Archives for व्यंग्य - Page 2

Uncategorized

कवि और टमाटर 

दोनों वरिष्ठ कवि मंडी से टमाटर खरीद कर लौटे थे। एक जमाना था जब वे दो-चार कविताएं सुनाकर टमाटर-बैंगन वगैरह इकठ्ठा कर लिया करते थे। उस समय कविता को लेकर…
Continue Reading
Uncategorized

परसाईं-प्रेमी से मुलाक़ात

वे परसाईं जी के सबसे बड़े प्रेमी हैं, और परसाईं-प्रसाद बाँटने वाले इकलौते वितरक भी।जब भी वक्तव्य देते हैं,परसाईं से नीचे नहीं उतरते।आशय यह कि,परसाईं पूरी तरह उनके मुँह लग…
Continue Reading
काव्यभाषा

बेरोजगार युवक

एक पढ़ा-लिखा बेरोजगार युवक, नौकरी ढूंढते-ढूंढते हो गया था परेशान.. जाति में ब़ाहम्ण होने के अभिशाप से था हैरान। नेताओं के निजी स्वार्थ ने जनरल के कोटे को, इतना कम…
Continue Reading
देश

पाकी के पास परमानू…

जबसे बदरू ने सुना है कि,पाकी ने परमानू बम मारने की धमकी दी है उसकी नींद उड़ गई है। बीवी तो बीवी है,उसकी चिंता ये है कि बदरू दो दिन…
Continue Reading
Uncategorized

ऊफ… ये मासूम…!!​

10 दिसंबर को विश्व मानवाधिकार दिवस के लिए विशेष ... तारकेश कुमार ओझा रेलवे स्टेशन और बस अड्डा। इन दो स्थानों पर जाने की नौबत आने पर मैं समझ जाता…
Continue Reading
12

मातृभाषा को पसंद कर शेयर कर सकते है