महामारी का समय है

0 0
Read Time2 Minute, 4 Second

पाँव रख संभालकर
महामारी का समय है
फन फैलाये
फुफकार रहे हैं काले नाग
ड़स रहें आदमी, आदमी को …
वर्तमान सरकारें हो चुकी हैं
पूर्णरूप से नाकाम
खड़े करके दोनों हाथ
छोड़ दिये गरीब-मजदूर मरने-कटने स्वयं के भाग्य पर
सारा देश चल रहा है
रामभरोसे !
सरकार चलाने वाले जब भी मुँह खोलते हैं
सिर्फ ढेंचू-ढेंचू की आवाज निकालते हैं

पता नहीं ये कोरोना वायरस
प्रकृति का कहर है या
कोई सरकारी साजिश
मौत का अट्ठाहास
तिल-तिल मार रहा गरीबों को
कोरोना वायरस तो मजदूरों से ड़र गया
पर भूखरुपी वायरस से मजदूर हार गया
ये जिंदगी और मौत का समय है
महामारी का समय है |

#मुकेश कुमार ऋषि वर्मा

परिचय : मुकेश कुमार ऋषि वर्मा का जन्म-५ अगस्त १९९३ को हुआ हैl आपकी शिक्षा-एम.ए. हैl आपका निवास उत्तर प्रदेश के गाँव रिहावली (डाक तारौली गुर्जर-फतेहाबाद)में हैl प्रकाशन में `आजादी को खोना ना` और `संघर्ष पथ`(काव्य संग्रह) हैंl लेखन,अभिनय, पत्रकारिता तथा चित्रकारी में आपकी बहुत रूचि हैl आप सदस्य और पदाधिकारी के रूप में मीडिया सहित कई महासंघ और दल तथा साहित्य की स्थानीय अकादमी से भी जुड़े हुए हैं तो मुंबई में फिल्मस एण्ड टेलीविजन संस्थान में साझेदार भी हैंl ऐसे ही ऋषि वैदिक साहित्य पुस्तकालय का संचालन भी करते हैंl आपकी आजीविका का साधन कृषि और अन्य हैl

matruadmin

Next Post

नाम का प्रभाव

Sat May 9 , 2020
नामकरण एक अनूठा संस्कार भविष्य का वही प्रथम आधार नाम अनुरूप ही संस्कार बनते भविष्य के वही पर्याय बनते देव स्वरूप हो अपना नवजात देवो नाम पर नामकरण करते रावण,कंस,दुर्योधन ,सूर्पनखा इनके नाम न रखे कोई सखा बलराम ,कृष्ण,राधा सब चाहते राम, सीता,लक्ष्मण भी भाते गलत नाम से हर कोई […]

संस्थापक एवं सम्पादक

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’

29 अप्रैल, 1989 को मध्य प्रदेश के सेंधवा में पिता श्री सुरेश जैन व माता श्रीमती शोभा जैन के घर अर्पण का जन्म हुआ। उनकी एक छोटी बहन नेहल हैं। अर्पण जैन मध्यप्रदेश के धार जिले की तहसील कुक्षी में पले-बढ़े। आरंभिक शिक्षा कुक्षी के वर्धमान जैन हाईस्कूल और शा. बा. उ. मा. विद्यालय कुक्षी में हासिल की, तथा इंदौर में जाकर राजीव गाँधी प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के अंतर्गत एसएटीएम महाविद्यालय से संगणक विज्ञान (कम्प्यूटर साइंस) में बेचलर ऑफ़ इंजीनियरिंग (बीई-कंप्यूटर साइंस) में स्नातक की पढ़ाई के साथ ही 11 जनवरी, 2010 को ‘सेन्स टेक्नोलॉजीस की शुरुआत की। अर्पण ने फ़ॉरेन ट्रेड में एमबीए किया तथा एम.जे. की पढ़ाई भी की। उसके बाद ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियाँ’ विषय पर अपना शोध कार्य करके पीएचडी की उपाधि प्राप्त की। उन्होंने सॉफ़्टवेयर के व्यापार के साथ ही ख़बर हलचल वेब मीडिया की स्थापना की। वर्ष 2015 में शिखा जैन जी से उनका विवाह हुआ। वे मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष भी हैं और हिन्दी ग्राम के संस्थापक भी हैं। डॉ. अर्पण जैन ने 11 लाख से अधिक लोगों के हस्ताक्षर हिन्दी में परिवर्तित करवाए, जिसके कारण वर्ल्ड बुक ऑफ़ रिकॉर्डस, लन्दन द्वारा विश्व कीर्तिमान प्रदान किया गया।