Author Archives: matruadmin - Page 1014

Uncategorized

मत बैठना मुकद्दर के सहारे कभी

कुछ देर और ठहरो, अभी बातें बहुत बाकी हैं। हवा के इस रुख से परेशान मत हो, जाना है दूर तलक अभी। कुछ पल ठहर कर,फिर से सोचो, तुम्हारी मेहनत…
Continue Reading
Uncategorized

बार -बार वन्दना..

व्राह्मण कुल गौरव भगवान परशुराम जी के, जन्म दिवसोत्सव पर बार -बार वन्दना। शिव के महान भक्त विजया कमानधारी, सती रेणुका के पूत बार-बार वन्दना।। ऋषि जमदग्नि जी के अंशज…
Continue Reading
Uncategorized

इश्क सूफियाना..

कभी हमारी मोहब्बत की कहानी पढ़े ये जमाना, जिसमें पाक मोहब्बत का हो खजाना। आओ दें इस दुनिया को प्रेम का, अनोखा नजराना, कुछ ऐसा हो तेरा-मेरा इश्क सूफियाना। जिसे…
Continue Reading
Uncategorized

पाषाण-मनुज

अमित अमीत अधूत आज क्यों, मनमानी पर उतराए हैं ? समीकरण क्यों बदल रहे हैं, समदर्शी क्यों घबराए हैं ? अब कैसी है यह दुरभिसंधि, दुरुत्साहन यह कैसा है ?…
Continue Reading
Uncategorized

मेरी नींद को दिक्कत न भजन से

मेरी नींद को दिक्कत न भजन से है, न अजान से है, मेरी नींद को दिक्कत पिटते जवान और मरते किसान से है। मेरी नींद को दिक्कत न मंदिर से…
Continue Reading
Uncategorized

मुक्तक

हम पड़ोसी को भाई समझते रहे, दोस्ती से मसायल सुलझते रहे। नक्सली बेहयाई की हद कर दिए, चोरी-चुपके से हमसे उलझते रहे।। सोते सिंहों को छेड़ा बुरी बात है, तेरे…
Continue Reading

मातृभाषा को पसंद कर शेयर कर सकते है