स्वस्थ्य भारत के लिए स्वच्छता जरूरी

Read Time0Seconds

devendr soni

स्वच्छता केवल भारत के लिए ही नहीं अपितु समाज , घर और हर व्यक्ति के लिए जरूरी होती है। अब तो इसे अभियान के रूप में भी चलाया जा रहा है।
अनेक संस्थाएं भी इस दिशा में जन सामान्य को जाग्रत करने की दिशा में पहल कर रही हैं जिसके परिणाम भी सबकी सहभागिता के रूप में परिलक्षित हो रहे हैं ।
देश में व्याप्त गंदगी और फैलती महामारी से निपटने के लिए स्वास्थ्य के परिप्रेक्ष्य में सबसे पहले यदि देशवासियों को स्वच्छता का संदेश किसी ने दिया था तो वे थे महात्मा गांधी जिन्होंने स्वयं अपना मैला ढोकर और अपने साथियों के साथ अन्य स्थानों की स्वच्छता का कार्य प्रारंभ किया था ।
उनके इस अभियान की विस्तृत चर्चा न करते हुए यहां मैं सिर्फ इतना कहना चाहता हूँ की स्वच्छता से स्वास्थ्य का सीधा सम्बंध होता है ।
हम सब अपनी और अपने घरों की साफ सफाई का तो ध्यान रखते ही हैं लेकिन अनेक ऐसे घर – परिवार भी हैं जो आज भी कूड़ा कचरा सड़कों पर ही फेंकते हैं । यही नहीं , व्यावसायिक प्रतिष्ठानों के अतिरिक्त कुछ विकृत मानसिकता के लोग सार्वजनिक स्थानों को भी अपनी बपौती मानकर उन्हें जान बूझकर गंदा करते हैं । चाहे वे सार्वजनिक शौचालय हों या रेल के प्रसाधन स्थल । आलावा इसके यहां – वहां पान – तम्बाकू की पीकेँ भी इनकी विकृत कला का उदाहरण होता है।
यही सब देखते हुए सरकारी स्तर पर अब ज्यादा ध्यान दिया जा रहा है । कचरा इकट्ठा करने हेतु घर तक आती गाड़ियां , सार्वजनिक स्थलों को गंदा करने पर सजा और जुर्माना आदि के प्रावधानों का कड़ाई से पालन किया जा रहा है । स्वच्छता दूत भी बनाए जा रहे हैं जो इन सब पर नजर रखते हैं लेकिन क्या यह पर्याप्त है ?
सरकार लाख प्रयास कर ले , करोड़ों अरबों की योजनाएं और अनुदान संस्थाओं को या व्यक्तिशः वितरित कर दे फिर भी जब तक नागरिक अपने कर्तव्य नहीं समझेंगे तब तक सब बेमानी ही होता है । आंशिक सफलता का व्यापक प्रदर्शन वाह वाही तो दे सकता है मगर यह किसी को भी अच्छा स्वास्थ्य नहीं दे सकता ।
अच्छे स्वास्थ्य और स्वस्थ भारत के लिए जरूरी है हम सिर्फ और सिर्फ सरकारी योजनाओं का गुणगान ही न करें बल्कि खुद में भी परिवर्तन लाएं । इसके लिए जरूरी है स्वच्छता के मूलभूत सिद्धान्तों पर ध्यान दें ।। सार्वजनिक स्थलों पर गंदगी फेंकने और करने वालों को उचित सबक सिखाएं या इसकी सूचना सम्बंधितों को देकर अपने कर्तव्य का निर्वहन करें , तभी स्वच्छता और स्वास्थ्य को बचा सकेंगे , अन्यथा जो चलता है वह तो चलता ही रहेगा।

#देवेन्द्र सोनी , इटारसी

0 0

matruadmin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

स्वच्छता से होगा स्वस्थ्य भारत का नवनिर्माण

Fri Jun 29 , 2018
  भारत देश पुनर्निर्माण के दौर से गुजर रहा हैं, जिसमें तरक्की की गगनचुम्भी इमारतों से लेकर सरपट दौड़ती बुलेट ट्रेन का स्वप्न, विदेशी प्रत्यक्ष निवेश के सहारे देशवासियों के लिए आधारभूत सुविधाओं को जुटाना, राष्ट्रीयता की स्थापना से लेकर आतंक से मुक्ति का महा मृत्युंजय मन्त्र भी जपा जा […]

Founder and CEO

Dr. Arpan Jain

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ इन्दौर (म.प्र.) से खबर हलचल न्यूज के सम्पादक हैं, और पत्रकार होने के साथ-साथ शायर और स्तंभकार भी हैं। श्री जैन ने आंचलिक पत्रकारों पर ‘मेरे आंचलिक पत्रकार’ एवं साझा काव्य संग्रह ‘मातृभाषा एक युगमंच’ आदि पुस्तक भी लिखी है। अविचल ने अपनी कविताओं के माध्यम से समाज में स्त्री की पीड़ा, परिवेश का साहस और व्यवस्थाओं के खिलाफ तंज़ को बखूबी उकेरा है। इन्होंने आलेखों में ज़्यादातर पत्रकारिता का आधार आंचलिक पत्रकारिता को ही ज़्यादा लिखा है। यह मध्यप्रदेश के धार जिले की कुक्षी तहसील में पले-बढ़े और इंदौर को अपना कर्म क्षेत्र बनाया है। बेचलर ऑफ इंजीनियरिंग (कम्प्यूटर साइंस) करने के बाद एमबीए और एम.जे.की डिग्री हासिल की एवं ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियों’ पर शोध किया है। कई पत्रकार संगठनों में राष्ट्रीय स्तर की ज़िम्मेदारियों से नवाज़े जा चुके अर्पण जैन ‘अविचल’ भारत के २१ राज्यों में अपनी टीम का संचालन कर रहे हैं। पत्रकारों के लिए बनाया गया भारत का पहला सोशल नेटवर्क और पत्रकारिता का विकीपीडिया (www.IndianReporters.com) भी जैन द्वारा ही संचालित किया जा रहा है।लेखक डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं तथा देश में हिन्दी भाषा के प्रचार हेतु हस्ताक्षर बदलो अभियान, भाषा समन्वय आदि का संचालन कर रहे हैं।