बुढ़ापा…

1
Read Time1Second

aalok
मैं भी जीना चाहता हूँ…
शामिल होना चाहता हूँ
तुम्हारी दुनियाँ में
बिलकुल वैसे ही…
जैसे शामिल हुए थे
तुम
मेरे जीवन में
एक जीवन्त आशा लिए।

मेरे सूखे अधरों पर,
बारिश की फुहार बनकर..
मेरी सांसों की रफ़्तार बनकर,
एक खुशनुमा एहसास
लेकर समाए थे
तुम
हमाररे अरमान बनकर।

याद है न…..
कैसे अंगुलियाँ पकड़कर,
लोगों से मिलवाता था
तुम्हें
और फख्र से
चौड़ा हो जाया करता था
सीना मेरा।

भूल गए न…
कैसे संजोता था,
तुम्हारी यादों को
और
तुम्हारी
एक ख़ुशी के लिए
भूल जाता था
अपनी सारी ख़ुशी।

मेरी एक गलती पर,
कितना चिढ़ जाते हो..
तुम
है न…
पता है…
तुम्हारी हर गलती पर
हम बस मुस्कुरा दिया करता थे,
और प्यार से
समझाते थे
तुम्हें।

जानते हो…
अब उसी तरह,
तुम्हारी जरूरत है
मुझे भी..
आज उसी प्यार की
दरकार है मुझे भी।

मेरे ऊपर का,
कोई भी खर्चा..
फिजूलखर्ची
लगती है न तुम्हें,
याद है…
कितने खिलौनों को
खेल-खेल में
तोड़ जाया करते थे तुम।

मेरा दिल तोड़ते हो,
और फिर कभी
पूछने भी नहीं आते..
पता है न…
तुम रूठते थे
तो हम जमीन-आसमान,
एक करके
तुम्हें झट से मना लिया करते थे।

आज जाने क्यूँ,
तुम
मुझे देखते ही..
घबरा जाते हो
मुझे किसी से मिलवाने में
शर्म-सी मेहसूस होती है,
तुम्हें
एक अलग ही-सी
दुनिया में
कैद कर देना चाहते हो
मुझे..
बिलकुल अलग-थलग
खुद से दूर।

भूल गए न शायद,
तुम
हम तुम्हें एक पल को भी
तन्हा नहीं छोड़ते थे।

जानता हूँ..
कि जानना नहीं चाहते हो,
तुम
ख्वाहिशें मेरी
जबकि…
मैं भी चलना चाहता हूँ
तुम्हारे साथ..
समझना चाहता हूँ
तुम्हारी दुनिया को
तुम्हारी उँगलियों को पकड़कर,
ठीक वैसे ही
जैसे तुम चले थे कभी
मेरे साथ।।

                 #आलोक रंजन

परिचय: आलोक रंजन की शिक्षा स्नातक (प्रा.भा.इतिहास)है। आप लगभग सभी साहित्यिक विधा में लेखन करते हैं। प्रकाशित कृति आगाज़(साझा काव्य संग्रह) है तो, कुछ पत्रिकाओं में कविताएं,लघु निबंध प्रकाशितहैं। आप जिला बेगुसराय(बिहार)में रहते हैं।

1 0

matruadmin

One thought on “बुढ़ापा…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

दुआ करो ...

Thu Apr 6 , 2017
सौरभ फूलों का न कम हो, यह दुआ करो.. पवन न कभी मंद हो, यह दुआ करो। नव रश्मियाँ कलिकाएँ नई, खिलाती रहें.. कलिकाएँ नव घूँघट उघाड़, मुस्काती रहें.. भाव प्रकृति का न कम हो, यह दुआ करो। समय पर लगा दो अपने, कर्म का पहरा.. यह वक़्त है अभिमानी, […]

Founder and CEO

Dr. Arpan Jain

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ इन्दौर (म.प्र.) से खबर हलचल न्यूज के सम्पादक हैं, और पत्रकार होने के साथ-साथ शायर और स्तंभकार भी हैं। श्री जैन ने आंचलिक पत्रकारों पर ‘मेरे आंचलिक पत्रकार’ एवं साझा काव्य संग्रह ‘मातृभाषा एक युगमंच’ आदि पुस्तक भी लिखी है। अविचल ने अपनी कविताओं के माध्यम से समाज में स्त्री की पीड़ा, परिवेश का साहस और व्यवस्थाओं के खिलाफ तंज़ को बखूबी उकेरा है। इन्होंने आलेखों में ज़्यादातर पत्रकारिता का आधार आंचलिक पत्रकारिता को ही ज़्यादा लिखा है। यह मध्यप्रदेश के धार जिले की कुक्षी तहसील में पले-बढ़े और इंदौर को अपना कर्म क्षेत्र बनाया है। बेचलर ऑफ इंजीनियरिंग (कम्प्यूटर साइंस) करने के बाद एमबीए और एम.जे.की डिग्री हासिल की एवं ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियों’ पर शोध किया है। कई पत्रकार संगठनों में राष्ट्रीय स्तर की ज़िम्मेदारियों से नवाज़े जा चुके अर्पण जैन ‘अविचल’ भारत के २१ राज्यों में अपनी टीम का संचालन कर रहे हैं। पत्रकारों के लिए बनाया गया भारत का पहला सोशल नेटवर्क और पत्रकारिता का विकीपीडिया (www.IndianReporters.com) भी जैन द्वारा ही संचालित किया जा रहा है।लेखक डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं तथा देश में हिन्दी भाषा के प्रचार हेतु हस्ताक्षर बदलो अभियान, भाषा समन्वय आदि का संचालन कर रहे हैं।