श्रद्धांजलि 

Read Time0Seconds
sohan
65 वर्षों की कटीली राहो पर सिद्धान्तों के साथ चल कर एक विचारधारा को जीवन प्रयत्न जिंदा रखने वाली शख्सियत का हमारे बीच से यूँ चले जाना निश्चित ही एक स्वर्णिम सैद्धान्तिक युग का अंत होने के समान ही है।
क्योंकि श्रद्धेय अटल जी किसी एक पार्टी या विचारधारा का नाम नहीं बल्कि राष्ट्र नव चेतना जन जागृति व राष्ट्रप्रेम का एक जीवंत उदाहरण था।
इसीलिए वह विभिन्न विचारधाराओं में भी एक सर्वमान्य नेता के रूप में सदैव स्वीकार्य थे। जिनका मकसद राज धर्म को सर्वोपरी मानते हुए ही आगे बढ़ना था।जो उनकी एक कविता में भी झलकता था की क्या खोया क्या पाया।जीवन की ढलने लगी सांझ
उमर घट गई
डगर कट गई
जीवन की ढलने लगी सांझ।
बदले हैं अर्थ
शब्द हुए व्यर्थ
शान्ति बिना खुशियाँ हैं बांझ।
सपनों में मीत
बिखरा संगीत
और यह एक शाश्नत सार्वभौमिक सत्य भी है की सत्तायें कभी शतायु नहीं हुई ये एक क्रमानुसार परिवर्तित होती रहती है| उसी प्रकार जिस तरह से मृत्यु भी एक अटल सत्य ही है। बस रह जाती है उसकी खट्टी मिठी यादें जिनकी समीक्षा उपरांत ही परितोषिक का निर्धारण भी होता है।
और उसी का सारांश होता है जीवन का सार की हमने देह त्याग कर क्या खोया क्या पाया।
युग पुरुष वाजपेयी जी को अश्रुपूरित श्रद्धांजलि
#सोहन काग अजन्दा
परिचय:
नाम: सोहन काग 
पिता: स्व श्री मेघाजी काग
शिक्षा:  स्नातक
अनुभव:
1998 से आज तक दैनिक जागरण
वर्तमान
दैनिक-  संझा लोकस्वामी,
समाचार पत्र- दैनिक चैतन्य लोक
वेब चैनल- खबर हलचल न्यूज़
साप्ताहिक अपराधों की दुनिया
उपलब्धि:
साहसिक उपहार केंद्रीय विधि मंत्री व सिर्वी महासभा के राष्ट्रिय अध्यक्ष श्री पी पी चौधरी बिलाड़ा राजस्थान द्वारा सम्मानित|
धार (मध्यप्रदेश) 
0 0

matruadmin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

त्रिलोक सिंह ठकुरेला की कुण्डलियाँ

Thu Aug 30 , 2018
जिनकी कृपा कटाक्ष से ,प्रज्ञा , बुद्धि , विचार । शब्द,गीत,संगीत ,स्वर ,विद्या का अधिकार ।। विद्या का अधिकार ,ज्ञान ,विज्ञानं ,प्रेम -रस । हर्ष , मान ,सम्मान ,सम्पदा जग की सरबस । ‘ ठकुरेला ‘ समृद्धि , दया से मिलती इनकी । मंगल सभी सदैव , शारदा प्रिय हैं […]

Founder and CEO

Dr. Arpan Jain

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ इन्दौर (म.प्र.) से खबर हलचल न्यूज के सम्पादक हैं, और पत्रकार होने के साथ-साथ शायर और स्तंभकार भी हैं। श्री जैन ने आंचलिक पत्रकारों पर ‘मेरे आंचलिक पत्रकार’ एवं साझा काव्य संग्रह ‘मातृभाषा एक युगमंच’ आदि पुस्तक भी लिखी है। अविचल ने अपनी कविताओं के माध्यम से समाज में स्त्री की पीड़ा, परिवेश का साहस और व्यवस्थाओं के खिलाफ तंज़ को बखूबी उकेरा है। इन्होंने आलेखों में ज़्यादातर पत्रकारिता का आधार आंचलिक पत्रकारिता को ही ज़्यादा लिखा है। यह मध्यप्रदेश के धार जिले की कुक्षी तहसील में पले-बढ़े और इंदौर को अपना कर्म क्षेत्र बनाया है। बेचलर ऑफ इंजीनियरिंग (कम्प्यूटर साइंस) करने के बाद एमबीए और एम.जे.की डिग्री हासिल की एवं ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियों’ पर शोध किया है। कई पत्रकार संगठनों में राष्ट्रीय स्तर की ज़िम्मेदारियों से नवाज़े जा चुके अर्पण जैन ‘अविचल’ भारत के २१ राज्यों में अपनी टीम का संचालन कर रहे हैं। पत्रकारों के लिए बनाया गया भारत का पहला सोशल नेटवर्क और पत्रकारिता का विकीपीडिया (www.IndianReporters.com) भी जैन द्वारा ही संचालित किया जा रहा है।लेखक डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं तथा देश में हिन्दी भाषा के प्रचार हेतु हस्ताक्षर बदलो अभियान, भाषा समन्वय आदि का संचालन कर रहे हैं।