलयुगी प्राणी, कल पुर्जों से घिरे रहेंगे।

यंत्र चालित से संवेदनहीन रहेंगे,
धुँआ खाएंगे ,धुआँ छोड़ेंगे और धुआँ ही पिएंगे।

कल कल करते निर्मल जल को,
एक पल भी साफ़ न रहने देँगे।

प्रकृति ,ज़मी ,आकाश का,
स्वार्थरत हो प्रतिपल दोहन करेंगे।

कलुषता का कवच पहने ,आज को बिगाड़,
आने वाले कल के लिए ,कुछ न सोचेंगे।

#अनुपमा श्रीवास्तव”अनुश्री”           

परिचय-       साहित्यकार , कवयित्री, एंकर, समाजसेवी।

अध्यक्ष – आरंभ फाउंडेशन एवं विश्व हिंदी संस्थान ,कनाडा , चेप्टर मध्यप्रदेश, भोपाल (मध्यप्रदेश)

1 0

matruadmin

Next Post

तेरे संग जीना मरना

Wed Nov 6 , 2019
जीना मरना तेरे संग है। तो क्यो और के बारे में सोचना। मिला है तुम से इतना प्यार। तो क्यो गम को गले लगाना। और हंसती खिलखिलाती जिंदगी, को भला क्यो रुलाना। अरे बहुत मिले होंगे तुम्हे प्यार करने वाले। पर दिल से मोहब्बत करने वाला में ही होगा।। आज […]

Founder and CEO

Dr. Arpan Jain

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ इन्दौर (म.प्र.) से खबर हलचल न्यूज के सम्पादक हैं, और पत्रकार होने के साथ-साथ शायर और स्तंभकार भी हैं। श्री जैन ने आंचलिक पत्रकारों पर ‘मेरे आंचलिक पत्रकार’ एवं साझा काव्य संग्रह ‘मातृभाषा एक युगमंच’ आदि पुस्तक भी लिखी है। अविचल ने अपनी कविताओं के माध्यम से समाज में स्त्री की पीड़ा, परिवेश का साहस और व्यवस्थाओं के खिलाफ तंज़ को बखूबी उकेरा है। इन्होंने आलेखों में ज़्यादातर पत्रकारिता का आधार आंचलिक पत्रकारिता को ही ज़्यादा लिखा है। यह मध्यप्रदेश के धार जिले की कुक्षी तहसील में पले-बढ़े और इंदौर को अपना कर्म क्षेत्र बनाया है। बेचलर ऑफ इंजीनियरिंग (कम्प्यूटर साइंस) करने के बाद एमबीए और एम.जे.की डिग्री हासिल की एवं ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियों’ पर शोध किया है। कई पत्रकार संगठनों में राष्ट्रीय स्तर की ज़िम्मेदारियों से नवाज़े जा चुके अर्पण जैन ‘अविचल’ भारत के २१ राज्यों में अपनी टीम का संचालन कर रहे हैं। पत्रकारों के लिए बनाया गया भारत का पहला सोशल नेटवर्क और पत्रकारिता का विकीपीडिया (www.IndianReporters.com) भी जैन द्वारा ही संचालित किया जा रहा है।लेखक डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं तथा देश में हिन्दी भाषा के प्रचार हेतु हस्ताक्षर बदलो अभियान, भाषा समन्वय आदि का संचालन कर रहे हैं।