Author Archives: matruadmin - Page 133

काव्यभाषा

यादों का एहसास…

बहुत दूर है तुम्हारे घर से, हमारे घर का किनारा , पर हवा के हर झोंके से , पूछ लेते हैं मेरी जान, हाल तुम्हारा। लोग अक्सर कहते हैं, जिन्दा रहे तो फिर मिलेंगे, पर मेरी जान कहती है, निरंतर मिलते रहे, तो ही जिन्दा रहेंगे। दर्द कितना खुशनसीब है, जिसे पाकर अपनों को याद करते हैं, दौलत कितनी वदनसीब है ,जिसे पाकर लोग, अक्सर अपनों को भूल जाते हैं। इसलिए तो छोड़ दिया सबको, बिना वजह परेशान करना, जब कोई हमें अपना समझता ही नहीं, तो उसे अपनी याद दिलाकर भी क्या करना। जिंदगी गुजर गई, सबको खुश करने में, जो खुश हुए वो अपने नहीं थे, और जो अपने थे मेरी जान, वो भी खुश नहीं हुए। इसलिए संजय कहता है, कर्मो से डरिए , ईश्वर से नहीं, ईश्वर माफ़ कर देता है, परन्तु खुद के कर्म नहीं। #संजय…
Continue Reading
काव्यभाषा

‘जब भी हमें यकीन हुआ’

जब भी हमें यकीन हुआ किसी की वफा पर , उसने हमारा विश्वास तोड़ा ज़रूर है। जब भी हमें लगा,अब जिंदगी़ की बाज़ी हारने वाले हैं, अचानक जीत जाते हैं।…
Continue Reading
Uncategorized

मातृभाषा केवल पोर्टल नहीं बल्कि भविष्य में हिन्दी के विस्तार हेतु आंदोलन बनेगा

|| समाचार विज्ञप्ति || मातृभाषा केवल पोर्टल नहीं बल्कि भविष्य में हिन्दी के विस्तार हेतु आंदोलन बनेगा इंदौर । भाषा के विस्तृत सागर में 'हिन्दी' भाषा के प्रति प्रेम और उसी भाषा की…
Continue Reading
Uncategorized

जिद्दी खबरों का आईना…

* अर्पण जैन 'अविचल' वो भी संघर्ष करती है, मंदिर-मस्जिद की लाइन-सी मशक्कत करती है, वो भी इतिहास के पन्नों में जगह बनाने के लिए जद्दोहद करती है, लड़ती- भिड़ती…
Continue Reading
मातृभाषा

भारत की राजभाषा होने के नाते हिन्दी को संविधान की आठवीं अनुसूची से निकाल लिया जाए

हिन्दी भारत के व्यापक क्षेत्र की भाषा है, जिसका स्थान एक क्षेत्रीय भाषा से ऊपर उठकर पूरा देश है। हिन्दी समस्त भारत में किसी न किसी रूप में बोली और…
Continue Reading

मातृभाषा को पसंद कर शेयर कर सकते है