शिक्षा में करें क्रांति

Read Time2Seconds
vaidik
आर्थिक आधार पर शिक्षा-संस्थाओं में आरक्षण स्वागत योग्य है। वह दस प्रतिशत क्यों, कम से कम 60 प्रतिशत होना चाहिए और उसका आधार जाति या कबीला नहीं होना चाहिए। जो भी गरीब हो, चाहे वह किसी भी जाति, धर्म या भाषा का हो, यदि वह गरीब का बेटा है तो उसे स्कूल और काॅलेजों में प्रवेश अवश्य मिलना चाहिए। किसी भी अनुसूचित जाति या जनजाति या पिछड़े वर्ग का कोई बच्चा शिक्षा से वंचित नहीं रहना चाहिए। वह यदि मलाईदार परत का नहीं है तो भी उसे उत्तम शिक्षा पाने से कौन रोक सकता है ? कम से कम 10 वीं कक्षा तक के छात्रों के दिन के भोजन, स्कूल की पोषाख और जिन्हें जरुरत हो, उन्हें छात्रावास की सुविधाएं मुफ्त दी जाएं तो दस वर्षों में भारत का नक्शा ही बदल जाएगा। ये सब सुविधाएं देने के पहले सरकार को गरीब की अपनी परिभाषा को ठीक करना पड़ेगा। सवर्णों के वोट पटाने और उन्हें बेवकूफ बनाने के लिए 8 लाख रु. सालाना की जो सीमा रखी गई है, उसे सिकोड़कर सच्चाई के निकट लाना होगा। उसे आधा या एक-तिहाई करना होगा।
यदि यह किया गया तो सबसे पहले यह होगा कि जो करोड़ों बच्चे अपनी पढ़ाई बीच में ही छोड़ भागते हैं, वे नहीं भागेंगे। मैट्रिक तक पहुंचते-पहुंचते वे बहुत से हुनर सीख जाएंगे। यदि उन्हें पढ़ाई छोड़नी पड़ी तो भी वे इतने हुनरमंद बन जाएंगे कि उन्हें अपने रोजगार के लिए किसी प्रधान सेवक के हवाई वायदों पर निर्भर नहीं रहना पड़ेगा। यह तभी होगा जबकि मैकाले की शिक्षा पद्धति को तिलांजली दी जाए। बच्चों को रट्टू तोता बनाने की बजाय हुनरमंद बनाया जाए। उन्हें उनकी मातृभाषा में ही सारे विषय पढ़ाए जाएं। उन पर अंग्रेजी या कोई भी अन्य विदेशी भाषा थोपी न जाए। 10 वीं कक्षा तक किसी भी विदेशी भाषा की अनिवार्यता पर प्रतिबंध होना चाहिए। जो स्वेच्छा से सीखना चाहें, वे जरुर सीखें। देश में एक भी बच्चा अशिक्षित नहीं रहना चाहिए।
देश में चल रही समस्त निजी शिक्षा-संस्थाओं के पाठ्यक्रमों और फीस पर नियंत्रण रखने के लिए एक उत्तम शिक्षा-आयोग बनाया जाए। आज देश के निजी अस्पताल और स्कूल-कालेज लूट-पाट के सबसे बड़े अड्डे बन गए हैं। उनका लक्ष्य एक सबल, संपन्न और समतामूलक भारत का निर्माण करना नहीं है बल्कि सिर्फ पैसा बनाना है।
यदि भारत की शिक्षा-संस्थाओं में शरीर और चरित्र, दोनों की सबलता पर भी जोर दिया जाए तो भारत को अगले एक दशक में हम दुनिया के सबसे शक्तिशाली राष्ट्रों की पंक्ति में खड़ा कर सकते हैं। शिक्षा में क्रांति के आधार पर ही अमेरिका दुनिया का सबसे शक्तिशाली राष्ट्र बना है। भारत की शिक्षा में विज्ञान और तकनीक के शोध-कार्यों पर जोर दिया जाए और वह शोध स्वभाषाओं में किया जाए तो भारत के प्रतिभाशाली युवक अपने देश को बहुत आगे ले जा सकते हैं।
#डॉ. वेदप्रताप वैदिक
0 0

matruadmin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

 खंजर

Fri Jan 18 , 2019
गैरों से गिला नहीं मुझको,, मुझे अपनो ने ही रुलाया है,, लगा के सीने से उन्होने फिर,, खंजर मुझे चुभाया है,,, समंदर में जो लेके उतरे थे,, उनपे भरोसा जायज था,, रिश्तों का था हवाला,, बेफिक्री में डर भी गायब था,, कश्तीं के जो मेरी मांझी थे,, उन्होने ही मुझे […]

Founder and CEO

Dr. Arpan Jain

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ इन्दौर (म.प्र.) से खबर हलचल न्यूज के सम्पादक हैं, और पत्रकार होने के साथ-साथ शायर और स्तंभकार भी हैं। श्री जैन ने आंचलिक पत्रकारों पर ‘मेरे आंचलिक पत्रकार’ एवं साझा काव्य संग्रह ‘मातृभाषा एक युगमंच’ आदि पुस्तक भी लिखी है। अविचल ने अपनी कविताओं के माध्यम से समाज में स्त्री की पीड़ा, परिवेश का साहस और व्यवस्थाओं के खिलाफ तंज़ को बखूबी उकेरा है। इन्होंने आलेखों में ज़्यादातर पत्रकारिता का आधार आंचलिक पत्रकारिता को ही ज़्यादा लिखा है। यह मध्यप्रदेश के धार जिले की कुक्षी तहसील में पले-बढ़े और इंदौर को अपना कर्म क्षेत्र बनाया है। बेचलर ऑफ इंजीनियरिंग (कम्प्यूटर साइंस) करने के बाद एमबीए और एम.जे.की डिग्री हासिल की एवं ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियों’ पर शोध किया है। कई पत्रकार संगठनों में राष्ट्रीय स्तर की ज़िम्मेदारियों से नवाज़े जा चुके अर्पण जैन ‘अविचल’ भारत के २१ राज्यों में अपनी टीम का संचालन कर रहे हैं। पत्रकारों के लिए बनाया गया भारत का पहला सोशल नेटवर्क और पत्रकारिता का विकीपीडिया (www.IndianReporters.com) भी जैन द्वारा ही संचालित किया जा रहा है।लेखक डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं तथा देश में हिन्दी भाषा के प्रचार हेतु हस्ताक्षर बदलो अभियान, भाषा समन्वय आदि का संचालन कर रहे हैं।