मासिक धर्म अंधविश्वास नहीं , प्रक्रिया है

Read Time2Seconds
rinkal sharma
पिछले हजारों सालों में समाज के अन्दर महिलाओं की स्थिति में बहुत बड़े स्तर पर बदलाव हुआ है। अगर गुज़रे चालीस-पचास सालों को ही देखे तो हमें पता चलता है की महिलाओं को पुरुषों के बराबर हक़ मिले, इस पर बहुत ज्यादा काम किया गया है। हम यह तो नहीं कह सकते की महिलाओं की स्थिति में सौ फीसदी बदलाव आया है पर इतना जरुर कह सकते है की महिलाएं अब अपने अधिकारों के लिए और भी अधिक जागरूक हो गयी है।  यहाँ तक कि  समाज में मासिक धर्म जैसे संवेदनशील मुद्दों पर भी खुल कर बातचीत  होने लगी  है। घर—परिवार और स्कूलों में भी बच्चों को इन मुद्दों के बारे में  खुलकर बताया जाता है।
पहले के ज़माने में, समाज में, इस विषय पर जिस तरह से विचार – विमर्श होना चाहिए था , वो तो दूर इस विषय पर बोलने पर भी कड़ी पाबंदी थी।  शिक्षा संस्थानों में भी ऐसी कोई व्यवस्था नहीं थी जिससे बच्चों को मासिक चक्र के बारे में सही शिक्षा मिल सके।  जब कभी भी हम लोग पहली बार किसी दौर से गुजरते हैं तो हमारे मनोमस्तिष्क में एक हलचल, उधेड़बुन होती है। पहली बार मासिक धर्म आने के दौरान  लड़कियों की मन: स्थिति भी कुछ ऐसी ही रहती है।  लेकिन वह इस विषय पर खुल कर बोल भी नहीं सकतीं थी, सहमी रहती थीं। इस दौरान महिलाओं को अपवित्र समझा जाता था।
पुराने ज़माने में ही नहीं अपितु आज भी ,मासिक धर्म को स्त्री की पवित्रता और अपवित्रता से भी जोड़ा जाता है। ‘अपवित्रता’ का आलम ये है कि इस दौरान महिलाओं को कई रूढ़िवादी  मान्यताओं से भी गुजरना पड़ता है, जैसे  वो रसोई घर में नहीं जा सकती, वे खाना नहीं बना सकती, पूजा घर में प्रवेश नहीं कर सकती। कई स्थानों पर महिलाओं को पुरुष के पास भी नहीं सोने दिया जाता। ये हालात देश के ग्रामीण इलाकों में ही नहीं बल्कि शहरों में भी ऐसा ही किया जाता है। हमारे देश में भारतीय समाज का एक बड़ा तबका मानता हैं कि महिलाओं में होने वाली माहवारी की प्रक्रिया “अपवित्रता” है।  इस अन्धविश्वास का मूल कारण शिक्षा का अभाव है।  क्योंकि  अगर हम वेदों का अध्ययन करे तो उसमें हमें यह साफ़ देखने को मिलता है कि उस समय मासिक चक्र को एक सामान्य प्रक्रिया के रूप में ही लिया जाता था।  जिसका जीता जागता उदाहरण  गुवाहाटी में  स्थित प्रख्यात  ” कामाख्या मंदिर ” है।
कुछ समय पहले त्रावणकोर देवाश्वम बोर्ड के अध्यक्ष प्रयार गोपालकृष्णन के ‘महिला विरोधी’ बयान से सोशल मीडिया पर एक जंग शुरू हो गई और देश के युवाओं से गोपालकृष्णन को इसका जवाब भी मिला। बोर्ड के अध्यक्ष नियुक्त हुए गोपालकृष्णन के बयान ने उस वक्त चर्चाएं बटोरी, जब उन्होंने कहा कि महिलाओं को प्रसिद्ध साबरीमला मंदिर में प्रवेश की अनुमति तभी दी जाएगी जब उनकी शुद्धता की जांच करने वाली मशीन का आविष्कार हो जाएगा।गोपालकृष्णन के बयान का मतलब का था कि महिलाओं को तभी मंदिर में दाख़िल होने दिया जाएगा जब ऐसी मशीनें आ जाएंगी जो ये चेक करें कि महिलाओं को मासिक धर्म चल रहा है या नहीं। जिसके बाद से सोशल मीडिया पर ‘हैप्पी टू ब्लीड’ के साथ एक मुहिम शुरू हुई और लोगों ने समाज में मासिक धर्म को लेकर फैल रहे अंधविश्वास के खिलाफ मोर्चा खोल दिया। इस दौरान लड़कियों ने हाथ में पेड्स, नैपकिन लेकर फोटो सोशल मीडिया पर पोस्ट किए और लोगों को जागरूक करने की कोशिश की।
समाज में जहाँ एक ओर गोपालकृष्णन जैसे लोग है , वहीँ दूसरी ओर अरुणाचलम मुरुगनथम जैसे लोग भी है, उन्होंने कम लागत वाले सैनिटरी नैपकिन्स बनाने की मशीन का आविष्कार किया था। मुरुगनानथम ने एक ऐसी मशीन का निर्माण किया था जो सैनिटरी नैपकिन्स सस्ते दाम में उत्पादित करती थी। ऐसी भी कहानी है कि सैनिटरी नैपकिन्स बनाने वाले मुरुगनानथम को उनकी पत्नी एक बार छोड़ कर चली गयी थी। ऐसा उन्होंने पति के काम से शर्म महसूस होने के कारण किया था। ऐसे समाज में, जहां पर इस विषय पर चर्चा करने पर पाबंदी हो वहां पर अगर कोई मासिक धर्म को लेकर सैनिटरी नैपकिन्स बनाने जैसा काम करे तो, वह परिवार शर्मसार महसूस करेगा ही।
हालाँकि मुरुगनाथम को बाद में पद्म सम्मान से नवाजा गया।  अभी कुछ समय पहले प्रदर्शित,‘पैडमैन’ फिल्म अरुणाचलम मुरुगनथम की वास्तविक जीवन की कहानी से प्रेरित है। इस फिल्म प्रसिद्ध अभिनेता अक्षय कुमार ने अभिनय किया है। चाहे मुरुगनानथम के वास्तविक जीवन पर बनी यह फिल्म हो या फिर  उनको मिला पुरस्कार, ये दोनों ही बातें हमें इस विषय पर समाज में खुल कर बोलने और चर्चा करने का लाइसेंस देती है कि चुप्प मत रहो, ऐसे विषय पर खुल कर बोलो, चर्चा करो, शर्म मत करो।  समाज को शिक्षित करो।  लड़कियों की शिक्षा को समाज का महत्वपूर्ण अंग बनाओ।  गाँधी जी  ने कहा था कि,” एक लड़की की शिक्षा एक लड़के की शिक्षा की उपेक्षा अधिक महत्वपूर्ण है क्योंकि  लड़के को शिक्षित करने पर वह अकेला शिक्षित होता है किन्तु एक लड़की की शिक्षा से पूरा परिवार शिक्षित हो जाता है ।”  ऐसा करने से समाज संवेदनशील बनेगा और राष्ट्र का सर्वांगीण विकास संभव हो सकेगा।
#रिंकल शर्मा
परिचय-
नाम – रिंकल शर्मा
(लेखिका, निर्देशक, अभिनेत्री एवं समाज सेविका)
निवास – कौशाम्बी ग़ाज़ियाबाद(उत्तरप्रदेश)
शिक्षा – दिल्ली विश्वविद्यालय से स्नातक , एम ए (हिंदी) एवं फ्रेंच भाषा में डिप्लोमा 
अनुभव –  2003 से 2007 तक जनसंपर्क अधिकारी ( bpl & maruti)
2010 – 2013 तक स्वयं का स्कूल प्रबंधन(Kidzee )
2013 से रंगमंच की दुनिया से जुड़ी । बहुत से हिंदी नाटकों में अभिनय, लेखन एवं मंचन किया । प्रसार भारती में प्रेमचंद के नाटकों की प्रस्तुति , दूरदर्शन के नाट्योत्सव में प्रस्तुति , यूट्यूब चैनल के लिए बाल कथाओ, लघु कथाओंं एवं कविताओं का लेखन ।  साथ ही 2014 से स्वयंसेवा संस्थान के साथ समाज सेविका  के रूप में कार्यरत।
0 0

matruadmin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

तिरंगा हम लहरायेंगे

Mon Jul 16 , 2018
चमन वालो तिरंगा हम लहरायेंगे वन्दे मातरम मिलकर हम गाएंगे हस्ती कोई हमारी मिटा सकता नहीं दुनिया वाले भले हमे आजमाएंगे गर्व करते है हम हमारे वतन पर बढ़ते कदम हमारे न डगमगाएँगे वादा है हमारा और इरादा भी  है दुश्मन ही  हमारे  मुँह की  खाएंगे वतन के खातिर गर […]

Founder and CEO

Dr. Arpan Jain

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ इन्दौर (म.प्र.) से खबर हलचल न्यूज के सम्पादक हैं, और पत्रकार होने के साथ-साथ शायर और स्तंभकार भी हैं। श्री जैन ने आंचलिक पत्रकारों पर ‘मेरे आंचलिक पत्रकार’ एवं साझा काव्य संग्रह ‘मातृभाषा एक युगमंच’ आदि पुस्तक भी लिखी है। अविचल ने अपनी कविताओं के माध्यम से समाज में स्त्री की पीड़ा, परिवेश का साहस और व्यवस्थाओं के खिलाफ तंज़ को बखूबी उकेरा है। इन्होंने आलेखों में ज़्यादातर पत्रकारिता का आधार आंचलिक पत्रकारिता को ही ज़्यादा लिखा है। यह मध्यप्रदेश के धार जिले की कुक्षी तहसील में पले-बढ़े और इंदौर को अपना कर्म क्षेत्र बनाया है। बेचलर ऑफ इंजीनियरिंग (कम्प्यूटर साइंस) करने के बाद एमबीए और एम.जे.की डिग्री हासिल की एवं ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियों’ पर शोध किया है। कई पत्रकार संगठनों में राष्ट्रीय स्तर की ज़िम्मेदारियों से नवाज़े जा चुके अर्पण जैन ‘अविचल’ भारत के २१ राज्यों में अपनी टीम का संचालन कर रहे हैं। पत्रकारों के लिए बनाया गया भारत का पहला सोशल नेटवर्क और पत्रकारिता का विकीपीडिया (www.IndianReporters.com) भी जैन द्वारा ही संचालित किया जा रहा है।लेखक डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं तथा देश में हिन्दी भाषा के प्रचार हेतु हस्ताक्षर बदलो अभियान, भाषा समन्वय आदि का संचालन कर रहे हैं।