हिन्दी भाषा का अपमान सारे हिन्दी भाषियों का अपमान हैं

0 0
Read Time5 Minute, 6 Second

sandeep srajan

हिन्दी को राष्ट्रभाषा बनाने के लिए आज़ादी के बाद से भारत भर में आंदोलन चल रहें हैं, और कईं लोग तथा स्वयंसेवी संस्थाएँ हिन्दी को बढ़ावा मिले और हिन्दी केवल उत्तर भारत व कुछ ही प्रदेशों की भाषा नहीं रहे इस हेतु दक्षिण और पूर्वी श्रेत्रों में अपने निजी संसाधनों से हिन्दी के प्रसार के लिए काम कर रहे हैं। जिसके परिणाम भी सामने आए हैं।

आज़ादी के पहले से महात्मा गांधी की प्रेरणा से दक्षिण के प्रदेशों में हिन्दी को सम्मान दिलाने के लिए समितियां और संस्थाएँ स्थापित की गई थी जो आज भी हिन्दी के प्रसार के लिए समर्पित रूप से कार्य कर रही हैं। देश के प्रधानमंत्री स्वयं हिन्दी को बढ़ावा देने के पक्षधर है उनेक पिछले कार्यकाल में विश्वहिन्दी सम्मेलन का भारत में होना हिन्दी के वैश्विकरण का एक अच्छा प्रयास था। जब चारों तरफ हिन्दी का डंका बज रहा है। हिन्दी को अन्तर्राष्ट्रीय पहचान मिल चुकी हैं विदेशों में हिन्दी पढ़ाई जा रही हैं। विदेशी लोग हिन्दी सीखने, हिन्दी साहित्य को समझने के लिए लालायित हैं ऐसे समय में हिन्दी के एक कवि मंगलेश डबराल, जो कि अब अपने जीवन के अस्तांचल के करीब पहुंच रहे है। और उनकी कीर्ति का प्रकाश भी कम हो रहा है। वो बुझती हुई आग पर घी की जगह घासलेट डालकर कहते हैं। “इस भाषा में लिखने की मुझे ग्लानि है। काश मैं इस भाषा में न जन्मा होता।” जिसके कारण उनकी पहचान है, जो उनके जीवन का आधार रही वही भाषा बुढ़ापे में उनको खराब लगने लगी है। बहुत ही शर्मनाक बात सोशल मिडिया पर वे कह रहे हैं। उम्र भर जिस हिन्दी ने सबकुछ दिया उसके प्रति यदी कोई इस तरह से कहता है तो यह उसका गैरज़िम्मेदाराना वक्तव्य है, वह कितना भी बड़ा क्यों न हो निंदनीय है।

देश,काल और परिस्थिती के अनुसार नये शब्दों का जन्म होता रहता हैं, पुराने शब्द प्रचलन से बाहर हो जाते हैं। परिस्थितियों के अनुसार विचारधारा में भी परिवर्तन होते रहे है। उनको लगता है कि हिन्दी में कमियां हैं या हिन्दी का पतन हो रहा है। तो उनकी भी जवाबदारी बनती थी कि वे उन कमियों को दूर करने का प्रयास करते, हिन्दी के पतित होते शब्दों को दुरुस्त करते। न की भाषा का अपमान करते। क्योंकि हिन्दी भाषा का अपमान सारे हिन्दी भाषियों का अपमान हैं। उन्होंने सारी उम्र हिन्दी का ही नमक खाया है। जिस हिन्दी से जीवन में ढेर सारे अकादमिक सम्मान और पुरस्कार प्राप्त किए हो यदी उसी हिन्दी में कमियां लगती हैं तो मंगलेश जी को हिन्दी से जो सम्मान मिले वह सम्मान त्याग देना चाहिए, जीवन भर जो भी हिन्दी में लिखा वो नष्ट कर देना चाहिए और हिन्दी में बोलना और व्यवहार करना बंद कर देना चाहिए ताकि जीवन के उतार पर वे आत्मग्लानी से बच सके और शांति से मर सके।

हिन्दी पर आज मंगलेश जी ने कहा कल और कोई कहेगा, परसों और कोई कहेगा। इस तरह खुल्लम-खुल्ला हिन्दी का अपमान होता रहेगा और हिन्दी भाषी केवल हाथ बंधे और मुंह लटकाएँ खड़े रहेंगे और मिमियाती आवाज में कहेंगे “हिन्दी है हम वतन है हिन्दोस्ता हमारा” और दूसरी भाषा हम पर राज कर रही होगी।

मंगलेश डबरालजी के कुछ मित्रों को हो सकता है मेरा यह वक्तव्य अच्छा न लगे। वे अपनी मित्रता निभाएँ। जो गलत है उसे गलत कहा जाना चाहिए। यदी डबरालजी के सच्चे मित्र हैं तो उनसे वे उनके वक्तव्य पर बात जरुर करें। अंत में दुष्यंत कुमारजी की भाषा में यही कहूंगा-

“सिर्फ हंगामा खड़ा करना मेरा मकसद नहीं।

मेरी कोशिश है कि ये सूरत बदलनी चाहिए।”

#संदीप सृजन

matruadmin

Average Rating

5 Star
0%
4 Star
0%
3 Star
0%
2 Star
0%
1 Star
0%

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

मेहँदी

Tue Jul 30 , 2019
डाली माला , मनहर लगे , गीत उल्लास गाया ! लाली छाई , शुभ सरल सी, प्रीत विश्वास पाया ! नैना नीची , चकित हिरणी , भोर सौभाग्य लाई ! बाजा बाजे , अवसर मिला , प्राण सौन्दर्य पाई !! शादी बाला , सुरभि बिखरी, आज लावण्य देखो ! गूँथी […]

संस्थापक एवं सम्पादक

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’

29 अप्रैल, 1989 को मध्य प्रदेश के सेंधवा में पिता श्री सुरेश जैन व माता श्रीमती शोभा जैन के घर अर्पण का जन्म हुआ। उनकी एक छोटी बहन नेहल हैं। अर्पण जैन मध्यप्रदेश के धार जिले की तहसील कुक्षी में पले-बढ़े। आरंभिक शिक्षा कुक्षी के वर्धमान जैन हाईस्कूल और शा. बा. उ. मा. विद्यालय कुक्षी में हासिल की, तथा इंदौर में जाकर राजीव गाँधी प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के अंतर्गत एसएटीएम महाविद्यालय से संगणक विज्ञान (कम्प्यूटर साइंस) में बेचलर ऑफ़ इंजीनियरिंग (बीई-कंप्यूटर साइंस) में स्नातक की पढ़ाई के साथ ही 11 जनवरी, 2010 को ‘सेन्स टेक्नोलॉजीस की शुरुआत की। अर्पण ने फ़ॉरेन ट्रेड में एमबीए किया तथा एम.जे. की पढ़ाई भी की। उसके बाद ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियाँ’ विषय पर अपना शोध कार्य करके पीएचडी की उपाधि प्राप्त की। उन्होंने सॉफ़्टवेयर के व्यापार के साथ ही ख़बर हलचल वेब मीडिया की स्थापना की। वर्ष 2015 में शिखा जैन जी से उनका विवाह हुआ। वे मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष भी हैं और हिन्दी ग्राम के संस्थापक भी हैं। डॉ. अर्पण जैन ने 11 लाख से अधिक लोगों के हस्ताक्षर हिन्दी में परिवर्तित करवाए, जिसके कारण वर्ल्ड बुक ऑफ़ रिकॉर्डस, लन्दन द्वारा विश्व कीर्तिमान प्रदान किया गया।