न्यायालय से सड़कों तक लड़ेंगे किन्तु मुस्लिम आरक्षण का काला कानून बर्दास्त नहीं करेंगे : डॉ सुरेंद्र जैन

0 0
Read Time2 Minute, 48 Second

नागपुर। फरवरी 29, 2020।महाराष्ट्र सरकार द्वारा मुसलमानों को 5% आरक्षण दिए जाने पर विश्व हिंदू परिषद (विहिप) ने तीखी प्रतिक्रिया व्यक्त की है. विहिप के केंद्रीय संयुक्त महासचिव डॉ सुरेंद्र जैन ने आज नागपुर में एक जनसभा को संबोधित करते हुए कहा कि ऐसा लगता है कि हिंदुत्व इनके दिल से निकल कर सिर्फ जुबान तक सीमित रह गया. उन्होंने कहा कि शिवसेना न सिर्फ महाराष्ट्र की हिंदू जनता को बल्कि शिवाजी महाराज और बाला साहब ठाकरे जी को भी धोखा दे रही है.

73 वर्षों से मुस्लिम तुष्टीकरण की राजनीति हो रही थी। इसके बावजूद भी इस देश के अंदर शाहीन बाग होते हैं, मुस्लिम बाहुल्य बस्तियों में दंगे होते हैं, आइबी अफसर को चाकूओं से गोद दिया जाता है किन्तु फिर भी इन्हें अकल नहीं आती। अब उध्दव सरकार को तय करना है कि वह छत्रपति शिवाजी महाराज के साथ है या औरंगजेब के अनुयायियों के साथ। विश्व हिंदू परिषद इस मामले को सड़कों से अदालत तक ले जाएगी लेकिन मुस्लिमतुष्टीकरण के लिए सांप्रदायिक आधार पर किसी भी तरह के आरक्षण का काला कानून बर्दाश्त नहीं किया जाएगा।

सभा से पूर्व एक शोभायात्रा भी निकाली गई जिसमें सैंकडों लोगों ने भाग लिया। महाल नागपुर के चिटनीष पार्क मैदान में आज सायंकाल में उपस्थित जनसमूह को संबोधित करते हुए देवनाथ मठ अंजनगांव सुरजी के पीठाधीश्वर परम पूजनीय जितेंद्र नाथ जी महाराज ने हिन्दू समाज की एकता पर बल दिया। इस अवसर पर विश्व हिंदू परिषद के प्रांत मंत्री श्री गोविंद शिंदे, बजरंग दल मुंबई क्षेत्र के संयोजक श्री देवेश मिश्रा, विदर्भ के प्रांत संयोजक श्री अमोल अंधारे युवा उद्योगपति तथा नागपुर महानगर के विहिप अध्यक्ष श्री सुदर्शन शिंदे भी उपस्थित थे।

जारीकर्ता
विनोद बंसल
राष्ट्रीय प्रवक्ता
विश्व हिंदू परिषद

matruadmin

Next Post

प्रार्थना-पत्र 18

Sun Mar 1 , 2020
सेवा में, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी, दिनांक: 29 फरवरी 2020 विषय: नागरिकता संशोधन कानून सीएए के पक्ष में पदयात्रा हेतु अनुमति। आदरणीय महोदय जय हिंद! आदरणीय माननीय सम्माननीय प्रधानमंत्री दामोदर भाई नरेंद्र मोदी जी बीते कल मैंने रेडियो स्टेशन जम्मू में अपनी ग़ज़लों की रिकार्डिग करवाई।जिसे सी.एल. शर्मा जी ने […]

संस्थापक एवं सम्पादक

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’

29 अप्रैल, 1989 को मध्य प्रदेश के सेंधवा में पिता श्री सुरेश जैन व माता श्रीमती शोभा जैन के घर अर्पण का जन्म हुआ। उनकी एक छोटी बहन नेहल हैं। अर्पण जैन मध्यप्रदेश के धार जिले की तहसील कुक्षी में पले-बढ़े। आरंभिक शिक्षा कुक्षी के वर्धमान जैन हाईस्कूल और शा. बा. उ. मा. विद्यालय कुक्षी में हासिल की, तथा इंदौर में जाकर राजीव गाँधी प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के अंतर्गत एसएटीएम महाविद्यालय से संगणक विज्ञान (कम्प्यूटर साइंस) में बेचलर ऑफ़ इंजीनियरिंग (बीई-कंप्यूटर साइंस) में स्नातक की पढ़ाई के साथ ही 11 जनवरी, 2010 को ‘सेन्स टेक्नोलॉजीस की शुरुआत की। अर्पण ने फ़ॉरेन ट्रेड में एमबीए किया तथा एम.जे. की पढ़ाई भी की। उसके बाद ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियाँ’ विषय पर अपना शोध कार्य करके पीएचडी की उपाधि प्राप्त की। उन्होंने सॉफ़्टवेयर के व्यापार के साथ ही ख़बर हलचल वेब मीडिया की स्थापना की। वर्ष 2015 में शिखा जैन जी से उनका विवाह हुआ। वे मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष भी हैं और हिन्दी ग्राम के संस्थापक भी हैं। डॉ. अर्पण जैन ने 11 लाख से अधिक लोगों के हस्ताक्षर हिन्दी में परिवर्तित करवाए, जिसके कारण वर्ल्ड बुक ऑफ़ रिकॉर्डस, लन्दन द्वारा विश्व कीर्तिमान प्रदान किया गया।