शानदार सस्पेंस मर्डर मिस्ट्री बदला 

Read Time0Seconds
edris
अदाकार
अमिताभ बच्चन, तापसी पन्नू, अमृता सिंह, टोनी ल्यूक,मानव कौल,
निर्देशक
सुजॉय घोष
दोस्तो फ़िल्म एक स्पेनिश फ़िल्म कांतरोतिएमो से उठाई गई है, जिसको अंग्रेजी में रिलीज किया गया था इनविजिबल गेस्ट नाम से , सिर्फ हिंदी फिल्म में लिंग बदलाव किए गए है,,
फ़िल्म सस्पेंस, मर्डर मिट्री है
जो कि आपको बांधे रखने में सफल होती है साथ ही फ़िल्म में परत दर परत कई रोमांचक मोड़ और पहेलियां आती जाती है जिससे कि आप फ़िल्म में सीट पर बंधे रह जाते है
सस्पेंस फ़िल्म की ताकत ही उसका सस्पेंस होता है तो उसे खोले बिना ही फ़िल्म का जिक्र होगा
यानी
IMG_20190308_054514
अजीब सा पहरा लगाया है एहतियातों ने
की उसका जिक्र तो हो पर नाम न हो,,
तो साथियो कहानी पर चर्चा होगी पर ऊपर वाले शेर का ख्याल रखते हुवे,,,
कहानी
नैना(तापसी) एक जवान उधमिता है जो कि शादीशुदा होकर एक बच्ची की माँ भी है, उसका अर्जुन नामक एक शख्स से अफेयर भी है दोनों छिप छिप कर मिलते रहते है, दोनों पेरिस में कार से जा रहे होते है तो नैना की कार से सनी नामक लड़के की दुर्घटना में मौत हो जाती है तो अर्जुन नैना मिलकर लाश को ठिकाने लगा कर सबूत मिटाते है यह सब कोई तीसरा शख्स देख लेता हैं, और नैना को ब्लैकमेल करने लगता है,
अर्जुन नैना एक होटल पहुचते है
 ब्लेक मेलर को पैसे चुकाने को,
यहां से शुरू होता है नया ट्विस्ट
लेकिन वहां अर्जुन का कत्ल हो जाता है और ब्लैक मेलर बिना पैसे लिए चला जाता है, अर्जुन के कत्ल का इल्जाम नैना पर आ जाता है,, नैना का केस लड़ने के लिए एडवोकेट बादल गुप्ता(अमिताभ) को जिसने अपने 40 साला वकालत में कभी कोई केस नही हारा
अब शुरू होता है ट्विस्ट और टर्न्स का सस्पेंस का खेल,
अंत मे क्या नैना बच पाती है ? बादल गुप्ता केस जीत पाते है? असली हत्यारा कौन है?
इन सब सवालो के जवाबो के लिए फ़िल्म देखना पड़ेगी,,
फ़िल्म की कहानी ओरिअल पाओलो की है
पटकथा सुजॉय घोष ने लिखी है फ़िल्म की पटकथा कसी हुई है,,
राज वसंत ने डायलॉग लिखे ही जो कि काबिले तारीफ है,,
फ़िल्म का संगीत औसत है फ़िल्म को सहयोग करता है,,जो कि अमाल मलिक का है,,
फ़िल्म का दूसरा हाफ बेहद कसा हुआ है जो कि सीट से बांध देता है,,
फ़िल्म को 2200 स्क्रीन्स मिले है जिससे 4 से 7 करोड़ की शुरूआत मिल सकती है
फ़िल्म का बजट 30 करोड़ बताया गया है जो कि सोलो रिलीज पर कवर होते दिख रहा है,,
फ़िल्म को 3 स्टार्स

#इदरीस खत्री

परिचय : इदरीस खत्री इंदौर के अभिनय जगत में 1993 से सतत रंगकर्म में सक्रिय हैं इसलिए किसी परिचय के मोहताज नहीं हैं| इनका परिचय यही है कि,इन्होंने लगभग 130 नाटक और 1000 से ज्यादा शो में काम किया है। 11 बार राष्ट्रीय प्रतिनिधित्व नाट्य निर्देशक के रूप में लगभग 35 कार्यशालाएं,10 लघु फिल्म और 3 हिन्दी फीचर फिल्म भी इनके खाते में है। आपने एलएलएम सहित एमबीए भी किया है। इंदौर में ही रहकर अभिनय प्रशिक्षण देते हैं। 10 साल से नेपथ्य नाट्य समूह में मुम्बई,गोवा और इंदौर में अभिनय अकादमी में लगातार अभिनय प्रशिक्षण दे रहे श्री खत्री धारावाहिकों और फिल्म लेखन में सतत कार्यरत हैं।

 
0 0

matruadmin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

उम्र भर की वफा से हाथ क्या आया मेरे

Sat Mar 9 , 2019
उम्र भर की वफा से हाथ क्या आया मेरे दश्त-ए-तनहाई में कोई न साथ था मेरे ========================== यक-ब-यक आज मिले भी तो अजनबी बनकर हुआ करते थे कल तलक जो आशना मेरे ========================== खिलौना जान के हर कोई खेल जाता है जाने कब समझेगी जज़्बात ये दुनिया मेरे ========================== मेरी […]

Founder and CEO

Dr. Arpan Jain

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ इन्दौर (म.प्र.) से खबर हलचल न्यूज के सम्पादक हैं, और पत्रकार होने के साथ-साथ शायर और स्तंभकार भी हैं। श्री जैन ने आंचलिक पत्रकारों पर ‘मेरे आंचलिक पत्रकार’ एवं साझा काव्य संग्रह ‘मातृभाषा एक युगमंच’ आदि पुस्तक भी लिखी है। अविचल ने अपनी कविताओं के माध्यम से समाज में स्त्री की पीड़ा, परिवेश का साहस और व्यवस्थाओं के खिलाफ तंज़ को बखूबी उकेरा है। इन्होंने आलेखों में ज़्यादातर पत्रकारिता का आधार आंचलिक पत्रकारिता को ही ज़्यादा लिखा है। यह मध्यप्रदेश के धार जिले की कुक्षी तहसील में पले-बढ़े और इंदौर को अपना कर्म क्षेत्र बनाया है। बेचलर ऑफ इंजीनियरिंग (कम्प्यूटर साइंस) करने के बाद एमबीए और एम.जे.की डिग्री हासिल की एवं ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियों’ पर शोध किया है। कई पत्रकार संगठनों में राष्ट्रीय स्तर की ज़िम्मेदारियों से नवाज़े जा चुके अर्पण जैन ‘अविचल’ भारत के २१ राज्यों में अपनी टीम का संचालन कर रहे हैं। पत्रकारों के लिए बनाया गया भारत का पहला सोशल नेटवर्क और पत्रकारिता का विकीपीडिया (www.IndianReporters.com) भी जैन द्वारा ही संचालित किया जा रहा है।लेखक डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं तथा देश में हिन्दी भाषा के प्रचार हेतु हस्ताक्षर बदलो अभियान, भाषा समन्वय आदि का संचालन कर रहे हैं।