Archives for राष्ट्रीय - Page 2

खर्चीले विवाहों का औचित्य ?

वर्तमान में मुझे विवाह की परिभाषा बदलती हुई नजर आ रही है। अब विवाह का अर्थ वि + वाह ! पर आधारित हो गया है अर्थात विवाह वही जिसे देखकर…
Continue Reading

अंतर्राज्यीय भाषा समन्वय से भारत में स्थापित होगी हिन्दी

विविधताओं में एकता की परिभाषा से अलंकृत राष्ट्र यदि कोई हैं तो भारत के सिवा दूसरा नहीं | यक़ीनन इस बात में उतना ही दम हैं जितना भारत के विश्वगुरु…
Continue Reading

यह कैसा मातृभाषा दिवस है ?

आज सारी दुनिया के देश मातृभाषा दिवस मना रहे हैं। 21 फरवरी को मातृभाषा दिवस क्यों मनाया जाता है ? क्योंकि यूनेस्को ने इसे 1999 में मान्यता दी थी। 21…
Continue Reading

बैंकों का घुमावदार सीढ़ियां … !!

तब तक शायद बैंकों का राष्ट्रीयकरण नहीं हुआ था। बचपन के बैक बाल मन में भारी कौतूहल और जिज्ञासा का केंद्र होते थे। अपने क्षेत्र में बैंक का बोर्ड देख…
Continue Reading

चुनौतियों के भंवर में बजट

वित्त मंत्री अरुण जेटली द्वारा आख़िरी पूर्ण बजट पेश करने के बाद शाद अजीमाबादी की ये पंक्तियां याद आ रही हैं-'तमन्नाओं में उलझाया गया हूं...खिलौने देकर बहलाया गया हूं'। वित्त…
Continue Reading

भाजपा की कांटों भरी राह

केन्द्र में सत्तारूढ़  भारतीय जनता पार्टी ने अगले साल २०१९ में होने वाले आमसभा चुनाव की तैयारियां शुरू कर दी है। वह पिछली बार की तरह  के लोकसभा चुनाव में…
Continue Reading

मातृभाषा को पसंद कर शेयर कर सकते है