होरी की खुमारी में मैं डूब रही सखी, बोल न कैसे मनाऊँ अबके होरी….? रंग ले आऊँ जाय के हाट से,चल मोरे संग..।लाल रंग लगवाऊँ के,पीरा… हरा रंग चपखीला..के गुलाबी नसीला! ऐ सखी बोल न….कुछ तो बोल…?? प्रीत की ये पहरी होरी है रे! मन बौराया है,सुध-बुध हार बैठी हूँ…।पर […]

4

गुल्लू बोला मम्मी से, आज क्लास में मैडम जी ने बड़े पते की बात बताई, खेल-खेल में हम बच्चों को बड़े मज़े की बात सिखाई। पता है तुमको अपनी पृथ्वी, गोल है बिल्कुल गेंद के जैसी.. लटक रही आकाश में ऐसी, बिन डंडी के सेब के जैसी। बिना थके चक्कर […]

कुछ रिश्तों के कोई नाम नहीं होते, गुमनाम भटकते, अंजाम नहीं होते। खुले आसमान में उड़ते रहने की सोच, कोई इनके,आसमानी दायरे नहीं होते। ख्यालों की धुंध में जीने की हो चाहत, पलभर की खुशियाँ, हल्की-सी राहत। हवाओं में तराशे भावनाओं के बादल, यर्थाथ के झोंके, बिखरता आत्मबल। जिन्दगी से […]

संस्थापक एवं सम्पादक

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’

29 अप्रैल, 1989 को मध्य प्रदेश के सेंधवा में पिता श्री सुरेश जैन व माता श्रीमती शोभा जैन के घर अर्पण का जन्म हुआ। उनकी एक छोटी बहन नेहल हैं। अर्पण जैन मध्यप्रदेश के धार जिले की तहसील कुक्षी में पले-बढ़े। आरंभिक शिक्षा कुक्षी के वर्धमान जैन हाईस्कूल और शा. बा. उ. मा. विद्यालय कुक्षी में हासिल की, तथा इंदौर में जाकर राजीव गाँधी प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के अंतर्गत एसएटीएम महाविद्यालय से संगणक विज्ञान (कम्प्यूटर साइंस) में बेचलर ऑफ़ इंजीनियरिंग (बीई-कंप्यूटर साइंस) में स्नातक की पढ़ाई के साथ ही 11 जनवरी, 2010 को ‘सेन्स टेक्नोलॉजीस की शुरुआत की। अर्पण ने फ़ॉरेन ट्रेड में एमबीए किया तथा एम.जे. की पढ़ाई भी की। उसके बाद ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियाँ’ विषय पर अपना शोध कार्य करके पीएचडी की उपाधि प्राप्त की। उन्होंने सॉफ़्टवेयर के व्यापार के साथ ही ख़बर हलचल वेब मीडिया की स्थापना की। वर्ष 2015 में शिखा जैन जी से उनका विवाह हुआ। वे मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष भी हैं और हिन्दी ग्राम के संस्थापक भी हैं। डॉ. अर्पण जैन ने 11 लाख से अधिक लोगों के हस्ताक्षर हिन्दी में परिवर्तित करवाए, जिसके कारण वर्ल्ड बुक ऑफ़ रिकॉर्डस, लन्दन द्वारा विश्व कीर्तिमान प्रदान किया गया।