बारिश की बूँदों ने देखो, कैसा किया कमाल, झूम उठा मन,बच्चों ने जी भर के किया धमाल। मत रोको अब भीगने दो, मस्ती में गाएंगे, अभी नहीं तो ये मस्ती, जीवन में कब पाएंगे। नहीं सुनेंगे हम भीगेंगे, तोड़ के सब जंजाल बारिश की बूँदों ने देखो, कैसा किया कमाल। […]

इस मेले में मेरी नज़र कुछ ढूँढती है, बहुत कुछ है यहां,फ़िर भी कुछ ढूँढती है। सागर है गहरा,रत्न भी निकले  हैं कई ठंडक भी बहुत है,मगर मीठापन कुछ ढूँढती है, इस मेले में मेरी नज़र…। भोग हैं छप्पन,रसभरे भी हैं, स्वाद लाजवाब,मगर नमक कुछ ढूँढती है, इस मेले में […]

किसे अपना हम कहें,किसको कहें  पराया, खाए कई  बार धोखे,लेकिन  समझ न  आया। अपने-से बनके  रहना,दिखाया भी ये बहुत, मगर वक्त आने पर,ठेंगा ही  दिखाया। नफ़रत से भरी दुनिया में,ऐसा भी नहीं है, जिसको  किया किनारा,उसका ही साथ पाया। लगता है व्यर्थ सब कुछ,माया और   छलावा, बस एक ईश्वर का […]

1

पावन प्रकृति ने प्रातः में, पुनः जगाए प्राण, कोयल के कलरव ने छेड़ी,मधुर गीत की तान। छटा बिखेरी धरती माँ ने,आँचल अपना लहराया, दूर किया सूरज ने आकर,अंधियारा था गहराया। लाल चुनर ओढ़ा दिनकर,करता माँ का सम्मान, पावन प्रकृति ने प्रातः में……। नया सवेरा कई नई,आशाएँ लेकर आया, सच करने […]

Founder and CEO

Dr. Arpan Jain

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ इन्दौर (म.प्र.) से खबर हलचल न्यूज के सम्पादक हैं, और पत्रकार होने के साथ-साथ शायर और स्तंभकार भी हैं। श्री जैन ने आंचलिक पत्रकारों पर ‘मेरे आंचलिक पत्रकार’ एवं साझा काव्य संग्रह ‘मातृभाषा एक युगमंच’ आदि पुस्तक भी लिखी है। अविचल ने अपनी कविताओं के माध्यम से समाज में स्त्री की पीड़ा, परिवेश का साहस और व्यवस्थाओं के खिलाफ तंज़ को बखूबी उकेरा है। इन्होंने आलेखों में ज़्यादातर पत्रकारिता का आधार आंचलिक पत्रकारिता को ही ज़्यादा लिखा है। यह मध्यप्रदेश के धार जिले की कुक्षी तहसील में पले-बढ़े और इंदौर को अपना कर्म क्षेत्र बनाया है। बेचलर ऑफ इंजीनियरिंग (कम्प्यूटर साइंस) करने के बाद एमबीए और एम.जे.की डिग्री हासिल की एवं ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियों’ पर शोध किया है। कई पत्रकार संगठनों में राष्ट्रीय स्तर की ज़िम्मेदारियों से नवाज़े जा चुके अर्पण जैन ‘अविचल’ भारत के २१ राज्यों में अपनी टीम का संचालन कर रहे हैं। पत्रकारों के लिए बनाया गया भारत का पहला सोशल नेटवर्क और पत्रकारिता का विकीपीडिया (www.IndianReporters.com) भी जैन द्वारा ही संचालित किया जा रहा है।लेखक डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं तथा देश में हिन्दी भाषा के प्रचार हेतु हस्ताक्षर बदलो अभियान, भाषा समन्वय आदि का संचालन कर रहे हैं।